आन्दोलन
     
  • एम्स मुद्दे पर प्रदेश सरकार की लापरवाही और गलत बयानबाजी को लेकर आन्दोलन : : 21/03/2016

    एम्स मुद्दे पर प्रदेश सरकार की लापरवाही और गलत बयानबाजी अक्षम्य है। अगर एम्स को गोरखपुर से अन्यत्र स्थानान्तरित करने की साजिश हुई तो इसके भीषण परिणाम होंगे। उक्त चेतावनी गोरक्षपीठाधीश्वर एवं गोरखपुर के सांसद महन्त योगी आदित्यनाथ जी ने एम्स मुद्दे पर भारतीय जनता पार्टी, हिन्दु युवा वाहिनी तथा अन्य सामाजिक-सांस्कृतिक एवं व्यापारिक संगठनों द्वारा निकाली गई पद-यात्रा के उपरान्त जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित करते हुए कहीं। उन्होंने कहा कि गोरखपुर पूर्वी उत्तर प्रदेश का हृदय स्थल है। गोरखपुर में एम्स की स्थापना न केवल पूर्वी उ0प्र0 के विकास से जुड़ा है बल्कि गोरखपुर, बस्ती तथा आजमगढ़ मण्डल के साथ ही देवीपाटन मण्डल, पश्चिमोत्तर बिहार तथा नेपाल की तराई का एक बड़े भूभाग की लगभग 5 करोड़ की आबादी को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की दृष्टि से भी आवश्यक है। इसलिये गोरखपुर को ध्यान में रखकर पूर्वी उत्तर प्रदेश के 12 सांसदों ने फरवरी,2015 में मेरे साथ भारत के मा0 प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी से एम्स मुद्दे पर मिले थे। केन्द्र सरकार ने पूर्वी उत्तर प्रदेश के लिए स्वीकृत एम्स गोरखपुर को उपलब्ध कराया। एम्स

    Close
    एम्स मुद्दे पर प्रदेश सरकार की लापरवाही और गलत बयानबाजी को लेकर आन्दोलन : 21/03/2016

    एम्स मुद्दे पर प्रदेश सरकार की लापरवाही और गलत बयानबाजी अक्षम्य है। अगर एम्स को गोरखपुर से अन्यत्र स्थानान्तरित करने की साजिश हुई तो इसके भीषण परिणाम होंगे। उक्त चेतावनी गोरक्षपीठाधीश्वर एवं गोरखपुर के सांसद महन्त योगी आदित्यनाथ जी ने एम्स मुद्दे पर भारतीय जनता पार्टी, हिन्दु युवा वाहिनी तथा अन्य सामाजिक-सांस्कृतिक एवं व्यापारिक संगठनों द्वारा निकाली गई पद-यात्रा के उपरान्त जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित करते हुए कहीं। उन्होंने कहा कि गोरखपुर पूर्वी उत्तर प्रदेश का हृदय स्थल है। गोरखपुर में एम्स की स्थापना न केवल पूर्वी उ0प्र0 के विकास से जुड़ा है बल्कि गोरखपुर, बस्ती तथा आजमगढ़ मण्डल के साथ ही देवीपाटन मण्डल, पश्चिमोत्तर बिहार तथा नेपाल की तराई का एक बड़े भूभाग की लगभग 5 करोड़ की आबादी को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की दृष्टि से भी आवश्यक है। इसलिये गोरखपुर को ध्यान में रखकर पूर्वी उत्तर प्रदेश के 12 सांसदों ने फरवरी,2015 में मेरे साथ भारत के मा0 प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी से एम्स मुद्दे पर मिले थे। केन्द्र सरकार ने पूर्वी उत्तर प्रदेश के लिए स्वीकृत एम्स गोरखपुर को उपलब्ध कराया। एम्स


    संपूर्ण देखें
  • महानगर की साफ-सफाई, अवैध बूचड़खानों तथा जनता से जुड़ी बुनियादी सुविधाओं की मांग को लेकर आन्दोलन : 19/05/2015

    नगर निगम जनता के प्रति अपनी कार्यप्रणाली को सुधारे और जनता के प्रति जवाहदेह बनें। लोकतंत्र में अगर जनभावनाओं का निरादर हुआ तो ऐसे शासन-प्रशासन की दुर्गति तय हैं। उक्त चेतावनी गोरक्षपीठाधीश्वर एवं गोरखपुर के सांसद महन्त योगी आदित्यनाथ जी ने भारतीय जनता पार्टी, हिन्दु युवा वाहिनी, व्यापार मण्डल तथा विभिन्न सामाजिक-सांस्कृतिक संगठनों की ओर से महानगर की साफ-सफाई, अवैध बूचड़खानों तथा जनता से जुड़ी बुनियादी सुविधाओं की मांग को लेकर आयोजित धरना-प्रदर्शन को सम्बोधित करते हुए नगर निगम प्रशासन को दी। उन्होंने कहा कि नगर विकास मंत्रालय की भ्रष्ट कार्यप्रणाली का खामियाजा गोरखपुर महानगर और प्रदेश की जनता को भुगतना पड़ रहा है। नगर निगम, विकास प्राधिकरण तथा आवास विकास परिषद् नगर विकास मंत्रालय के अधीन है। तीनों लूटखसोट, अराजकता और भ्रष्टाचार के अड्डे बने गये है। जब गोरखपुर के ठेके-पट्टे और साफ-सफाई की व्यवस्था लखनऊ से तय होगी तो स्वाभाविक रूप से व्यवस्था चरमरा जायेगी। लेकिन इस अराजकता के खिलाफ आवाज उठाने की जिम्मेदारी नगर निगम के चुने गये जनप्रतिनिधियों की है। दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है कि पूरा महानगर गन्दगी में तब्दील है, हर चौराहों पर मुर्गे-बकरें और निरीह पशुओं को कांटा जा रहा है। उससे होने वाले प्रदूषण और मानव स्वास्थ्य के खिलाफ नगर निगम प्रशासन पूरी तरह मौन है। नगर निगम के जिम्मेदार प्रतिनिधियों ने अपने कर्त्तव्यों का अच्छी तरह से निर्वहन किया होता तो महानगर की यह दुर्गति नही होती। महानगर में जगह-जगह गन्दगी के ढेर, हर चौराहे पर अवैध बूचड़ खाने, उजरी ...

    Close
    महानगर की साफ-सफाई, अवैध बूचड़खानों तथा जनता से जुड़ी बुनियादी सुविधाओं की मांग को लेकर आन्दोलन 19/05/2015

    नगर निगम जनता के प्रति अपनी कार्यप्रणाली को सुधारे और जनता के प्रति जवाहदेह बनें। लोकतंत्र में अगर जनभावनाओं का निरादर हुआ तो ऐसे शासन-प्रशासन की दुर्गति तय हैं। उक्त चेतावनी गोरक्षपीठाधीश्वर एवं गोरखपुर के सांसद महन्त योगी आदित्यनाथ जी ने भारतीय जनता पार्टी, हिन्दु युवा वाहिनी, व्यापार मण्डल तथा विभिन्न सामाजिक-सांस्कृतिक संगठनों की ओर से महानगर की साफ-सफाई, अवैध बूचड़खानों तथा जनता से जुड़ी बुनियादी सुविधाओं की मांग को लेकर आयोजित धरना-प्रदर्शन को सम्बोधित करते हुए नगर निगम प्रशासन को दी। उन्होंने कहा कि नगर विकास मंत्रालय की भ्रष्ट कार्यप्रणाली का खामियाजा गोरखपुर महानगर और प्रदेश की जनता को भुगतना पड़ रहा है। नगर निगम, विकास प्राधिकरण तथा आवास विकास परिषद् नगर विकास मंत्रालय के अधीन है। तीनों लूटखसोट, अराजकता और भ्रष्टाचार के अड्डे बने गये है। जब गोरखपुर के ठेके-पट्टे और साफ-सफाई की व्यवस्था लखनऊ से तय होगी तो स्वाभाविक रूप से व्यवस्था चरमरा जायेगी। लेकिन इस अराजकता के खिलाफ आवाज उठाने की जिम्मेदारी नगर निगम के चुने गये जनप्रतिनिधियों की है। दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है कि पूरा महानगर गन्दगी में तब्दील है, हर चौराहों पर मुर्गे-बकरें और निरीह पशुओं को कांटा जा रहा है। उससे होने वाले प्रदूषण और मानव स्वास्थ्य के खिलाफ नगर निगम प्रशासन पूरी तरह मौन है। नगर निगम के जिम्मेदार प्रतिनिधियों ने अपने कर्त्तव्यों का अच्छी तरह से निर्वहन किया होता तो महानगर की यह दुर्गति नही होती। महानगर में जगह-जगह गन्दगी के ढेर, हर चौराहे पर अवैध बूचड़ खाने, उजरी ...


    संपूर्ण देखें
  • जनपद के विभिन्न मार्गों की खस्ताहाल स्थिति को लेकर आन्दोलन : 03/07/2014

    गोरक्षपीठ के उत्तराधिकारी एवं गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ जी महाराज ने गोरखपुर-पिपराइच मार्ग समेत जनपद की विभिन्न मार्गो की खस्ताहाल स्थिति को लेकर पिपराइच कस्बे से सटे ताज पिपरा चौराहे पर धरने का नेतृत्व किया। उन्होंने चेतावनी दी कि एक सप्ताह के अन्दर गोरखपुर जनपद की सभी खस्ताहाल सड़के यातायात के अनुकूल नही हुई तथा विद्युत की अनियमित और अघोषित कटौती बन्द नही हुई तो उसके लिये जिम्मेदार अधिकारी स्वंय अपना बोरिया-बिस्तर बांध लें। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजनान्तर्गत जनपद में स्वीकृत सभी सड़के गढ्ढों में तब्दील हो चुकी है। पिछले तीन वर्षो से इन सड़को पर मरम्मत तक नही हुआ जबकि वर्ष 2009-10 में स्वीकृत ये सड़के भारत सरकार ने इस शर्त से धनराशि उपलब्ध कराई थी कि हर 6 माह में प्रदेश सरकार इन सड़को का मरम्मत करके यातायात के योग्य बनाये रखेंगी। योगी जी ने धरना स्थल पर मौजूद जिला प्रशासन और लोक निर्माण विभाग के अधिकारी को स्पष्ट चेतावनी दी कि अगर आज ही पिपराइच-गोरखपुर मार्ग के मरम्मत का कार्य प्रारम्भ नही हुआ तथा एक सप्ताह के अन्दर अन्य सभी मार्ग पिपराइच-कुसम्ही मार्ग, पिपराइच-बरगदही मार्ग,

    Close
    जनपद के विभिन्न मार्गों की खस्ताहाल स्थिति को लेकर आन्दोलन 03/07/2014

    गोरक्षपीठ के उत्तराधिकारी एवं गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ जी महाराज ने गोरखपुर-पिपराइच मार्ग समेत जनपद की विभिन्न मार्गो की खस्ताहाल स्थिति को लेकर पिपराइच कस्बे से सटे ताज पिपरा चौराहे पर धरने का नेतृत्व किया। उन्होंने चेतावनी दी कि एक सप्ताह के अन्दर गोरखपुर जनपद की सभी खस्ताहाल सड़के यातायात के अनुकूल नही हुई तथा विद्युत की अनियमित और अघोषित कटौती बन्द नही हुई तो उसके लिये जिम्मेदार अधिकारी स्वंय अपना बोरिया-बिस्तर बांध लें। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजनान्तर्गत जनपद में स्वीकृत सभी सड़के गढ्ढों में तब्दील हो चुकी है। पिछले तीन वर्षो से इन सड़को पर मरम्मत तक नही हुआ जबकि वर्ष 2009-10 में स्वीकृत ये सड़के भारत सरकार ने इस शर्त से धनराशि उपलब्ध कराई थी कि हर 6 माह में प्रदेश सरकार इन सड़को का मरम्मत करके यातायात के योग्य बनाये रखेंगी। योगी जी ने धरना स्थल पर मौजूद जिला प्रशासन और लोक निर्माण विभाग के अधिकारी को स्पष्ट चेतावनी दी कि अगर आज ही पिपराइच-गोरखपुर मार्ग के मरम्मत का कार्य प्रारम्भ नही हुआ तथा एक सप्ताह के अन्दर अन्य सभी मार्ग पिपराइच-कुसम्ही मार्ग, पिपराइच-बरगदही मार्ग,


    संपूर्ण देखें
  • पुलिस के दमनात्मक रवैये के विरोध में आन्दोलन : 13/06/2014

    गोरक्षपीठ के उत्तराधिकारी एवं गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ जी महाराज जनहित के अलावा अन्य क्षेत्रों में किसी कारण से आमजन का अहित होने की स्थिति में चुप नहीं बैठते। हाल ही में पुलिस द्वारा जो दमनकारी रुख अपनाया गया उसके विरोध में डीएम कार्यालय पर सांकेतिक धरना भी आयोजित किया गया। धरने को सम्बोधित करते हुए योगी जी ने कहा कि गोरखपुर पुलिस रक्षक के भेष में भक्षक की भूमिका निभा रही है। आम जनता की रक्षा करना तो दूर वह पीड़ितों को ही प्रताड़ित कर रही है और अपराधी बेखौफ घूम रहे हैं। यदि गोरखपुर पुलिस का दमनात्मक रवैया नहीं बदला तो अत्याचार, अनाचार और उत्पीड़न के विरोध में जनता सड़कों पर भीषण संघर्ष करेगी, जिसकी पूरी जिम्मेदारी गोरखपुर प्रशासन की होगी। उन्होंने कहा कि पूरा प्रदेश जंगलराज से झुलस रहा है, थाने बिक रहे हैं। सत्ता के संरक्षण में समाजवादी पार्टी के गुण्डे पुलिस की मिलीभगत से आतंक फैला कर धनदोहन कर रहे हैं। गोरखपुर महानगर एवं जनपद में घट रहीं लूटपाट, अपहरण, हत्या, डकैती, छिनैती, दुराचार, अवैध खनन की घटनाएँ इसका प्रमाण हैं। ऐसे अनेक मामले संज्ञान में आये हैं जिनमें पुलिस ने अपने अपराध को छिपाने के लिए पीड़ित पक्ष पर ही मुकदमा

    Close
    पुलिस के दमनात्मक रवैये के विरोध में आन्दोलन 13/06/2014

    गोरक्षपीठ के उत्तराधिकारी एवं गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ जी महाराज जनहित के अलावा अन्य क्षेत्रों में किसी कारण से आमजन का अहित होने की स्थिति में चुप नहीं बैठते। हाल ही में पुलिस द्वारा जो दमनकारी रुख अपनाया गया उसके विरोध में डीएम कार्यालय पर सांकेतिक धरना भी आयोजित किया गया। धरने को सम्बोधित करते हुए योगी जी ने कहा कि गोरखपुर पुलिस रक्षक के भेष में भक्षक की भूमिका निभा रही है। आम जनता की रक्षा करना तो दूर वह पीड़ितों को ही प्रताड़ित कर रही है और अपराधी बेखौफ घूम रहे हैं। यदि गोरखपुर पुलिस का दमनात्मक रवैया नहीं बदला तो अत्याचार, अनाचार और उत्पीड़न के विरोध में जनता सड़कों पर भीषण संघर्ष करेगी, जिसकी पूरी जिम्मेदारी गोरखपुर प्रशासन की होगी। उन्होंने कहा कि पूरा प्रदेश जंगलराज से झुलस रहा है, थाने बिक रहे हैं। सत्ता के संरक्षण में समाजवादी पार्टी के गुण्डे पुलिस की मिलीभगत से आतंक फैला कर धनदोहन कर रहे हैं। गोरखपुर महानगर एवं जनपद में घट रहीं लूटपाट, अपहरण, हत्या, डकैती, छिनैती, दुराचार, अवैध खनन की घटनाएँ इसका प्रमाण हैं। ऐसे अनेक मामले संज्ञान में आये हैं जिनमें पुलिस ने अपने अपराध को छिपाने के लिए पीड़ित पक्ष पर ही मुकदमा


    संपूर्ण देखें
  • गन्ना किसानों एवं जीडीए द्वारा पीड़ित किसानों की समस्याओं के हल हेतु आन्दोलन : 22/02/2014

    गोरक्षपीठ के उत्तराधिकारी एवं गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ जी महाराज महानगर ही नहीं, आसपास के ग्रामीण किसानों तथा जनपद व पूर्वी उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए भी अपनी आवाज बुलन्द करते रहे हैं। 22 फरवरी 2014 को जीडीए द्वारा पीड़ित किसानों की ओर से जिलाधिकारी कार्यालय पर आयोजित धरना कार्यक्रम में भी वे सम्मिलित हुए एवं प्रशासन से समस्याओं के समाधान पर बल दिया। यह चेतावनी भी दी कि गोरखपुर विकास प्राधिकरण से पीड़ित किसानों तथा गन्ना किसानों की समस्या का समाधान अविलम्ब हो। विकास के नाम पर चल रही लूटखसोट का शिकार अगर किसानों को बनाया गया तो इसका मुॅहतोड जवाब दिया जायेगा। धरने पर मानबेला, मिर्जापुर, झुंगिया, जंगल तिनकोनिया, खोराबार आदि क्षेत्र के किसान उपस्थित रहे। योगी जी ने कहा कि प्रदेश सरकार किसान विरोधी है, अब इसमें कोई संशय नहीं होना चाहिये। 15 फरवरी को मानबेला में समाजवादी पार्टी की रैली में मौजूद प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा गोरखपुर विकास प्राधिकरण से पीड़ित किसानों की समस्या के समाधान के सम्बन्ध में न तो कुछ कहा गया और न ही उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों के गन्ना

    Close
    गन्ना किसानों एवं जीडीए द्वारा पीड़ित किसानों की समस्याओं के हल हेतु आन्दोलन 22/02/2014

    गोरक्षपीठ के उत्तराधिकारी एवं गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ जी महाराज महानगर ही नहीं, आसपास के ग्रामीण किसानों तथा जनपद व पूर्वी उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए भी अपनी आवाज बुलन्द करते रहे हैं। 22 फरवरी 2014 को जीडीए द्वारा पीड़ित किसानों की ओर से जिलाधिकारी कार्यालय पर आयोजित धरना कार्यक्रम में भी वे सम्मिलित हुए एवं प्रशासन से समस्याओं के समाधान पर बल दिया। यह चेतावनी भी दी कि गोरखपुर विकास प्राधिकरण से पीड़ित किसानों तथा गन्ना किसानों की समस्या का समाधान अविलम्ब हो। विकास के नाम पर चल रही लूटखसोट का शिकार अगर किसानों को बनाया गया तो इसका मुॅहतोड जवाब दिया जायेगा। धरने पर मानबेला, मिर्जापुर, झुंगिया, जंगल तिनकोनिया, खोराबार आदि क्षेत्र के किसान उपस्थित रहे। योगी जी ने कहा कि प्रदेश सरकार किसान विरोधी है, अब इसमें कोई संशय नहीं होना चाहिये। 15 फरवरी को मानबेला में समाजवादी पार्टी की रैली में मौजूद प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा गोरखपुर विकास प्राधिकरण से पीड़ित किसानों की समस्या के समाधान के सम्बन्ध में न तो कुछ कहा गया और न ही उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों के गन्ना


    संपूर्ण देखें
  • 12345678

सर्वश्रेष्ठ समीक्षा

आपका मत

आप के विचार

  • बूचड़ खाना बंद करने पर धन्यावाद

    राजेश patodi हम यह चाहते हे की यह नियम पुरे भारत देश शक्ति से लागु किया जाये हम आशा करते हे की आप की यह मेहनत जरूर रंग लाएगी जय हिन्द जय भारत ,राजेश पटौदी म.प. इंदौर
  • शिक्षा

    अभिशेष एक अपील मोदी जी और योगी जी से की प्राइवेट स्कूल की फीस पर कोई लगाम नहीं है और उनके स्कूल मे पढ़ाया जाने वाला कोर्स बाजार भाव से पांच गुना दामों मे बेचा जा रहा है । आपसे निवेदन है कि इन दोनों बातो पर अपना ध्यान दे ।
  • संपूर्ण देखें