समाचार
वर्ष : माह :
  • राष्ट्रीय सहारा : 18/11/2017 लखनऊ (एसएनबी)। माइक्रोसाफ्ट के मालिक बिल गेट्स ने शुक्रवार को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर स्वास्य और शिक्षा के क्षेत्र में निवेश की इच्छा जतायी। करीब 50 मिनट चली मुलाकात में श्री गेट्स ने मुख्यमंत्री से राज्य में निवेश की इच्छा जतायी। इसके साथ ही स्वास्य, शिक्षा, स्वच्छता अभियान, कुपोषण, महिला सशक्तिकरण और इंसेफ्लाइटिस को काबू करने के लिए मदद का आश्वासन दिया।श्री गेट्स की संस्था ‘‘बिलगेट्स फाउंडेशन’ उत्तर प्रदेश में पहले से ही काम कर रही है। वर्ष 2012 में पूर्व की सरकार से एक समझौते के तहत फाउंडेशन स्वास्य और शिक्षा समेत कई अन्य क्षेत्रों में काम कर रहा है। श्री गेट्स ने कहा कि उन्हें श्री योगी से मिलकर खुशी हुई है। उनकी संस्था इस राज्य में और बेहतर काम करने की इच्छुक है। श्री गेट्स से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि फाउंडेशन और राज्य सरकार मिलकर काम करना चाहते हैं। इससे सूबे की जनता को काफी फायदा मिलेगा। उन्होंने कहा कि यह सरकार मातृ एवं नवजात शिशु तथा बच्चों के स्वास्य सम्बन्धी सुविधाओं, टीकाकरण सहित स्वास्य एवं कृषि सम्बन्धी विभिन्न कार्यक्रमों में तकनीकी, प्रबन्धकीय तथा कार्यक्रम डिजाइन में अगले पांच साल तक सहयोग लेने के लिए संस्था के साथ सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर करेगी। मुख्यमंत्री ने श्री बिल गेट्स की संस्था के पूर्व में दिये सहयोग की सराहना की। मुख्य सचिव राजीव कुमार ने कहा कि शीघ्र ही विभागवार कार्यक्रमों एवं योजनाओं की प्राथमिकता तय करते हुए बिल एण्ड मिलिण्डा गेट्स फाउण्डेशन के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किया जाएगा। इस मौके पर कृषि उत्पादन आयुक्त राज प्रताप सिंह, अपर मुख्य सचिव आईटी तथा इलेक्ट्रॉनिक्स संजीव सरन, अपर मुख्य सचिव पंचायती राज चंचल कुमार तिवारी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त डॉ. अनूप चन्द्र पाण्डेय, प्रमुख सचिव स्वास्य प्रशान्त त्रिवेदी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एसपी गोयल, प्रमुख सचिव कृषि अमित मोहन प्रसाद, सचिव बाल विकास एवं पुष्टाहार श्रीमती अनीता सी मेश्राम सहित कई अधिकारी तथा बिल एण्ड मिलिण्डा गेट्स फाउण्डेशन के डॉ. नचीकेत मोर, सुश्री लिज क्लाइमा और देवेन्द्र खण्डैत भी मौजूद थे।
    Close
    स्वास्य व शिक्षा क्षेत्र में निवेश करेंगे बिल गेट्स
    राष्ट्रीय सहारा 18/11/2017
    लखनऊ (एसएनबी)। माइक्रोसाफ्ट के मालिक बिल गेट्स ने शुक्रवार को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर स्वास्य और शिक्षा के क्षेत्र में निवेश की इच्छा जतायी। करीब 50 मिनट चली मुलाकात में श्री गेट्स ने मुख्यमंत्री से राज्य में निवेश की इच्छा जतायी। इसके साथ ही स्वास्य, शिक्षा, स्वच्छता अभियान, कुपोषण, महिला सशक्तिकरण और इंसेफ्लाइटिस को काबू करने के लिए मदद का आश्वासन दिया।श्री गेट्स की संस्था ‘‘बिलगेट्स फाउंडेशन’ उत्तर प्रदेश में पहले से ही काम कर रही है। वर्ष 2012 में पूर्व की सरकार से एक समझौते के तहत फाउंडेशन स्वास्य और शिक्षा समेत कई अन्य क्षेत्रों में काम कर रहा है। श्री गेट्स ने कहा कि उन्हें श्री योगी से मिलकर खुशी हुई है। उनकी संस्था इस राज्य में और बेहतर काम करने की इच्छुक है। श्री गेट्स से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि फाउंडेशन और राज्य सरकार मिलकर काम करना चाहते हैं। इससे सूबे की जनता को काफी फायदा मिलेगा। उन्होंने कहा कि यह सरकार मातृ एवं नवजात शिशु तथा बच्चों के स्वास्य सम्बन्धी सुविधाओं, टीकाकरण सहित स्वास्य एवं कृषि सम्बन्धी विभिन्न कार्यक्रमों में तकनीकी, प्रबन्धकीय तथा कार्यक्रम डिजाइन में अगले पांच साल तक सहयोग लेने के लिए संस्था के साथ सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर करेगी। मुख्यमंत्री ने श्री बिल गेट्स की संस्था के पूर्व में दिये सहयोग की सराहना की। मुख्य सचिव राजीव कुमार ने कहा कि शीघ्र ही विभागवार कार्यक्रमों एवं योजनाओं की प्राथमिकता तय करते हुए बिल एण्ड मिलिण्डा गेट्स फाउण्डेशन के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किया जाएगा। इस मौके पर कृषि उत्पादन आयुक्त राज प्रताप सिंह, अपर मुख्य सचिव आईटी तथा इलेक्ट्रॉनिक्स संजीव सरन, अपर मुख्य सचिव पंचायती राज चंचल कुमार तिवारी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त डॉ. अनूप चन्द्र पाण्डेय, प्रमुख सचिव स्वास्य प्रशान्त त्रिवेदी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एसपी गोयल, प्रमुख सचिव कृषि अमित मोहन प्रसाद, सचिव बाल विकास एवं पुष्टाहार श्रीमती अनीता सी मेश्राम सहित कई अधिकारी तथा बिल एण्ड मिलिण्डा गेट्स फाउण्डेशन के डॉ. नचीकेत मोर, सुश्री लिज क्लाइमा और देवेन्द्र खण्डैत भी मौजूद थे।


  • हिन्दुस्तान : 17/11/2017 लखनऊ। विशेष संवाददाता : अयोध्या में राम मंदिर- बाबरी मस्जिद विवाद पर श्री श्री रविशंकर की मध्यस्थता की कोशिश पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि अब बातचीत में देर हो चुकी है। वह गुरुवार को सुबह अपने आवास पर पत्रकारों से बात कर रहे थे। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि श्री श्री रविशंकर से मुलाकात के दौरान राम मंदिर के मसले पर विस्तार से कोई बातचीत नहीं हुई। उन्होंने कहाकि चूंकि पांच दिसम्बर से सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई है। यह रोज होनी है, ऐसे में सुप्रीम कोर्ट से ही फैसला होने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि मुङो लगता है कि अगर बातचीत से समस्या का समाधान होना होता तो अब तक हो गया होता। योगी ने कहा कि सरकार इसमें पार्टी नहीं है। मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार जब अयोध्या गया था तब मैंने यह बात कही थी कि अगर दोनों पक्ष किसी निष्कर्ष पर पहुंचते हैं और सुलह के साथ एक स्वर से आते हैं तो सरकार विचार कर सकती है।
    Close
    योगी बोले-मध्यस्थता के लिए बहुत देर हो चुकी है
    हिन्दुस्तान 17/11/2017
    लखनऊ। विशेष संवाददाता : अयोध्या में राम मंदिर- बाबरी मस्जिद विवाद पर श्री श्री रविशंकर की मध्यस्थता की कोशिश पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि अब बातचीत में देर हो चुकी है। वह गुरुवार को सुबह अपने आवास पर पत्रकारों से बात कर रहे थे। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि श्री श्री रविशंकर से मुलाकात के दौरान राम मंदिर के मसले पर विस्तार से कोई बातचीत नहीं हुई। उन्होंने कहाकि चूंकि पांच दिसम्बर से सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई है। यह रोज होनी है, ऐसे में सुप्रीम कोर्ट से ही फैसला होने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि मुङो लगता है कि अगर बातचीत से समस्या का समाधान होना होता तो अब तक हो गया होता। योगी ने कहा कि सरकार इसमें पार्टी नहीं है। मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार जब अयोध्या गया था तब मैंने यह बात कही थी कि अगर दोनों पक्ष किसी निष्कर्ष पर पहुंचते हैं और सुलह के साथ एक स्वर से आते हैं तो सरकार विचार कर सकती है।


  • दैनिक जागरण : 16/11/2017 राज्य ब्यूरो, लखनऊ : एनसीआर के साथ ही राजधानी लखनऊ में बढ़ रहे वायु प्रदूषण को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार रात वरिष्ठ अफसरों के साथ बैठक कर शहरी क्षेत्रों में कूड़ा जलाने पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि नगर निकाय यह सुनिश्चित करें कि कूड़ा किसी भी हाल में न जलाया जाए। उन्होंने सड़कों पर वाहनों से उड़ने वाली धूल-मिट्टी से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए नगर निगम व फायर ब्रिगेड के टैंकरों से पानी का छिड़काव करवाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने ट्रैफिक का प्रभावी संचालन सुनिश्चित करने के लिए कहा। ट्रैफिक जाम न लगे इसके लिए प्रभावी कदम उठाए जाएं। वाहनों से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए भी जरूरी कार्रवाई की जाए। वायु प्रदूषण के मामले में राजधानी लखनऊ की स्थिति बिगड़ने के बाद मुख्यमंत्री ने संबंधित विभागों के मंत्रियों व अफसरों की बैठक बुलाई थी। शास्त्री भवन में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि पुराने वाहन अधिक प्रदूषण फैलाते हैं इसलिए पुराने वाहनों की समीक्षा की जाए। आवश्यकता पड़ने पर इन्हें हटाया जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि अपशिष्ट (पराली) जलाने से रोकने के लिए डीएम को निर्देशित किया जाए। किसानों को इस बारे में जागरूक किया जाए। उन्हें इसके जलाने से होने वाले नुकसान के बारे में बताया जाए। कृषि विभाग इसके लिए जागरूकता अभियान चलाए। बैठक में नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना, कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, पर्यावरण राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार उपेन्द्र तिवारी, प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार, प्रमुख सचिव पर्यावरण रेणुका कुमार, प्रमुख सचिव सूचना अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव नगर विकास मनोज कुमार सिंह सहित अन्य अफसर मौजूद थे।आइआइटी की मदद से लखनऊ में करायी जाए कृत्रिम बारिश : योगी ने कहा कि लखनऊ में वायु प्रदूषण से निपटने के लिए आइआइटी कानपुर की मदद से नई तकनीक के जरिये कृत्रिम बारिश करायी जाए। इससे राजधानी के वायु प्रदूषण पर नियंत्रण पाया जा सकता है। वायु प्रदूषण रोकने के लिए तकनीक का प्रयोग जरूरी है। बस अड्डों में बसों का प्रबंधन किया जाए ठीक : मुख्यमंत्री ने जाम से निपटने के लिए बस अड्डों में बसों को ठीक से खड़ा करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बसों के उलटा-सीधा खड़ा करने से बस अड्डों के आस-पास अक्सर जाम लगता है। एफएम रेडियो से किया जाए प्रचार : मुख्यमंत्री ने सूचना विभाग से कहा कि एफएम के साथ ही कम्युनिटी रेडियो के जरिए आम जनता को कूड़ा व पराली न जलाने के लिए जागरूक किया जाए।
    Close
    कूड़ा जलाने पर लगे पूरी तरह प्रतिबंध : योगी
    दैनिक जागरण 16/11/2017
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ : एनसीआर के साथ ही राजधानी लखनऊ में बढ़ रहे वायु प्रदूषण को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार रात वरिष्ठ अफसरों के साथ बैठक कर शहरी क्षेत्रों में कूड़ा जलाने पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि नगर निकाय यह सुनिश्चित करें कि कूड़ा किसी भी हाल में न जलाया जाए। उन्होंने सड़कों पर वाहनों से उड़ने वाली धूल-मिट्टी से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए नगर निगम व फायर ब्रिगेड के टैंकरों से पानी का छिड़काव करवाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने ट्रैफिक का प्रभावी संचालन सुनिश्चित करने के लिए कहा। ट्रैफिक जाम न लगे इसके लिए प्रभावी कदम उठाए जाएं। वाहनों से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए भी जरूरी कार्रवाई की जाए। वायु प्रदूषण के मामले में राजधानी लखनऊ की स्थिति बिगड़ने के बाद मुख्यमंत्री ने संबंधित विभागों के मंत्रियों व अफसरों की बैठक बुलाई थी। शास्त्री भवन में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि पुराने वाहन अधिक प्रदूषण फैलाते हैं इसलिए पुराने वाहनों की समीक्षा की जाए। आवश्यकता पड़ने पर इन्हें हटाया जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि अपशिष्ट (पराली) जलाने से रोकने के लिए डीएम को निर्देशित किया जाए। किसानों को इस बारे में जागरूक किया जाए। उन्हें इसके जलाने से होने वाले नुकसान के बारे में बताया जाए। कृषि विभाग इसके लिए जागरूकता अभियान चलाए। बैठक में नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना, कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, पर्यावरण राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार उपेन्द्र तिवारी, प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार, प्रमुख सचिव पर्यावरण रेणुका कुमार, प्रमुख सचिव सूचना अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव नगर विकास मनोज कुमार सिंह सहित अन्य अफसर मौजूद थे।आइआइटी की मदद से लखनऊ में करायी जाए कृत्रिम बारिश : योगी ने कहा कि लखनऊ में वायु प्रदूषण से निपटने के लिए आइआइटी कानपुर की मदद से नई तकनीक के जरिये कृत्रिम बारिश करायी जाए। इससे राजधानी के वायु प्रदूषण पर नियंत्रण पाया जा सकता है। वायु प्रदूषण रोकने के लिए तकनीक का प्रयोग जरूरी है। बस अड्डों में बसों का प्रबंधन किया जाए ठीक : मुख्यमंत्री ने जाम से निपटने के लिए बस अड्डों में बसों को ठीक से खड़ा करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बसों के उलटा-सीधा खड़ा करने से बस अड्डों के आस-पास अक्सर जाम लगता है। एफएम रेडियो से किया जाए प्रचार : मुख्यमंत्री ने सूचना विभाग से कहा कि एफएम के साथ ही कम्युनिटी रेडियो के जरिए आम जनता को कूड़ा व पराली न जलाने के लिए जागरूक किया जाए।


  • राष्ट्रीय सहारा : 15/11/2017 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को मर्यादा पुरु षोत्तम भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या चुनाव प्रचार का आगाज करते हुए कहा कि पिछली सरकारों ने अयोध्या की उपेक्षा की। इस धार्मिक नगरी की पहचान को छिपाए रखा। अयोध्या को उसका गौरव मिलना चाहिए। चुनाव के बाद अयोध्या को योजनाओं की सौगात मिलेगी। आमजन से नगर निगम में भाजपा के पूर्ण बहुमत का बोर्ड गठित किए जाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार है। नगर बोर्ड भी भाजपा का हो होगा तभी नगरों के विकास के लिए आने वाले धन का सदुपयोग हो सकेगा। हर नगर निकाय में आदर्श वार्ड बनाएंगे।जीआईसी मैदान में आयोजित जनसभा में मुख्यमंत्री योगी ने नगर निगम के मेयर प्रत्याशी ऋषिकेश उपाध्याय, रुदौली नगर पालिका परिषद के चयेरमैन प्रत्याशी अशोक कसौधन, गोसाईगंज के प्रदीप जायसवाल, बीकापुर के राकेश पांडेय व भदरसा से निशा देवी को विजयी बनाने की अपील की। उन्होंने कहा कि अयोध्या की अपनी पहचान है। श्री योगी का अयोध्या दर्शन कार्यक्रम तय था लेकिन उसे रद कर दिया गया। मुख्यमंत्री सीधे कार्यक्रम स्थल पहुंचे, उन्होंने कहा अयोध्या की पहचान संतों से है और संतों की पहचान अयोध्या से। मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास के लिए केंद्र व प्रदेश से मिलने वाली योजनाओं से अयोध्या जगमगा सके, इसके लिए भाजपा का बोर्ड बनवाएं जिससे अयोध्या का विकास हो सके। नगर निकाय के लिए जारी किए गए संकल्प पत्र पर चुनाव के बाद काम शुरू हो जाएगा जिसकी निगरानी सरकार व संगठन करेगा।उन्होंने कहा कि नगर निकाय चुनाव हमारे लिए महत्वपूर्ण है। प्रदेश के 653 नगर निकाय की 30 फीसद आबादी शहरी क्षेत्र में निवास करती है। सपा पर तंज कसते हुए कहा कि पीएम स्मार्ट सिटी बनाना चाहते थे, मगर पूर्व की सरकार ने सहयोग नहीं किया। प्रधानमंत्री आवास योजना का पैसा नहीं लेना चाहती थी। आधा-अधूरा प्रस्ताव भेजा। पिछली सरकारों ने जनता की उपेक्षा की। बुनियादी सुविधाएं नहीं मिलीं। प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने पर केंद्र व प्रदेश की योजनाओं को अमलीजामा पहनाया जा रहा है।
    Close
    पिछली सरकारों ने अयोध्या की पहचान छिपायी : योगी
    राष्ट्रीय सहारा 15/11/2017
    मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को मर्यादा पुरु षोत्तम भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या चुनाव प्रचार का आगाज करते हुए कहा कि पिछली सरकारों ने अयोध्या की उपेक्षा की। इस धार्मिक नगरी की पहचान को छिपाए रखा। अयोध्या को उसका गौरव मिलना चाहिए। चुनाव के बाद अयोध्या को योजनाओं की सौगात मिलेगी। आमजन से नगर निगम में भाजपा के पूर्ण बहुमत का बोर्ड गठित किए जाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार है। नगर बोर्ड भी भाजपा का हो होगा तभी नगरों के विकास के लिए आने वाले धन का सदुपयोग हो सकेगा। हर नगर निकाय में आदर्श वार्ड बनाएंगे।जीआईसी मैदान में आयोजित जनसभा में मुख्यमंत्री योगी ने नगर निगम के मेयर प्रत्याशी ऋषिकेश उपाध्याय, रुदौली नगर पालिका परिषद के चयेरमैन प्रत्याशी अशोक कसौधन, गोसाईगंज के प्रदीप जायसवाल, बीकापुर के राकेश पांडेय व भदरसा से निशा देवी को विजयी बनाने की अपील की। उन्होंने कहा कि अयोध्या की अपनी पहचान है। श्री योगी का अयोध्या दर्शन कार्यक्रम तय था लेकिन उसे रद कर दिया गया। मुख्यमंत्री सीधे कार्यक्रम स्थल पहुंचे, उन्होंने कहा अयोध्या की पहचान संतों से है और संतों की पहचान अयोध्या से। मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास के लिए केंद्र व प्रदेश से मिलने वाली योजनाओं से अयोध्या जगमगा सके, इसके लिए भाजपा का बोर्ड बनवाएं जिससे अयोध्या का विकास हो सके। नगर निकाय के लिए जारी किए गए संकल्प पत्र पर चुनाव के बाद काम शुरू हो जाएगा जिसकी निगरानी सरकार व संगठन करेगा।उन्होंने कहा कि नगर निकाय चुनाव हमारे लिए महत्वपूर्ण है। प्रदेश के 653 नगर निकाय की 30 फीसद आबादी शहरी क्षेत्र में निवास करती है। सपा पर तंज कसते हुए कहा कि पीएम स्मार्ट सिटी बनाना चाहते थे, मगर पूर्व की सरकार ने सहयोग नहीं किया। प्रधानमंत्री आवास योजना का पैसा नहीं लेना चाहती थी। आधा-अधूरा प्रस्ताव भेजा। पिछली सरकारों ने जनता की उपेक्षा की। बुनियादी सुविधाएं नहीं मिलीं। प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने पर केंद्र व प्रदेश की योजनाओं को अमलीजामा पहनाया जा रहा है।


  • दैनिक जागरण : 14/11/2017 नईदुनिया, रायपुर : इतिहास को लेकर उठ रहे सवालों और विवादों के बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इतिहास या उसके तथ्यों से छेड़छाड़ राष्ट्रद्रोह से कम नहीं है। वह सोमवार को नईदुनिया के ‘कल आज और कल’ में आमंत्रित लोगों के बीच अपनी बात रख रहे थे। योगी आदित्यनाथ ने हिंदू शब्द पर जोर देते हुए कहा कि भारत ही नहीं, विश्व में हिंदू शब्द गर्व का बोधक है, जबकि पाकि (पाकिस्तान) शब्द को गाली माना जाता है। नेपाल, भूटान, कंबोडिया और यूरोप में हिंदू शब्द भारतीयता की पहचान है। जिस हिंदू शब्द को विश्व में मान्यता मिल रही है, भारत में कुछ लोगों को उसी शब्द से चिढ़ है। योगी ने बड़े राज्य बनाम छोटे राज्य विषय पर कहा कि अतीत से भटका व्यक्ति, राष्ट्र और समाज त्रिशंकु की तरह कभी लक्ष्य तक नहीं पहुंच पाता। योगी ने स्वामी विवेकानंद के उस वचन को याद किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि जो जाति, धर्म और राष्ट्र अपने महापुरुषों पर गौरव की अनुभूति नहीं करते, उनका भविष्य कभी भी मजबूत नहीं हो सकता। छत्तीसगढ़ के निर्माण पर कहा कि राजनीतिक स्थिरता से यह राज्य अन्य राज्यों के विकास की तुलना में कहीं आगे है। कई मामलों में छत्तीसगढ़ ने नजीर पेश की है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की उन्होंने मुक्तकंठ से तारीफ की।
    Close
    इतिहास को विकृत करना राष्ट्रद्रोह: योगी
    दैनिक जागरण 14/11/2017
    नईदुनिया, रायपुर : इतिहास को लेकर उठ रहे सवालों और विवादों के बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इतिहास या उसके तथ्यों से छेड़छाड़ राष्ट्रद्रोह से कम नहीं है। वह सोमवार को नईदुनिया के ‘कल आज और कल’ में आमंत्रित लोगों के बीच अपनी बात रख रहे थे। योगी आदित्यनाथ ने हिंदू शब्द पर जोर देते हुए कहा कि भारत ही नहीं, विश्व में हिंदू शब्द गर्व का बोधक है, जबकि पाकि (पाकिस्तान) शब्द को गाली माना जाता है। नेपाल, भूटान, कंबोडिया और यूरोप में हिंदू शब्द भारतीयता की पहचान है। जिस हिंदू शब्द को विश्व में मान्यता मिल रही है, भारत में कुछ लोगों को उसी शब्द से चिढ़ है। योगी ने बड़े राज्य बनाम छोटे राज्य विषय पर कहा कि अतीत से भटका व्यक्ति, राष्ट्र और समाज त्रिशंकु की तरह कभी लक्ष्य तक नहीं पहुंच पाता। योगी ने स्वामी विवेकानंद के उस वचन को याद किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि जो जाति, धर्म और राष्ट्र अपने महापुरुषों पर गौरव की अनुभूति नहीं करते, उनका भविष्य कभी भी मजबूत नहीं हो सकता। छत्तीसगढ़ के निर्माण पर कहा कि राजनीतिक स्थिरता से यह राज्य अन्य राज्यों के विकास की तुलना में कहीं आगे है। कई मामलों में छत्तीसगढ़ ने नजीर पेश की है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की उन्होंने मुक्तकंठ से तारीफ की।


  • हिन्दुस्तान : 13/11/2017 लखनऊ प्रमुख संवाददाताप्रदेश सरकार क्षेत्रीय उत्पादों-विशेषताओं को उभारने के लिए योजना ला रही है। हर जिले में परम्परागत उत्पादों का हब तैयार किया जाएगा। इससे रोजगार तो बढ़ेंगे ही, उस उत्पाद का व्यवसाय और कारोबार देश-दुनिया के आर्थिक नक्शे पर आ जाएगा। सरकार ‘वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट’ नाम से योजना लाने जा रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निकाय चुनाव संकल्प पत्र घोषणा के मौके पर यह जानकारी दी।मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में सभी 75 जिलों में स्थानीय स्तर पर कोई न कोई ऐसा उत्पाद है जो उस जिले की विशेषता और पहचान है। जैसे बनारस की साड़ियां, अलीगढ़ का ताला, मुरादाबाद का पीतल उद्योग आदि। हर जिले में उसके विशेष उत्पाद को बढ़ावा देने, उत्पादन और कारोबारी सुगमता के लिए यह योजना बनाई गई है। इसके तहत जिले स्तर पर एक केंद्र बनाया जाएगा जो वहां के उत्पाद के लिए प्रशिक्षण, प्रोत्साहन, कारोबारी सहूलियत, विपणन और ब्रां¨डग आदि के लिए कार्य करेगा। मुख्यमंत्री ने भी किया अच्छे दिनों का वादा : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अच्छी सड़क, बिजली, पानी, आवागमन व परिवहन सुविधाओं के साथ अच्छे दिनों का वादा किया। भाजपा ने प्रदेश में सरकार बनने के बाद अयोध्या के नाम पर और मथुरा-वृंदावन दो नगर निगम बनाये है। केंद्र सरकार ने पिछली सरकार में भी प्रदेश के लिए बहुत बजट दिया लेकिन काम कुछ नहीं हुआ। गरीबों के लिए महज सात हजार मकान बन सके। जबकि हमने छह माह में डेढ़ लाख से अधिक मकान बनवा दिए। 10 लाख मकान और देंगे। हर घर को मुफ्त में बिजली कनेक्शन दिया जा रहा है। अब तक 20 लाख कनेक्शन दिए गए। डेढ़ करोड़ परिवारों को कनेक्शन देंगे। छोटे शहरों को एयर कनेक्टिविटी से जोड़ने, शहरों को अतिक्रमण मुक्त करने के लिए फड़-खोखे वालों का पुर्नवास किया जा रहा है। प्रदेश में 13 स्मार्ट सिटी बनाए जाएंगे, जिसमे से 7 का चयन हो गया। 61 शहरों का चयन केंद्र सरकार की अमृत योजना के तहत हुआ है। अमृत योजना के तहत नगरों के पेयजल, जलमल निकासी की व्यवस्था के साथ ही पार्कों के सौंदर्यीकरण का कार्य तेजी से किया जाएगा। केंद्र के सहयोग से सभी नगर निकायों के जरिए सभी स्थानों पर एलईडी स्ट्रीट लाइट लगाई जाएंगी। इसके लिए ईएसएल संस्था से समझौता किया गया है। इसके अलावा डोर टू डोर कचरा उठाने की व्यवस्था की जाएगी। कुछ जगहों पर ये शुरू हो चुका है। जल्द ही पूरे प्रदेश में लागू हो जाएगा।
    Close
    हर जिले में परंपरागत उत्पादों का हब:योगी
    हिन्दुस्तान 13/11/2017
    लखनऊ प्रमुख संवाददाताप्रदेश सरकार क्षेत्रीय उत्पादों-विशेषताओं को उभारने के लिए योजना ला रही है। हर जिले में परम्परागत उत्पादों का हब तैयार किया जाएगा। इससे रोजगार तो बढ़ेंगे ही, उस उत्पाद का व्यवसाय और कारोबार देश-दुनिया के आर्थिक नक्शे पर आ जाएगा। सरकार ‘वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट’ नाम से योजना लाने जा रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निकाय चुनाव संकल्प पत्र घोषणा के मौके पर यह जानकारी दी।मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में सभी 75 जिलों में स्थानीय स्तर पर कोई न कोई ऐसा उत्पाद है जो उस जिले की विशेषता और पहचान है। जैसे बनारस की साड़ियां, अलीगढ़ का ताला, मुरादाबाद का पीतल उद्योग आदि। हर जिले में उसके विशेष उत्पाद को बढ़ावा देने, उत्पादन और कारोबारी सुगमता के लिए यह योजना बनाई गई है। इसके तहत जिले स्तर पर एक केंद्र बनाया जाएगा जो वहां के उत्पाद के लिए प्रशिक्षण, प्रोत्साहन, कारोबारी सहूलियत, विपणन और ब्रां¨डग आदि के लिए कार्य करेगा। मुख्यमंत्री ने भी किया अच्छे दिनों का वादा : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अच्छी सड़क, बिजली, पानी, आवागमन व परिवहन सुविधाओं के साथ अच्छे दिनों का वादा किया। भाजपा ने प्रदेश में सरकार बनने के बाद अयोध्या के नाम पर और मथुरा-वृंदावन दो नगर निगम बनाये है। केंद्र सरकार ने पिछली सरकार में भी प्रदेश के लिए बहुत बजट दिया लेकिन काम कुछ नहीं हुआ। गरीबों के लिए महज सात हजार मकान बन सके। जबकि हमने छह माह में डेढ़ लाख से अधिक मकान बनवा दिए। 10 लाख मकान और देंगे। हर घर को मुफ्त में बिजली कनेक्शन दिया जा रहा है। अब तक 20 लाख कनेक्शन दिए गए। डेढ़ करोड़ परिवारों को कनेक्शन देंगे। छोटे शहरों को एयर कनेक्टिविटी से जोड़ने, शहरों को अतिक्रमण मुक्त करने के लिए फड़-खोखे वालों का पुर्नवास किया जा रहा है। प्रदेश में 13 स्मार्ट सिटी बनाए जाएंगे, जिसमे से 7 का चयन हो गया। 61 शहरों का चयन केंद्र सरकार की अमृत योजना के तहत हुआ है। अमृत योजना के तहत नगरों के पेयजल, जलमल निकासी की व्यवस्था के साथ ही पार्कों के सौंदर्यीकरण का कार्य तेजी से किया जाएगा। केंद्र के सहयोग से सभी नगर निकायों के जरिए सभी स्थानों पर एलईडी स्ट्रीट लाइट लगाई जाएंगी। इसके लिए ईएसएल संस्था से समझौता किया गया है। इसके अलावा डोर टू डोर कचरा उठाने की व्यवस्था की जाएगी। कुछ जगहों पर ये शुरू हो चुका है। जल्द ही पूरे प्रदेश में लागू हो जाएगा।


  • राष्ट्रीय सहारा : 12/11/2017 लखनऊ (भाषा)। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भारत ने मानव कल्याण के लिए हमेशा शांति और सौहार्द को बढ़ावा देने का काम किया है। वह सिटी मॉन्टेसरी स्कूल में आयोजित विश्व के मुख्य न्यायाधीशों के 18वें अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलन में बोल रहे थे उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति की वसुधैव कुटुम्बकम की परम्परा को अपनाकर सभी को स्वास्य एवं शिक्षा सुलभ कराने, वर्तमान में विश्वभर में व्याप्त अन्तरराष्ट्रीय आतंकवाद, परमाणु हथियारों के भंडार, राष्ट्रों एवं नागरिकों के बीच मतभेद जैसी समस्याओं का समाधान किया जा सकता है। इसके लिए विश्व के सभी राष्ट्रों को अन्तरराष्ट्रीय कानूनों का सम्मान करना होगा और अन्तरराष्ट्रीय विवादों का समाधान मध्यस्थता से तलाशने का प्रयास करना होगा।मुख्यमंत्री ने न्यायाधीशों का स्वागत करते हुए कहा कि उनकी सरकार बेहतर कानून-व्यवस्था के साथ-साथ आधुनिक न्याय पण्राली के लिए पूरी संजीदगी से प्रयास कर रही है और इसी के तहत विधि आयोग का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार लोकतांत्रिक मूल्यों की रक्षा और लोगों को न्याय दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है। प्रदेश सरकार ने न्याय व्यवस्था में व्यापक सुधार के लिए कई कदम उठाए हैं। महिलाओं के विरुद्ध होने वाले अपराधों की रोकथाम के मद्देनजर ऐसे प्रकरणों के निस्तारण के लिए 100 अतिरिक्त विशेष अदालतें गठित की जा रही हैं। साथ ही निचली अदालतों में लगभग ढाई लाख से अधिक वैवाहिक समस्याओं के लम्बित विवादों को ध्यान में रखते हुए सभी जनपदों में पहले से मौजूद फैमिली कोर्ट के अलावा 111 अतिरिक्त फैमिली कोर्ट भी स्थापित किए जा रहे हैं।, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार की तरह राज्य सरकार भी सबका साथ, सबका विकास के सिद्धान्त पर काम कर रही है।उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने संकल्प से सिद्धि मंत्र को अपनाते हुए वर्ष 2022 तक एक ऐसे भारत के निर्माण का संकल्प लिया है, जो सभी विषमताओं से मुक्त हो। यह नया भारत गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, सम्प्रदायवाद और जातिवाद से मुक्त होगा। संभव है वर्ष 2022 में जब देश स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ मना रहा होगा, तब तक सभी परिवारों को सारी आवश्यक बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध करा दी जाएंगी। राज्य सरकार भी इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए काम कर रही है।मुख्यमंत्री ने ये बातें यहां एचटी मीडिया द्वारा आयोजित हिन्दुस्तान शिखर समागम में कहीं। समागम तरक्की का नया नजरिया विजन 2022 विषय पर केंद्रित था। कार्यक्र म में एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि राज्य सरकार नई औद्योगिक निवेश एवं रोजगार प्रोत्साहन नीति-2017 लागू कर चुकी है, जिसका उद्देश्य प्रदेश में उद्योग अनुकूल वातावरण के साथ निवेश आकर्षण एवं सभी वगरे को समावेशी रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना है। राज्य सरकार प्रदेश के युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है।योगी ने कहा कि निवेशकों को आकर्षित करने के उद्देश्य से राज्य सरकार मार्च, 2018 में ग्लोबल इन्वेस्टर मीट का आयोजन करने जा रही है। कौशल विकास के तहत छह लाख युवाओं का नाम दर्ज किया गया है।मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार अयोध्या सहित प्रदेश के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों का विकास कर रही है, इससे रोजगार के नए अवसर सृजित होंगे। पिछले महीने अयोध्या में 133 करोड़ रपए की पर्यटन एवं अन्य विकास योजनाओं का शिलान्यास किया गया है। शीघ्र ही पूर्वाचल एक्सप्रेस-वे और बुंदेलखंड में एक्सप्रेस-वे के निर्माण पर काम शुरू होगा, जो पर्यटन को बढ़ावा देने में प्रभावी होंगे। कानून-व्यवस्था के संबंध में पूछे गए प्रश्न के जवाब में योगी ने कहा कि पिछली सरकारों ने अपराधियों को संरक्षण दिया और अपने उद्देश्यों को पूरा किया जबकि राज्य की मौजूदा सरकार प्रदेश की कानून-व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध है और अपराधियों के प्रति सरकार सख्त रवैया अपना रही है। अपराधियों की जगह जेल में है, उन्हें वहीं भेजा जाएगा।उन्होंने कहा कि राज्य सरकार महिलाओं की सुरक्षा के प्रति संवेदनशील है। महिलाओं से राह चलते अभद्रता करने वाले तत्वों से सख्ती से निपटा जाएगा। घरेलू हिंसा रोकने की दिशा में भी कदम उठा रहे हैं और महिला हेल्पलाइन के तहत रेस्क्यू वैन तैनात की गई हैं।
    Close
    2022 तक सभी को बुनियादी सुविधाएं : योगी
    राष्ट्रीय सहारा 12/11/2017
    लखनऊ (भाषा)। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भारत ने मानव कल्याण के लिए हमेशा शांति और सौहार्द को बढ़ावा देने का काम किया है। वह सिटी मॉन्टेसरी स्कूल में आयोजित विश्व के मुख्य न्यायाधीशों के 18वें अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलन में बोल रहे थे उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति की वसुधैव कुटुम्बकम की परम्परा को अपनाकर सभी को स्वास्य एवं शिक्षा सुलभ कराने, वर्तमान में विश्वभर में व्याप्त अन्तरराष्ट्रीय आतंकवाद, परमाणु हथियारों के भंडार, राष्ट्रों एवं नागरिकों के बीच मतभेद जैसी समस्याओं का समाधान किया जा सकता है। इसके लिए विश्व के सभी राष्ट्रों को अन्तरराष्ट्रीय कानूनों का सम्मान करना होगा और अन्तरराष्ट्रीय विवादों का समाधान मध्यस्थता से तलाशने का प्रयास करना होगा।मुख्यमंत्री ने न्यायाधीशों का स्वागत करते हुए कहा कि उनकी सरकार बेहतर कानून-व्यवस्था के साथ-साथ आधुनिक न्याय पण्राली के लिए पूरी संजीदगी से प्रयास कर रही है और इसी के तहत विधि आयोग का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार लोकतांत्रिक मूल्यों की रक्षा और लोगों को न्याय दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है। प्रदेश सरकार ने न्याय व्यवस्था में व्यापक सुधार के लिए कई कदम उठाए हैं। महिलाओं के विरुद्ध होने वाले अपराधों की रोकथाम के मद्देनजर ऐसे प्रकरणों के निस्तारण के लिए 100 अतिरिक्त विशेष अदालतें गठित की जा रही हैं। साथ ही निचली अदालतों में लगभग ढाई लाख से अधिक वैवाहिक समस्याओं के लम्बित विवादों को ध्यान में रखते हुए सभी जनपदों में पहले से मौजूद फैमिली कोर्ट के अलावा 111 अतिरिक्त फैमिली कोर्ट भी स्थापित किए जा रहे हैं।, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार की तरह राज्य सरकार भी सबका साथ, सबका विकास के सिद्धान्त पर काम कर रही है।उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने संकल्प से सिद्धि मंत्र को अपनाते हुए वर्ष 2022 तक एक ऐसे भारत के निर्माण का संकल्प लिया है, जो सभी विषमताओं से मुक्त हो। यह नया भारत गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, सम्प्रदायवाद और जातिवाद से मुक्त होगा। संभव है वर्ष 2022 में जब देश स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ मना रहा होगा, तब तक सभी परिवारों को सारी आवश्यक बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध करा दी जाएंगी। राज्य सरकार भी इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए काम कर रही है।मुख्यमंत्री ने ये बातें यहां एचटी मीडिया द्वारा आयोजित हिन्दुस्तान शिखर समागम में कहीं। समागम तरक्की का नया नजरिया विजन 2022 विषय पर केंद्रित था। कार्यक्र म में एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि राज्य सरकार नई औद्योगिक निवेश एवं रोजगार प्रोत्साहन नीति-2017 लागू कर चुकी है, जिसका उद्देश्य प्रदेश में उद्योग अनुकूल वातावरण के साथ निवेश आकर्षण एवं सभी वगरे को समावेशी रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना है। राज्य सरकार प्रदेश के युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है।योगी ने कहा कि निवेशकों को आकर्षित करने के उद्देश्य से राज्य सरकार मार्च, 2018 में ग्लोबल इन्वेस्टर मीट का आयोजन करने जा रही है। कौशल विकास के तहत छह लाख युवाओं का नाम दर्ज किया गया है।मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार अयोध्या सहित प्रदेश के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों का विकास कर रही है, इससे रोजगार के नए अवसर सृजित होंगे। पिछले महीने अयोध्या में 133 करोड़ रपए की पर्यटन एवं अन्य विकास योजनाओं का शिलान्यास किया गया है। शीघ्र ही पूर्वाचल एक्सप्रेस-वे और बुंदेलखंड में एक्सप्रेस-वे के निर्माण पर काम शुरू होगा, जो पर्यटन को बढ़ावा देने में प्रभावी होंगे। कानून-व्यवस्था के संबंध में पूछे गए प्रश्न के जवाब में योगी ने कहा कि पिछली सरकारों ने अपराधियों को संरक्षण दिया और अपने उद्देश्यों को पूरा किया जबकि राज्य की मौजूदा सरकार प्रदेश की कानून-व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध है और अपराधियों के प्रति सरकार सख्त रवैया अपना रही है। अपराधियों की जगह जेल में है, उन्हें वहीं भेजा जाएगा।उन्होंने कहा कि राज्य सरकार महिलाओं की सुरक्षा के प्रति संवेदनशील है। महिलाओं से राह चलते अभद्रता करने वाले तत्वों से सख्ती से निपटा जाएगा। घरेलू हिंसा रोकने की दिशा में भी कदम उठा रहे हैं और महिला हेल्पलाइन के तहत रेस्क्यू वैन तैनात की गई हैं।


  • दैनिक जागरण : 11/11/2017 जागरण संवाददाता, बलरामपुर : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हम गो-गंगा और गायत्री की बात करते हैं लेकिन, दूध निकालने के बाद उन्हें सड़कों पर कचरा खाने के लिए छोड़ देते हैं। पहले घर बनाने के लिए नींव खोदी जाती थी तो उसमें गाय का गोबर डालते थे ताकि घर फले-फूले। गोमाता भारतीय अर्थव्यवस्था की आधार बन सकती हैं। मुख्यमंत्री ने यह बात शुक्रवार को देवीपाटन मंदिर पर आयोजित ब्रह्मलीन महंत महेंद्रनाथ योगी की 17वीं पुण्यतिथि के अवसर पर आयोजित समारोह में कही। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि गोहत्या रोकना जितना जरूरी है, उतना ही आवश्यक है कि हम गाय का पालन कर सही देखभाल करें। छोड़ दी गई गायें प्लास्टिक भी निगल जाती है, जिससे उनकी असमय मौत होती है। इसका जिम्मेदार कौन है? हम सभी इसके जिम्मेदार है। उन्होंने संतों को भी गाय पालने के लिए प्रेरित किया। कहा कि केवल भोजन और भजन में ही समय न दें, बल्कि अपने आश्रम में गोपालन करें।
    Close
    दूध पीने के बाद गाय को कचरा खाने के लिए न छोड़ें: योगी
    दैनिक जागरण 11/11/2017
    जागरण संवाददाता, बलरामपुर : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हम गो-गंगा और गायत्री की बात करते हैं लेकिन, दूध निकालने के बाद उन्हें सड़कों पर कचरा खाने के लिए छोड़ देते हैं। पहले घर बनाने के लिए नींव खोदी जाती थी तो उसमें गाय का गोबर डालते थे ताकि घर फले-फूले। गोमाता भारतीय अर्थव्यवस्था की आधार बन सकती हैं। मुख्यमंत्री ने यह बात शुक्रवार को देवीपाटन मंदिर पर आयोजित ब्रह्मलीन महंत महेंद्रनाथ योगी की 17वीं पुण्यतिथि के अवसर पर आयोजित समारोह में कही। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि गोहत्या रोकना जितना जरूरी है, उतना ही आवश्यक है कि हम गाय का पालन कर सही देखभाल करें। छोड़ दी गई गायें प्लास्टिक भी निगल जाती है, जिससे उनकी असमय मौत होती है। इसका जिम्मेदार कौन है? हम सभी इसके जिम्मेदार है। उन्होंने संतों को भी गाय पालने के लिए प्रेरित किया। कहा कि केवल भोजन और भजन में ही समय न दें, बल्कि अपने आश्रम में गोपालन करें।


  • हिन्दुस्तान : 10/11/2017 लखनऊ विशेष संवाददातामुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी जिलाधिकारियों से कहा है कि वे प्याज और टमाटर के दामों को हर हाल में नियंत्रित करवाएं। इनकी जमाखोरी व मुनाफाखोरी करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाए। मुख्यमंत्री ने गुरुवार को प्रदेश की विभिन्न मण्डियों में सब्जियों के बाजार भाव की समीक्षा की और प्याज व टमाटर के दामों की बढ़ोतरी पर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि किसी भी स्तर पर प्याज व टमाटर बिचैलियों द्वारा जमा न किया जाए, ताकि मनमाने ढंग से बाजार भाव बढ़ने की सम्भावना न रहे। सीएम ने अधिकारियों से कहा कि कृषि मंत्रलय एवं खाद्य मंत्रलय से यह अनुरोध कर लिया जाए कि यदि उनके स्तर पर प्याज के आयात द्वारा आपूर्ति सुनिश्चित करने की व्यवस्था की जा रही है, तो उसमें उत्तर प्रदेश के लिए भी आपूर्ति करने पर विचार करते हुए कार्यवाही की जाए।
    Close
    जमाखोरों पर कड़ी कार्रवाई होगी:योगी
    हिन्दुस्तान 10/11/2017
    लखनऊ विशेष संवाददातामुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी जिलाधिकारियों से कहा है कि वे प्याज और टमाटर के दामों को हर हाल में नियंत्रित करवाएं। इनकी जमाखोरी व मुनाफाखोरी करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाए। मुख्यमंत्री ने गुरुवार को प्रदेश की विभिन्न मण्डियों में सब्जियों के बाजार भाव की समीक्षा की और प्याज व टमाटर के दामों की बढ़ोतरी पर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि किसी भी स्तर पर प्याज व टमाटर बिचैलियों द्वारा जमा न किया जाए, ताकि मनमाने ढंग से बाजार भाव बढ़ने की सम्भावना न रहे। सीएम ने अधिकारियों से कहा कि कृषि मंत्रलय एवं खाद्य मंत्रलय से यह अनुरोध कर लिया जाए कि यदि उनके स्तर पर प्याज के आयात द्वारा आपूर्ति सुनिश्चित करने की व्यवस्था की जा रही है, तो उसमें उत्तर प्रदेश के लिए भी आपूर्ति करने पर विचार करते हुए कार्यवाही की जाए।


  • दैनिक जागरण : 09/11/2017 राज्य ब्यूरो, लखनऊ : प्रदेश में लोगों को बेहतर चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा तथा आयुष विभाग को मिलकर काम करने के निर्देश दिए हैं। प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों व जिला अस्पतालों सहित संपूर्ण स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार दिखने की हिदायत के साथ मुख्यमंत्री ने डॉक्टरों व दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश देकर कहा कि इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। शास्त्री भवन में स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा व आयुष विभाग के कार्यो की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को उत्कृष्ट व प्रभावी स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराना राज्य सरकार की प्राथमिकता में शामिल है। यह सेवाएं गांव, गरीब और समाज के अंतिम व्यक्ति तक हर हाल में पहुंचाना है। समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर आयुष डॉक्टरों की तैनाती के साथ जननी सुरक्षा योजना को सफलतापूर्वक कार्यान्वित करने और आशा बहुओं को समय से मानदेय उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। निर्माणाधीन अस्पतालों का काम उन्होंने गुणवत्तापरक तरीके मार्च, 2018 तक पूरा करने को कहा। साथ ही एंबुलेंस सेवा को बेहतर बनाने के लिए इसकी मॉनीटरिंग करने और अधिक मातृ व शिशु मृत्यु दर वाले जिलों में प्राथमिकता के आधार पर अल्ट्रासाउंड मशीन लगाने के निर्देश दिए।शास्त्री भवन के सभागार में समीक्षा बैठक करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।
    Close
    मिलकर काम करें चिकित्सा शिक्षा व आयुष विभाग
    दैनिक जागरण 09/11/2017
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ : प्रदेश में लोगों को बेहतर चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा तथा आयुष विभाग को मिलकर काम करने के निर्देश दिए हैं। प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों व जिला अस्पतालों सहित संपूर्ण स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार दिखने की हिदायत के साथ मुख्यमंत्री ने डॉक्टरों व दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश देकर कहा कि इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। शास्त्री भवन में स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा व आयुष विभाग के कार्यो की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को उत्कृष्ट व प्रभावी स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराना राज्य सरकार की प्राथमिकता में शामिल है। यह सेवाएं गांव, गरीब और समाज के अंतिम व्यक्ति तक हर हाल में पहुंचाना है। समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर आयुष डॉक्टरों की तैनाती के साथ जननी सुरक्षा योजना को सफलतापूर्वक कार्यान्वित करने और आशा बहुओं को समय से मानदेय उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। निर्माणाधीन अस्पतालों का काम उन्होंने गुणवत्तापरक तरीके मार्च, 2018 तक पूरा करने को कहा। साथ ही एंबुलेंस सेवा को बेहतर बनाने के लिए इसकी मॉनीटरिंग करने और अधिक मातृ व शिशु मृत्यु दर वाले जिलों में प्राथमिकता के आधार पर अल्ट्रासाउंड मशीन लगाने के निर्देश दिए।शास्त्री भवन के सभागार में समीक्षा बैठक करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।


  • राष्ट्रीय सहारा : 08/11/2017 लखनऊ (एसएनबी)।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को चक गंजरिया फार्म स्थित एचसीएल आईटी सिटी का अनावरण करते हुए कहा कि देश-विदेश की विख्यात आईटी कम्पनी एचसीएल प्रदेश में 1500 करोड़ का निवेश करने जा रही है, इससे हजारों युवाओं को नौकरी मिलेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में करीब 1600 गांव ऐसे हैं, जिनमें आजादी के बाद से अब तक कोई भी सरकारी योजना पहुंची ही नहीं है। इन गांवों को वह मंगलवार शाम को होने वाली बैठक में प्रस्ताव पास करके न केवल ‘टच’ करने जा रहे हैं बल्कि सारी सुविधाएं व अन्य योजनाएं लागू करने जा रहे हैं। उन्होंने एचसीएल से आग्रह किया कि इन गांवों में से कुछ को एचसीएल भी गोद ले।योगी आदित्यनाथ सुल्तानपुर रोड चक गजरिया फार्म्स स्थित एचसीएल आईटी सिटी के अनावरण कार्यक्रम के बाद उपस्थित जनसमूह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि देश का सबसे बड़ा राज्य होने के नाते यह सबसे बड़ा बाजार भी है, ऐसा वातावरण बने कि लोग आ सकें, इसके लिए हम सभी का दायित्व है कि लोग आएं और ज्यादा से ज्यादा प्रदेश में निवेश करें। यूपी में 60 हजार ग्राम पंचायत और 1 लाख 71 हजार मजरे हैं तथा इनमें से 1 लाख मजरों में बिजली नहीं थी। केंद्र और राज्य सरकार के प्रयास से 1529 गावों में बिजली पहुंच चुकी है। पिछले 7 माह में 45 हजार मजरों में भी बिजली पहुंचा दी गई है। प्रदेश की भाजपा सरकार ने इन सभी जगहों पर विद्युतीकरण का कार्य शुरू करा दिया है। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यही नहीं, प्रदेश में 1600 गांव ऐसे भी हैं, जिनमें आजादी के बाद से अब तक न कोई कल्याणकारी योजनाएं पहुंची और न ही यहां पर सरकारी कोई कामकाज ही हुआ। उन्होंने उपस्थित समूह से कहा कि मंगलवार का दिन है और आज शाम होने वाली कैबिनेट बैठक में वह इन गांवों को हर सरकारी सुविधाओं से लैस करने वाले प्रस्ताव पर हस्ताक्षर करने जा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शिव नाडर फाउन्डेशन से इस दिशा में सरकार की मदद करने व कुछ गांवों को गोद लेने की अपील की। उन्होंने कहा कि गीता में कहा गया है कि किसी को ज्ञानवान बनाने से पवित्र कोई काम नहीं है। किसी को अच्छा बना सके, किसी को स्वावलम्बी बना सकें तथा शासन की योजना जनता तक पहुचा सकें इससे बड़ा कोई काम नहीं है। एचसीएल आज व्यवसायिक क्षेत्र की प्रतिष्ठित कम्पनी है पर हर कम्पनी की सामाजिक प्रतिबद्धता भी होती है। अगर हर संस्थान अपने सामने एक लक्ष्य रख ले कि जब तक समाज के अन्तिम पायदान पर खडे व्यक्ति को लाभन्वित नहीं कर देते हैं चैन से नहीं बैठेंगे तो फिर समाज में असंतोष नहीं होगा। उन्होंने कहा कि एचसीएल ने न केवल युवाओं को रोजगार के अवसर दिए बल्कि सामुदायिक कार्य के जरिए गांवों को भी विकसित किया है। एचसीएल ने अपनी सामाजिक जिम्मेदारी भी बखूबी निभाई है। एचसीएल ऐसे 1900 बच्चों को निशुल्क शिक्षा देने का काम कर रहा है जिनके परिजनों की वार्षिक आय 1 लाख रुपये से कम है। शैक्षिक कार्यक्रमों को प्रोत्साहन वास्तव में सराहनीय पहल है। उन्होंने कहा कि शासन की योजनाओं के प्रति भी लोगों को जागरूक करना होगा। सीएम ने कहा कि प्रदेश के कई जनपदों को खुले में शौच से मुक्त किया जा चुका है। अक्टूबर 2018 तक सभी जिलों को ओडीएफ घोषित करने की कवायद चल रही है। उन्होंने एचसीएल से ओडीएफ के लक्ष्य में सहयोग की अपील की। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कछौना विकास खण्ड से आए लोगों को उत्कृष्ट कार्य के लिए सम्मानित भी किया। मुख्यमंत्री ने मल्हपुर के 26.3 केवी के सौर ऊर्जा मिनी ग्रिड का शिलान्यास भी किया। इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री डा.दिनेश शर्मा व राज्यमंत्री मोहसिन रजा भी मौजूद थे।
    Close
    एचसीएल से मिलेगा हजारों युवाओं को रोजगार : योगी
    राष्ट्रीय सहारा 08/11/2017
    लखनऊ (एसएनबी)।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को चक गंजरिया फार्म स्थित एचसीएल आईटी सिटी का अनावरण करते हुए कहा कि देश-विदेश की विख्यात आईटी कम्पनी एचसीएल प्रदेश में 1500 करोड़ का निवेश करने जा रही है, इससे हजारों युवाओं को नौकरी मिलेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में करीब 1600 गांव ऐसे हैं, जिनमें आजादी के बाद से अब तक कोई भी सरकारी योजना पहुंची ही नहीं है। इन गांवों को वह मंगलवार शाम को होने वाली बैठक में प्रस्ताव पास करके न केवल ‘टच’ करने जा रहे हैं बल्कि सारी सुविधाएं व अन्य योजनाएं लागू करने जा रहे हैं। उन्होंने एचसीएल से आग्रह किया कि इन गांवों में से कुछ को एचसीएल भी गोद ले।योगी आदित्यनाथ सुल्तानपुर रोड चक गजरिया फार्म्स स्थित एचसीएल आईटी सिटी के अनावरण कार्यक्रम के बाद उपस्थित जनसमूह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि देश का सबसे बड़ा राज्य होने के नाते यह सबसे बड़ा बाजार भी है, ऐसा वातावरण बने कि लोग आ सकें, इसके लिए हम सभी का दायित्व है कि लोग आएं और ज्यादा से ज्यादा प्रदेश में निवेश करें। यूपी में 60 हजार ग्राम पंचायत और 1 लाख 71 हजार मजरे हैं तथा इनमें से 1 लाख मजरों में बिजली नहीं थी। केंद्र और राज्य सरकार के प्रयास से 1529 गावों में बिजली पहुंच चुकी है। पिछले 7 माह में 45 हजार मजरों में भी बिजली पहुंचा दी गई है। प्रदेश की भाजपा सरकार ने इन सभी जगहों पर विद्युतीकरण का कार्य शुरू करा दिया है। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यही नहीं, प्रदेश में 1600 गांव ऐसे भी हैं, जिनमें आजादी के बाद से अब तक न कोई कल्याणकारी योजनाएं पहुंची और न ही यहां पर सरकारी कोई कामकाज ही हुआ। उन्होंने उपस्थित समूह से कहा कि मंगलवार का दिन है और आज शाम होने वाली कैबिनेट बैठक में वह इन गांवों को हर सरकारी सुविधाओं से लैस करने वाले प्रस्ताव पर हस्ताक्षर करने जा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शिव नाडर फाउन्डेशन से इस दिशा में सरकार की मदद करने व कुछ गांवों को गोद लेने की अपील की। उन्होंने कहा कि गीता में कहा गया है कि किसी को ज्ञानवान बनाने से पवित्र कोई काम नहीं है। किसी को अच्छा बना सके, किसी को स्वावलम्बी बना सकें तथा शासन की योजना जनता तक पहुचा सकें इससे बड़ा कोई काम नहीं है। एचसीएल आज व्यवसायिक क्षेत्र की प्रतिष्ठित कम्पनी है पर हर कम्पनी की सामाजिक प्रतिबद्धता भी होती है। अगर हर संस्थान अपने सामने एक लक्ष्य रख ले कि जब तक समाज के अन्तिम पायदान पर खडे व्यक्ति को लाभन्वित नहीं कर देते हैं चैन से नहीं बैठेंगे तो फिर समाज में असंतोष नहीं होगा। उन्होंने कहा कि एचसीएल ने न केवल युवाओं को रोजगार के अवसर दिए बल्कि सामुदायिक कार्य के जरिए गांवों को भी विकसित किया है। एचसीएल ने अपनी सामाजिक जिम्मेदारी भी बखूबी निभाई है। एचसीएल ऐसे 1900 बच्चों को निशुल्क शिक्षा देने का काम कर रहा है जिनके परिजनों की वार्षिक आय 1 लाख रुपये से कम है। शैक्षिक कार्यक्रमों को प्रोत्साहन वास्तव में सराहनीय पहल है। उन्होंने कहा कि शासन की योजनाओं के प्रति भी लोगों को जागरूक करना होगा। सीएम ने कहा कि प्रदेश के कई जनपदों को खुले में शौच से मुक्त किया जा चुका है। अक्टूबर 2018 तक सभी जिलों को ओडीएफ घोषित करने की कवायद चल रही है। उन्होंने एचसीएल से ओडीएफ के लक्ष्य में सहयोग की अपील की। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कछौना विकास खण्ड से आए लोगों को उत्कृष्ट कार्य के लिए सम्मानित भी किया। मुख्यमंत्री ने मल्हपुर के 26.3 केवी के सौर ऊर्जा मिनी ग्रिड का शिलान्यास भी किया। इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री डा.दिनेश शर्मा व राज्यमंत्री मोहसिन रजा भी मौजूद थे।


  • दैनिक जागरण : 07/11/2017 जेएनएएन, सोलन : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हिमाचल ने उत्तरप्रदेश को बहुत कुछ दिया है। हिमाचल के जवान सीमाओं पर देश की रक्षा करते हैं। हिमाचल का पानी हिमाचल से नीचे उतर कर उत्तर प्रदेश में पहुंचता है तो वहां के खेतों को सोना उगलने के लिए एक नई ऊर्जा का संचार करता है। इस तरह हिमाचल की जवानी व पानी दोनों देश के काम आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के कारनामों के कारण हिमाचल की छवि धूमिल हुई है। खनन, शराब, वन व ड्रग माफिया को बढ़ावा दिया है। कांग्रेस ने देश में 55 साल राज किया लेकिन हिमाचल को कोई बड़ी सौगात नहीं दी। मोदी सरकार ने महज तीन साल के कार्यकाल में एम्स जैसा बड़ा तोहफा दिया है। प्रदेश सरकार ने राष्ट्रीय राजमार्गो की डीपीआर तक नहीं बना पाई। सुजानपुर में योगी ने कहा कि यहां के लोग सौभाग्यशाली हैं वह किसी विधायक का नहीं बल्कि सीधे मुख्यमंत्री का चुनाव करने जा रहे हैं। धूमल भी सिद्ध योगी के शिष्य: पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल के हलके सुजानपुर में योगी ने कहा कि वह जिस नाथ संप्रदाय से आते हैं उस संप्रदाय के भगवान गोरखनाथ का रिश्ता भी हिमाचल प्रदेश की धरती से रहा है। बकौल योगी, यह मेरे लिए भी गर्व की बात है की धूमल भी नाथ संप्रदाय के सिद्ध योगी के शिष्य रहे हैं एक साथ कितनी बातों को जुड़ना सबको प्रफुल्लित करता है।
    Close
    हिमाचल ने उत्तर प्रदेश को बहुत कुछ दिया
    दैनिक जागरण 07/11/2017
    जेएनएएन, सोलन : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हिमाचल ने उत्तरप्रदेश को बहुत कुछ दिया है। हिमाचल के जवान सीमाओं पर देश की रक्षा करते हैं। हिमाचल का पानी हिमाचल से नीचे उतर कर उत्तर प्रदेश में पहुंचता है तो वहां के खेतों को सोना उगलने के लिए एक नई ऊर्जा का संचार करता है। इस तरह हिमाचल की जवानी व पानी दोनों देश के काम आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के कारनामों के कारण हिमाचल की छवि धूमिल हुई है। खनन, शराब, वन व ड्रग माफिया को बढ़ावा दिया है। कांग्रेस ने देश में 55 साल राज किया लेकिन हिमाचल को कोई बड़ी सौगात नहीं दी। मोदी सरकार ने महज तीन साल के कार्यकाल में एम्स जैसा बड़ा तोहफा दिया है। प्रदेश सरकार ने राष्ट्रीय राजमार्गो की डीपीआर तक नहीं बना पाई। सुजानपुर में योगी ने कहा कि यहां के लोग सौभाग्यशाली हैं वह किसी विधायक का नहीं बल्कि सीधे मुख्यमंत्री का चुनाव करने जा रहे हैं। धूमल भी सिद्ध योगी के शिष्य: पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल के हलके सुजानपुर में योगी ने कहा कि वह जिस नाथ संप्रदाय से आते हैं उस संप्रदाय के भगवान गोरखनाथ का रिश्ता भी हिमाचल प्रदेश की धरती से रहा है। बकौल योगी, यह मेरे लिए भी गर्व की बात है की धूमल भी नाथ संप्रदाय के सिद्ध योगी के शिष्य रहे हैं एक साथ कितनी बातों को जुड़ना सबको प्रफुल्लित करता है।


  • हिन्दुस्तान : 06/11/2017 लखनऊ । वरिष्ठ संवाददाता : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि प्रदेश सरकार यूपी के सभी जिलों में गौशाला खोलेगी लेकिन उसके संचालन का दायित्व स्थानीय कमेटियों को उठाना पड़ेगा। उन्होंने कहा, गौमाता हमारे लिए बहुत उपयोगी है लेकिन इस बात को हम भुलाते चले गए। आज हर परिवार के साथ एक गोवंश को जोड़ने की जरूरत है। लोग गाय का दूध पीते हैं और बाद में उसी गाय को सड़क पर छोड़ देते हैं। गाय को सड़कों कर कचरा खाना पड़ता है। निरालानगर में रविवार को विश्व हिन्दू परिषद के गौरक्षा विभाग की ओर से पहले अखिल भारतीय गौरक्षा आंदोलन समिति अधिवेशन में मुख्यमंत्री ने यह बातें कहीं। उन्होंने यह भी कहा कि उत्तर प्रदेश से गौमांस का निर्यात पूर्णत: प्रतिबंधित है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की यह पहली सरकार है जिसने अवैध रूप से चल रहे बूचड़खानों को बन्द करने का काम किया है।
    Close
    सभी जिलों में गौशाला खोलेगी सरकार:योगी
    हिन्दुस्तान 06/11/2017
    लखनऊ । वरिष्ठ संवाददाता : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि प्रदेश सरकार यूपी के सभी जिलों में गौशाला खोलेगी लेकिन उसके संचालन का दायित्व स्थानीय कमेटियों को उठाना पड़ेगा। उन्होंने कहा, गौमाता हमारे लिए बहुत उपयोगी है लेकिन इस बात को हम भुलाते चले गए। आज हर परिवार के साथ एक गोवंश को जोड़ने की जरूरत है। लोग गाय का दूध पीते हैं और बाद में उसी गाय को सड़क पर छोड़ देते हैं। गाय को सड़कों कर कचरा खाना पड़ता है। निरालानगर में रविवार को विश्व हिन्दू परिषद के गौरक्षा विभाग की ओर से पहले अखिल भारतीय गौरक्षा आंदोलन समिति अधिवेशन में मुख्यमंत्री ने यह बातें कहीं। उन्होंने यह भी कहा कि उत्तर प्रदेश से गौमांस का निर्यात पूर्णत: प्रतिबंधित है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की यह पहली सरकार है जिसने अवैध रूप से चल रहे बूचड़खानों को बन्द करने का काम किया है।


  • दैनिक जागरण : 05/11/2017 जागरण संवाददाता, लखनऊ : मॉरीशस से लौटते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सीधे घायलों को देखने पहुंचे। पौन घंटे में उन्होंने शहर के तीन अस्पतालों में भ्रमण कर मरीजों का हाल लिया। उन्होंने संजय गांधी पीजीआइ में मौजूद एनटीपीसी के अफसरों को घटना की तत्काल एफआइआर कराने के निर्देश दिए।मुख्यमंत्री करीब 12 बजे अमौसी एयरपोर्ट पहुंचे। 12:45 पर उनका काफिला पीजीआइ पहुंच गया। यहां पांच घायल भर्ती मिले। निदेशक डॉ. आरके कपूर से मरीजों का हालचाल जाना। तीमारदारों को हर मदद का आश्वासन दिया। वह पीजीआइ में एनटीपीसी हादसे के घायलों के लिए बनी हेल्प डेस्क पर गए। संस्थान के अधिकारियों व चिकित्सकों के मुताबिक डेस्क पर मौजूद एनटीपीसी अधिकारियों से सीएम ने घटना की एफआइआर के बारे में पूछा। अधिकारियों ने एफआइआर दर्ज न होने का हवाला दिया। ऐसे में सीएम ने कहा कि एफआइआर दर्ज नहीं कराई तो मुआवजा कैसे दोगे। उन्होंने एनटीपीसी अधिकारियों से घटना की तत्काल एफआइआर दर्ज कराने के निर्देश दिए। मृतकों के आश्रितों व घायलों के मुआवजा संबंधी प्रक्रिया जल्द पूरी करने को कहा। जांच चल रही, बेहतर इलाज करें : मुख्यमंत्री करीब एक बजे डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी (सिविल) अस्पताल पहुंचे। यहां भर्ती मरीजों को देखा। चिकित्सा अधीक्षक डॉ. आशुतोष दुबे से घायलों की स्थिति व इलाज के बारे में पूछा। योगी ने पत्रकारों से कहा कि घटना की जांच चल रही है। रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। मरीजों को बेहतर इलाज उपलब्ध कराया जा रहा है। अति गंभीर मरीजों को दिल्ली इलाज के लिए भेजा जा रहा है। दोपहर 1:25 पर मुख्यमंत्री केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर मरीजों को देखने पहुंचे। यहां इमरजेंसी वार्ड में रामबाबू, सुंदर लाल व राकेश कुमार भर्ती मिले। लखनऊ में शनिवार को सिविल अस्पताल में भर्ती एनटीपीसी के घायलों को देखने आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।
    Close
    एनटीपीसी घटना की दर्ज कराएं रिपोर्ट
    दैनिक जागरण 05/11/2017
    जागरण संवाददाता, लखनऊ : मॉरीशस से लौटते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सीधे घायलों को देखने पहुंचे। पौन घंटे में उन्होंने शहर के तीन अस्पतालों में भ्रमण कर मरीजों का हाल लिया। उन्होंने संजय गांधी पीजीआइ में मौजूद एनटीपीसी के अफसरों को घटना की तत्काल एफआइआर कराने के निर्देश दिए।मुख्यमंत्री करीब 12 बजे अमौसी एयरपोर्ट पहुंचे। 12:45 पर उनका काफिला पीजीआइ पहुंच गया। यहां पांच घायल भर्ती मिले। निदेशक डॉ. आरके कपूर से मरीजों का हालचाल जाना। तीमारदारों को हर मदद का आश्वासन दिया। वह पीजीआइ में एनटीपीसी हादसे के घायलों के लिए बनी हेल्प डेस्क पर गए। संस्थान के अधिकारियों व चिकित्सकों के मुताबिक डेस्क पर मौजूद एनटीपीसी अधिकारियों से सीएम ने घटना की एफआइआर के बारे में पूछा। अधिकारियों ने एफआइआर दर्ज न होने का हवाला दिया। ऐसे में सीएम ने कहा कि एफआइआर दर्ज नहीं कराई तो मुआवजा कैसे दोगे। उन्होंने एनटीपीसी अधिकारियों से घटना की तत्काल एफआइआर दर्ज कराने के निर्देश दिए। मृतकों के आश्रितों व घायलों के मुआवजा संबंधी प्रक्रिया जल्द पूरी करने को कहा। जांच चल रही, बेहतर इलाज करें : मुख्यमंत्री करीब एक बजे डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी (सिविल) अस्पताल पहुंचे। यहां भर्ती मरीजों को देखा। चिकित्सा अधीक्षक डॉ. आशुतोष दुबे से घायलों की स्थिति व इलाज के बारे में पूछा। योगी ने पत्रकारों से कहा कि घटना की जांच चल रही है। रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। मरीजों को बेहतर इलाज उपलब्ध कराया जा रहा है। अति गंभीर मरीजों को दिल्ली इलाज के लिए भेजा जा रहा है। दोपहर 1:25 पर मुख्यमंत्री केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर मरीजों को देखने पहुंचे। यहां इमरजेंसी वार्ड में रामबाबू, सुंदर लाल व राकेश कुमार भर्ती मिले। लखनऊ में शनिवार को सिविल अस्पताल में भर्ती एनटीपीसी के घायलों को देखने आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।


  • राष्ट्रीय सहारा : 04/11/2017 सहारा न्यूज ब्यूरोलखनऊ।उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को मारीशस स्थित रामायण सेंटर का भ्रमण कर रामायण के प्रचार-प्रसार सम्बन्धी प्रयासों एवं शोध कार्य की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि मर्यादा पुरु षोत्तम श्रीराम का जीवन हम सभी को प्रेरणा प्रदान करता है। भगवान राम ने जो आदर्श प्रस्तुत किए, वे सभी को राह दिखाते हैं। भारत की सामाजिक एवं सांस्कृतिक परम्परा में रचे-बसे भगवान राम पूरे देश के लिए तो प्रेरणा स्रेत हैं ही विश्व के अनेक देश भी इनके व्यक्तित्व से ऊर्जा ग्रहण करते हैं। मुख्यमंत्री योगी ने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की कि भगवान राम के व्यक्तित्व व देश की सांस्कृतिक विरासत से मारीशस की वर्तमान एवं भावी पीढ़ी को अवगत कराने एवं विश्व में प्रचलित सभी प्रकार की रामायण पर शोध के लिए रामायण सेंटर स्थापित किया गया है। यहां बच्चों को हिन्दू दर्शन और रामायण के जीवन मूल्यों की शिक्षा देने का जो प्रबन्ध किया गया, वह अत्यन्त सराहनीय है। भगवान राम की जन्मस्थली अयोध्या की र्चचा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी अवगत हैं कि दीपावली का अयोध्या से सीधा सम्बन्ध है, लेकिन दीपावली जैसे पर्व को अयोध्या में ही विस्मृत कर दिया गया था। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अयोध्या में पिछले दिनों सरयू जी के तट पर दीपोत्सव आयोजित किया गया, जिसे देश और दुनिया में देखा और सराहा गया। दीपोत्सव के माध्यम से लोगों को यह जानकारी मिली कि वास्तव में दीपावली का विशिष्ट आयोजन कहां से प्रारम्भ हुआ और इसका उद्देश्य क्या है।योगी ने कहा कि पहले अयोध्या में रामलीला का मंचन भी होता था, जिसे तत्कालीन राज्य सरकारों ने बंद करा दिया था। वर्तमान राज्य सरकार ने अब इस प्रकार की व्यवस्था करने का काम किया है कि पूरे साल प्रतिदिन अयोध्या में 3 रामलीलाएं होंगी। इस अवसर पर भारत के सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) गिरिराज सिंह एवं अन्य विशिष्टगण उपस्थित थे।
    Close
    सभी को राह दिखाते हैं श्री राम के आदर्श : योगी
    राष्ट्रीय सहारा 04/11/2017
    सहारा न्यूज ब्यूरोलखनऊ।उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को मारीशस स्थित रामायण सेंटर का भ्रमण कर रामायण के प्रचार-प्रसार सम्बन्धी प्रयासों एवं शोध कार्य की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि मर्यादा पुरु षोत्तम श्रीराम का जीवन हम सभी को प्रेरणा प्रदान करता है। भगवान राम ने जो आदर्श प्रस्तुत किए, वे सभी को राह दिखाते हैं। भारत की सामाजिक एवं सांस्कृतिक परम्परा में रचे-बसे भगवान राम पूरे देश के लिए तो प्रेरणा स्रेत हैं ही विश्व के अनेक देश भी इनके व्यक्तित्व से ऊर्जा ग्रहण करते हैं। मुख्यमंत्री योगी ने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की कि भगवान राम के व्यक्तित्व व देश की सांस्कृतिक विरासत से मारीशस की वर्तमान एवं भावी पीढ़ी को अवगत कराने एवं विश्व में प्रचलित सभी प्रकार की रामायण पर शोध के लिए रामायण सेंटर स्थापित किया गया है। यहां बच्चों को हिन्दू दर्शन और रामायण के जीवन मूल्यों की शिक्षा देने का जो प्रबन्ध किया गया, वह अत्यन्त सराहनीय है। भगवान राम की जन्मस्थली अयोध्या की र्चचा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी अवगत हैं कि दीपावली का अयोध्या से सीधा सम्बन्ध है, लेकिन दीपावली जैसे पर्व को अयोध्या में ही विस्मृत कर दिया गया था। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अयोध्या में पिछले दिनों सरयू जी के तट पर दीपोत्सव आयोजित किया गया, जिसे देश और दुनिया में देखा और सराहा गया। दीपोत्सव के माध्यम से लोगों को यह जानकारी मिली कि वास्तव में दीपावली का विशिष्ट आयोजन कहां से प्रारम्भ हुआ और इसका उद्देश्य क्या है।योगी ने कहा कि पहले अयोध्या में रामलीला का मंचन भी होता था, जिसे तत्कालीन राज्य सरकारों ने बंद करा दिया था। वर्तमान राज्य सरकार ने अब इस प्रकार की व्यवस्था करने का काम किया है कि पूरे साल प्रतिदिन अयोध्या में 3 रामलीलाएं होंगी। इस अवसर पर भारत के सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) गिरिराज सिंह एवं अन्य विशिष्टगण उपस्थित थे।


  • राष्ट्रीय सहारा : 03/11/2017 लखनऊ (एसएनबी)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी विदेश यात्रा के दूसरे दिन मॉरीशस के 183वें अप्रवासी दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में भाग लिया। इस अवसर पर श्री योगी ने कहा कि दोनों देशों के बीच बहुत पुराना एवं गहरा नाता है। लगभग 183 वर्ष पूर्व भारतीय मजदूरों के पहले दस्ते ने मॉरीशस आकर यहां अपने अथक परिश्रम से इस देश को विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की। यह हमारे पूर्वाचल जैसा दिखता है।मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि मॉरीशस विकास की प्रक्रिया के साथ निरन्तर आगे बढ़ रहा है और एक विकसित राष्ट्र के रूप में दुनिया के मानचित्र पर अपनी उपस्थिति दर्ज कर रहा है। उन्होंने अप्रवासी घाट पर आगंतुक पुस्तिका में अपने उद्गार भी व्यक्त किए। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन दोनों देशों के सम्बन्धों में भारतीय मूल के लोगों का विशिष्ट स्थान है। उन्होंने उत्तर प्रदेश के वाराणसी जनपद में एक सांस्कृतिक केन्द्र स्थापित करने की सहमति दीअपने सम्बोधन के अन्त में, मुख्यमंत्री ने बाबू रघुवीर नारायण सिंह की बटोहिया कविता की ‘‘सुंदर सुभूमि भैया भारत के भूमि, जेहि जन रघुबीर सिर नावे रे बटोहिया’ का उल्लेख करते हुए मॉरीशसवासियों को अपने पूर्वजों की भूमि से जुड़ने का आह्वान किया। इस अवसर पर मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रवीण कुमार जगन्नाथ, भारत के राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) गिरिराज सिंह एवं यूपी के प्रमुख सचिव पर्यटन एवं सूचना अवनीश अवस्थी उपस्थित थे।
    Close
    हमारे पूर्वाचल जैसा है मॉरीशस : योगी
    राष्ट्रीय सहारा 03/11/2017
    लखनऊ (एसएनबी)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी विदेश यात्रा के दूसरे दिन मॉरीशस के 183वें अप्रवासी दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में भाग लिया। इस अवसर पर श्री योगी ने कहा कि दोनों देशों के बीच बहुत पुराना एवं गहरा नाता है। लगभग 183 वर्ष पूर्व भारतीय मजदूरों के पहले दस्ते ने मॉरीशस आकर यहां अपने अथक परिश्रम से इस देश को विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की। यह हमारे पूर्वाचल जैसा दिखता है।मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि मॉरीशस विकास की प्रक्रिया के साथ निरन्तर आगे बढ़ रहा है और एक विकसित राष्ट्र के रूप में दुनिया के मानचित्र पर अपनी उपस्थिति दर्ज कर रहा है। उन्होंने अप्रवासी घाट पर आगंतुक पुस्तिका में अपने उद्गार भी व्यक्त किए। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन दोनों देशों के सम्बन्धों में भारतीय मूल के लोगों का विशिष्ट स्थान है। उन्होंने उत्तर प्रदेश के वाराणसी जनपद में एक सांस्कृतिक केन्द्र स्थापित करने की सहमति दीअपने सम्बोधन के अन्त में, मुख्यमंत्री ने बाबू रघुवीर नारायण सिंह की बटोहिया कविता की ‘‘सुंदर सुभूमि भैया भारत के भूमि, जेहि जन रघुबीर सिर नावे रे बटोहिया’ का उल्लेख करते हुए मॉरीशसवासियों को अपने पूर्वजों की भूमि से जुड़ने का आह्वान किया। इस अवसर पर मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रवीण कुमार जगन्नाथ, भारत के राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) गिरिराज सिंह एवं यूपी के प्रमुख सचिव पर्यटन एवं सूचना अवनीश अवस्थी उपस्थित थे।


  • दैनिक जागरण : 02/11/2017 राज्य ब्यूरो, मुंबई: योगी आदित्यनाथ नवी मुंबई स्थित उत्तर प्रदेश भवन में रात्रि विश्रम करने वाले पहले मुख्यमंत्री बन गए हैं। वह मॉरीशस जाते हुए रात करीब 11 बजे उत्तर प्रदेश भवन पहुंचे और सुबह पांच बजे रवाना हुए। 1योगी आदित्यनाथ दो नवंबर को मॉरीशस में होने वाले प्रवासी दिवस समारोह में भाग लेने गए हैं। यह समारोह दो नवंबर, 1834 को मॉरीशस पहुंचे पहले गिरमिटिया जत्थे की याद में मनाया जाता है। इसमें शामिल होने के लिए मुख्यमंत्री को मुंबई होते हुए मॉरीशस जाना था। वह रात 10 बजे मुंबई पहुंचे। मुंबई से मॉरीशस की उनकी फ्लाइट अगले दिन सुबह छह बजे की थी। मुंबई के सांताक्रूज स्थित विमानतल के आसपास कई पांच सितारा होटल हैं। विमानतल के बाहर ही महाराष्ट्र सरकार का एक वीआइपी गेस्ट हाउस भी है। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक और लोकसभा अध्यक्ष सुमित्र महाजन यहां अक्सर ठहरते हैं। मुंबई भाजपा के महासचिव अमरजीत मिश्र ने मुख्यमंत्री को महाराष्ट्र सरकार के मलाबार हिल्स स्थित सह्याद्रि गेस्ट हाउस में रुकने का आग्रह किया। लेकिन मुख्यमंत्री योगी ने विमानतल से करीब 20 किमी दूर स्थित उत्तर प्रदेश भवन में ही रुकने का फैसला किया।
    Close
    नवी मुंबई के उप्र भवन में रात्रि विश्रम करने वाले योगी पहले सीएम
    दैनिक जागरण 02/11/2017
    राज्य ब्यूरो, मुंबई: योगी आदित्यनाथ नवी मुंबई स्थित उत्तर प्रदेश भवन में रात्रि विश्रम करने वाले पहले मुख्यमंत्री बन गए हैं। वह मॉरीशस जाते हुए रात करीब 11 बजे उत्तर प्रदेश भवन पहुंचे और सुबह पांच बजे रवाना हुए। 1योगी आदित्यनाथ दो नवंबर को मॉरीशस में होने वाले प्रवासी दिवस समारोह में भाग लेने गए हैं। यह समारोह दो नवंबर, 1834 को मॉरीशस पहुंचे पहले गिरमिटिया जत्थे की याद में मनाया जाता है। इसमें शामिल होने के लिए मुख्यमंत्री को मुंबई होते हुए मॉरीशस जाना था। वह रात 10 बजे मुंबई पहुंचे। मुंबई से मॉरीशस की उनकी फ्लाइट अगले दिन सुबह छह बजे की थी। मुंबई के सांताक्रूज स्थित विमानतल के आसपास कई पांच सितारा होटल हैं। विमानतल के बाहर ही महाराष्ट्र सरकार का एक वीआइपी गेस्ट हाउस भी है। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक और लोकसभा अध्यक्ष सुमित्र महाजन यहां अक्सर ठहरते हैं। मुंबई भाजपा के महासचिव अमरजीत मिश्र ने मुख्यमंत्री को महाराष्ट्र सरकार के मलाबार हिल्स स्थित सह्याद्रि गेस्ट हाउस में रुकने का आग्रह किया। लेकिन मुख्यमंत्री योगी ने विमानतल से करीब 20 किमी दूर स्थित उत्तर प्रदेश भवन में ही रुकने का फैसला किया।


  • राष्ट्रीय सहारा : 01/11/2017 प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने देश के पूर्व उप प्रधानमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर मंगलवार को जीपीओ पार्क स्थित उनकी मूर्ति पर माल्यार्पण कर उन्हें अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने सरदार पटेल को भारत माता का महान सपूत बताते हुए कहा कि उन्होंने प्राचीन काल से सांस्कृतिक इकाई रहे भारतवर्ष की राजनीतिक एकता के सपने को साकार किया। उनकी दूरदर्शिता एवं इच्छा शक्ति से ही भारत की वर्तमान राजनीतिक एकता सम्भव हुई। इस एक भारत को श्रेष्ठ भारत बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार अहर्निश प्रयास कर रही है। योगी ने कहा कि अंग्रेजी सरकार ने अपनी कुत्सित मंशा के चलते आजादी के समय राजे रजवाड़ों को अपनी इच्छा से भारत अथवा पाकिस्तान में शामिल होने या स्वतंत्र रहने की अनुमति दी। सरदार पटेल ने अपनी दृढ़ इच्छा शक्ति और कुशलता से न केवल 543 से अधिक रियासतों का भारत में विलय कराया बल्कि जूनागढ़ और भारत में विलय से इनकार करने वाली हैदराबाद जैसी रियासतों को भारत में मिलाया। मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि तत्कालीन भारत सरकार ने सरदार पटेल के अनुरूप काम किया होता तो कश्मीर समस्या सहित वे सभी अन्य समस्याएं न होतीं जो आज देश के लिए नासूर बन गयी हैं। योगी ने विास जताया कि लोग सरदार पटेल के दिखाये रास्ते का अनुसरण करते हुए देश को जाति, मत, मजहब में बंटने नहीं देंगे और देश की स्वतंत्रता और अखण्डता की रक्षा करने के लिए तत्पर रहेंगे। इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य सहित मंत्रिगण, जनप्रतिनिधि एवं अन्य गण्यमान्य नागरिक मौजूद थे।
    Close
    पटेल की दूरदर्शिता से ही भारत की एकता सम्भव हुई
    राष्ट्रीय सहारा 01/11/2017
    प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने देश के पूर्व उप प्रधानमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर मंगलवार को जीपीओ पार्क स्थित उनकी मूर्ति पर माल्यार्पण कर उन्हें अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने सरदार पटेल को भारत माता का महान सपूत बताते हुए कहा कि उन्होंने प्राचीन काल से सांस्कृतिक इकाई रहे भारतवर्ष की राजनीतिक एकता के सपने को साकार किया। उनकी दूरदर्शिता एवं इच्छा शक्ति से ही भारत की वर्तमान राजनीतिक एकता सम्भव हुई। इस एक भारत को श्रेष्ठ भारत बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार अहर्निश प्रयास कर रही है। योगी ने कहा कि अंग्रेजी सरकार ने अपनी कुत्सित मंशा के चलते आजादी के समय राजे रजवाड़ों को अपनी इच्छा से भारत अथवा पाकिस्तान में शामिल होने या स्वतंत्र रहने की अनुमति दी। सरदार पटेल ने अपनी दृढ़ इच्छा शक्ति और कुशलता से न केवल 543 से अधिक रियासतों का भारत में विलय कराया बल्कि जूनागढ़ और भारत में विलय से इनकार करने वाली हैदराबाद जैसी रियासतों को भारत में मिलाया। मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि तत्कालीन भारत सरकार ने सरदार पटेल के अनुरूप काम किया होता तो कश्मीर समस्या सहित वे सभी अन्य समस्याएं न होतीं जो आज देश के लिए नासूर बन गयी हैं। योगी ने विास जताया कि लोग सरदार पटेल के दिखाये रास्ते का अनुसरण करते हुए देश को जाति, मत, मजहब में बंटने नहीं देंगे और देश की स्वतंत्रता और अखण्डता की रक्षा करने के लिए तत्पर रहेंगे। इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य सहित मंत्रिगण, जनप्रतिनिधि एवं अन्य गण्यमान्य नागरिक मौजूद थे।

सर्वश्रेष्ठ समीक्षा

आपका मत

आप के विचार

  • बूचड़ खाना बंद करने पर धन्यावाद

    राजेश patodi हम यह चाहते हे की यह नियम पुरे भारत देश शक्ति से लागु किया जाये हम आशा करते हे की आप की यह मेहनत जरूर रंग लाएगी जय हिन्द जय भारत ,राजेश पटौदी म.प. इंदौर
  • शिक्षा

    अभिशेष एक अपील मोदी जी और योगी जी से की प्राइवेट स्कूल की फीस पर कोई लगाम नहीं है और उनके स्कूल मे पढ़ाया जाने वाला कोर्स बाजार भाव से पांच गुना दामों मे बेचा जा रहा है । आपसे निवेदन है कि इन दोनों बातो पर अपना ध्यान दे ।
  • संपूर्ण देखें