समाचार
वर्ष : माह :
  • दैनिक जागरण : 17/01/2020 राज्य ब्यूरो, लखनऊ: बेमौसम बरसात से अचानक आई मुश्किल को लेकर सरकार पूरी तरह सतर्क हो गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गरीबों को सर्दी से बचाने के प्रबंध के साथ ही फसलों को हुए नुकसान का आकलन करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में बुधवार से लगातार बरसात हो रही है। अभी इसके प्रभाव से सर्दी तो ज्यादा नहीं बढ़ी है लेकिन, खेती को बड़ा नुकसान माना जा रहा है। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को सचेत किया है कि बारिश और खराब मौसम को देखते हुए प्रभावित लोगों को तत्काल राहत की व्यवस्था करें। आश्रय गृहों में अलाव और कंबल की उपलब्धता सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री ने कहा है कि अधिकारी फसलों को हुई क्षति का भी आकलन करें और किसानों को समुचित राहत पहुंचाएं।
    Close
    ठंड और बारिश से प्रभावितों तक पहुंचाएं मदद
    दैनिक जागरण 17/01/2020
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ: बेमौसम बरसात से अचानक आई मुश्किल को लेकर सरकार पूरी तरह सतर्क हो गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गरीबों को सर्दी से बचाने के प्रबंध के साथ ही फसलों को हुए नुकसान का आकलन करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में बुधवार से लगातार बरसात हो रही है। अभी इसके प्रभाव से सर्दी तो ज्यादा नहीं बढ़ी है लेकिन, खेती को बड़ा नुकसान माना जा रहा है। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को सचेत किया है कि बारिश और खराब मौसम को देखते हुए प्रभावित लोगों को तत्काल राहत की व्यवस्था करें। आश्रय गृहों में अलाव और कंबल की उपलब्धता सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री ने कहा है कि अधिकारी फसलों को हुई क्षति का भी आकलन करें और किसानों को समुचित राहत पहुंचाएं।


  • राष्ट्रीय सहारा : 16/01/2020 गोरखपुर (एसएनबी)। गोरक्षपीठाधीश्वर एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों को मकर संक्रान्ति की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि व्रतों और पर्वो की हमारी लम्बी वैविध्यपूर्ण परम्परा में मकर संक्रान्ति (खिचड़़ी) का विशिष्ट महव है। शिवावतारी महायोगी गुरु गोरक्षनाथ जी से प्रार्थना है कि यह पर्व हमारे राष्ट्रीय व सांस्कृतिक जीवन में समृद्धता लेकर आए। उन्होंने कहा कि मकर संक्रान्ति (खिचड़़ी) के अवसर पर शिवावतारी महायोगी गुरु श्री गोरक्षनाथ जी को आस्था की पवित्र (खिचड़़ी) चढ़ाने देश–विदेश से आए सभी श्रद्धालुजनों का हार्दिक अभिनंदन है। उन्होंने कहा कि भारत की सांस्कृतिक विविधताओं की अनमोल विरासत में मकर संक्रांति का विशेष स्थान है। प्रकृति की यह परिवर्तनकारी परिघटना हमें प्रतिक्षण विश्वास दिलाती है कि असत्य और भ्रम का धूम्र व सकारात्मक कायोंर् के प्रति उपेक्षावादी नि्क्रिरयता एक न एक दिन समाप्त अवश्य होती है। यह संक्रान्ति साफ संदेश देती है कि खरमास बीत चुका है। कुहासे छंटने वाले हैं। प्राकृतिक रूप से जीवों की शीत निष्क्रियता समाप्त होने वाली है। शुभ कर्मों का पुनः आरंभ होने जा रहा है। प्रेम‚ करुणा और नवचौतन्य की भावना के साथ समाज पुनः सकारात्मकता की ओर उन्मुख है। एक भारत–श्रेष्ठ भारत–समृद्ध भारत की संकल्पनाः गोरक्षपीठाधीश्वर ने कहा कि मकर संक्रांति के इस पर्व को अलग–अलग राज्यों में स्थानीय तरीकों से मनाया जाता है। पर्व आयोजन के रूप में भले ही भिन्न–भिन्न हो लेकिन यह सभी समरूप होकर एक भारत–श्रेष्ठ भारत–समृद्ध भारत की संकल्पना के प्रतीक बनते हैं। उन्होंने कहा कि मकर संक्रांति पर्व के अवसर पर महायोगी गुरु श्री गोरक्षनाथ जी की तपोभूमि गोरखपुर में एक मास तक चलने वाला खिचड़़ी मेला प्रारंभ हो चुका है। मंदिर परिसर में एक जनसमुद्र सा उमड़ाहुआ है। श्रद्धालुजन अपनी आस्था की खिचड़़ी बाबा गोरखनाथ को अर्पित कर रहे हैं।
    Close
    खरमास बीत चुका‚कुंहासा छंटने वाला हैः योगी
    राष्ट्रीय सहारा 16/01/2020
    गोरखपुर (एसएनबी)। गोरक्षपीठाधीश्वर एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों को मकर संक्रान्ति की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि व्रतों और पर्वो की हमारी लम्बी वैविध्यपूर्ण परम्परा में मकर संक्रान्ति (खिचड़़ी) का विशिष्ट महव है। शिवावतारी महायोगी गुरु गोरक्षनाथ जी से प्रार्थना है कि यह पर्व हमारे राष्ट्रीय व सांस्कृतिक जीवन में समृद्धता लेकर आए। उन्होंने कहा कि मकर संक्रान्ति (खिचड़़ी) के अवसर पर शिवावतारी महायोगी गुरु श्री गोरक्षनाथ जी को आस्था की पवित्र (खिचड़़ी) चढ़ाने देश–विदेश से आए सभी श्रद्धालुजनों का हार्दिक अभिनंदन है। उन्होंने कहा कि भारत की सांस्कृतिक विविधताओं की अनमोल विरासत में मकर संक्रांति का विशेष स्थान है। प्रकृति की यह परिवर्तनकारी परिघटना हमें प्रतिक्षण विश्वास दिलाती है कि असत्य और भ्रम का धूम्र व सकारात्मक कायोंर् के प्रति उपेक्षावादी नि्क्रिरयता एक न एक दिन समाप्त अवश्य होती है। यह संक्रान्ति साफ संदेश देती है कि खरमास बीत चुका है। कुहासे छंटने वाले हैं। प्राकृतिक रूप से जीवों की शीत निष्क्रियता समाप्त होने वाली है। शुभ कर्मों का पुनः आरंभ होने जा रहा है। प्रेम‚ करुणा और नवचौतन्य की भावना के साथ समाज पुनः सकारात्मकता की ओर उन्मुख है। एक भारत–श्रेष्ठ भारत–समृद्ध भारत की संकल्पनाः गोरक्षपीठाधीश्वर ने कहा कि मकर संक्रांति के इस पर्व को अलग–अलग राज्यों में स्थानीय तरीकों से मनाया जाता है। पर्व आयोजन के रूप में भले ही भिन्न–भिन्न हो लेकिन यह सभी समरूप होकर एक भारत–श्रेष्ठ भारत–समृद्ध भारत की संकल्पना के प्रतीक बनते हैं। उन्होंने कहा कि मकर संक्रांति पर्व के अवसर पर महायोगी गुरु श्री गोरक्षनाथ जी की तपोभूमि गोरखपुर में एक मास तक चलने वाला खिचड़़ी मेला प्रारंभ हो चुका है। मंदिर परिसर में एक जनसमुद्र सा उमड़ाहुआ है। श्रद्धालुजन अपनी आस्था की खिचड़़ी बाबा गोरखनाथ को अर्पित कर रहे हैं।


  • हिन्दुस्तान : 15/01/2020 गोरखपुर | मुख्य संवाददाता : सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि हम उत्तर प्रदेश को देश का नंबर वन प्रदेश बनाएंगे, जबकि प्रदेश में गोरखपुर मिसाल बनेगा। इसके लिए सभी को एकजुट होकर टीम भावना से काम करना होगा। उन्होंने निवेश और रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए अगले साल से गोरखपुर महोत्सव के साथ व्यापार मेले के आयोजन का भी ऐलान किया। योगी गोरखपुर विश्वविद्यालय परिसर में गोरखपुर महोत्सव के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अगले साल से गोरखपुर महोत्सव में व्यापार मेले का भी आयोजन किया जाएगा। अधिकारी इसका स्वरूप अभी से तैयार कर लें जिससे व्यापार मेले में देश-दुनिया की बड़ी कंपनियों और कारोबारियों को बुलाया जा सके। इससे निवेश ही नहीं, रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। उन्होंने कहा कि यह महोत्सव एक ऐसा व्यापार मेला बने, जहां देश और दुनिया की व्यापारिक गतिविधियां दिखें। लोगों को इनमें निवेश, स्वावलंबन और रोजगार के लिए प्रेरणा मिले। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्थानीय जनप्रतिनिधि और प्रशासन ऐसे हर आयोजन से जनता को जोड़ें। जनता को लगे वह उसी का आयोजन है। वही इसमें अगुवा हैं। जिस दिन ऐसा माहौल बना लिया, उस दिन गोरखपुर और प्रदेश र्शितयां हर क्षेत्र में मिसाल बन कर रहेगा। इसके लिए अभी से प्रयास शुरू कर दें। इसमें युवाओं, उद्यमियों, व्यापारियों, खिलाड़यिों और छात्रों के लिये भी मौके होने चाहिए। इससे स्थानीय प्रतिभाओं को मंच मिलेगा। आने वाले मशहूर लोगों और नवाचार से बाकी लोगों को प्रेरणा मिलेगी। इनसे मिलने वाली ऊर्जा विकास में मददगार होती है। जब यह सिलसिला निकल पड़ेगा तो तरक्की अपने आप होती जाएगी।
    Close
    यूपी देश में, गोरखपुर प्रदेश में होगा नंबर वन : योगी
    हिन्दुस्तान 15/01/2020
    गोरखपुर | मुख्य संवाददाता : सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि हम उत्तर प्रदेश को देश का नंबर वन प्रदेश बनाएंगे, जबकि प्रदेश में गोरखपुर मिसाल बनेगा। इसके लिए सभी को एकजुट होकर टीम भावना से काम करना होगा। उन्होंने निवेश और रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए अगले साल से गोरखपुर महोत्सव के साथ व्यापार मेले के आयोजन का भी ऐलान किया। योगी गोरखपुर विश्वविद्यालय परिसर में गोरखपुर महोत्सव के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अगले साल से गोरखपुर महोत्सव में व्यापार मेले का भी आयोजन किया जाएगा। अधिकारी इसका स्वरूप अभी से तैयार कर लें जिससे व्यापार मेले में देश-दुनिया की बड़ी कंपनियों और कारोबारियों को बुलाया जा सके। इससे निवेश ही नहीं, रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। उन्होंने कहा कि यह महोत्सव एक ऐसा व्यापार मेला बने, जहां देश और दुनिया की व्यापारिक गतिविधियां दिखें। लोगों को इनमें निवेश, स्वावलंबन और रोजगार के लिए प्रेरणा मिले। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्थानीय जनप्रतिनिधि और प्रशासन ऐसे हर आयोजन से जनता को जोड़ें। जनता को लगे वह उसी का आयोजन है। वही इसमें अगुवा हैं। जिस दिन ऐसा माहौल बना लिया, उस दिन गोरखपुर और प्रदेश र्शितयां हर क्षेत्र में मिसाल बन कर रहेगा। इसके लिए अभी से प्रयास शुरू कर दें। इसमें युवाओं, उद्यमियों, व्यापारियों, खिलाड़यिों और छात्रों के लिये भी मौके होने चाहिए। इससे स्थानीय प्रतिभाओं को मंच मिलेगा। आने वाले मशहूर लोगों और नवाचार से बाकी लोगों को प्रेरणा मिलेगी। इनसे मिलने वाली ऊर्जा विकास में मददगार होती है। जब यह सिलसिला निकल पड़ेगा तो तरक्की अपने आप होती जाएगी।


  • राष्ट्रीय सहारा : 11/01/2020 लखनऊ (एसएनबी)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पूरे प्रदेश में चकबंदी अधिकारियों के पास लंबित एक लाख १२ हजार ९०७ मामलों का छह महीने के अंदर निपटारा किया जाए। इसके साथ ही हाईकोर्ट में लंबित १६५ मामलों के लिए टीम लगाएं और प्रभावी पैरवी के जरिए समाधान कराएं। ॥ मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में प्रदेश में पहली बार शुक्रवार को यहां लोकभवन में राज्य के सभी चकबंदी अधिकारियों की समीक्षा बैठक हुई। इस दौरान उन्होंने कहा कि कई गांवों में २५ वर्ष से चकबंदी के मामले लंबित हैं। इतने समय तक मामले को लंबित रखने का मतलब एक पूरी पीढø़Ãी को बर्बाद करना है। गांव के लोगों में कितना धैर्य है‚ इस पर विचार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि अधिक पारदर्शी तरीके से गरीब–अमीर का चक बटेगा तो कोई आपत्ति नहीं करेगा। योगी ने कहा कि चकबंदी की ५ वर्ष की समय सीमा खत्म कर लोगों में विश्वास पैदा करें और एक साल में लोगों को स्वैच्छिक चकबंदी के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि हाथरस के गोपालपुर और गोरखपुर के चिलबिलवा गांव में जिस तरह से लोगों ने स्वैच्छिक चकबंदी कराई है‚ अन्य जनपदों में भी इसे अपनाया जाए॥। मुख्यमंत्री ने कहा कि चकबंदी प्रक्रिया के दौरान गौचर स्थल‚ खलिहान‚ खेल के मैदान और गांवों में होने वाले सार्वजनिक कार्यक्रमों के लिए स्थान छोड़़ें। छह महीने के अंदर लIय बनाकर काम करें और विभाग की छवि बदलने का प्रयास करें। उन्होंने कहा कि चकबंदी अधिकारियों को जब कोर्ट में बैठना हो‚ तब कोर्ट में बैठें‚ नहीं तो अपने कार्यालय में रहें। उन्होंने कहा कि चकबंदी के २८ एवं चकबंदी अधिकारियों के २३५ न्यायालयों के कम्प्यूटरीकरण की प्रक्रिया में तेजी लाएं।
    Close
    छह माह में लंबित मामले निपटायें चकबंदी अधिकारी
    राष्ट्रीय सहारा 11/01/2020
    लखनऊ (एसएनबी)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पूरे प्रदेश में चकबंदी अधिकारियों के पास लंबित एक लाख १२ हजार ९०७ मामलों का छह महीने के अंदर निपटारा किया जाए। इसके साथ ही हाईकोर्ट में लंबित १६५ मामलों के लिए टीम लगाएं और प्रभावी पैरवी के जरिए समाधान कराएं। ॥ मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में प्रदेश में पहली बार शुक्रवार को यहां लोकभवन में राज्य के सभी चकबंदी अधिकारियों की समीक्षा बैठक हुई। इस दौरान उन्होंने कहा कि कई गांवों में २५ वर्ष से चकबंदी के मामले लंबित हैं। इतने समय तक मामले को लंबित रखने का मतलब एक पूरी पीढø़Ãी को बर्बाद करना है। गांव के लोगों में कितना धैर्य है‚ इस पर विचार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि अधिक पारदर्शी तरीके से गरीब–अमीर का चक बटेगा तो कोई आपत्ति नहीं करेगा। योगी ने कहा कि चकबंदी की ५ वर्ष की समय सीमा खत्म कर लोगों में विश्वास पैदा करें और एक साल में लोगों को स्वैच्छिक चकबंदी के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि हाथरस के गोपालपुर और गोरखपुर के चिलबिलवा गांव में जिस तरह से लोगों ने स्वैच्छिक चकबंदी कराई है‚ अन्य जनपदों में भी इसे अपनाया जाए॥। मुख्यमंत्री ने कहा कि चकबंदी प्रक्रिया के दौरान गौचर स्थल‚ खलिहान‚ खेल के मैदान और गांवों में होने वाले सार्वजनिक कार्यक्रमों के लिए स्थान छोड़़ें। छह महीने के अंदर लIय बनाकर काम करें और विभाग की छवि बदलने का प्रयास करें। उन्होंने कहा कि चकबंदी अधिकारियों को जब कोर्ट में बैठना हो‚ तब कोर्ट में बैठें‚ नहीं तो अपने कार्यालय में रहें। उन्होंने कहा कि चकबंदी के २८ एवं चकबंदी अधिकारियों के २३५ न्यायालयों के कम्प्यूटरीकरण की प्रक्रिया में तेजी लाएं।


  • दैनिक जागरण : 10/01/2020 राज्य ब्यूरो, लखनऊ : गो आश्रय स्थलों के रखरखाव के लिए मंडियों की आय से दो के बजाए तीन प्रतिशत सेस वसूला जाए। यह धनराशि केवल उन्हीं संस्थाओं को दें जो सेवा भाव से गोसेवा कर रही हैं। इसमें से कुछ हिस्सा पशुपालन विभाग को भी जाए। दो फीसद सेस छात्रवृत्ति पर भी खर्च हो। गुरुवार को यह निर्देश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोकभवन में आयोजित राज्य कृषि उत्पादन मंडी परिषद उप्र के संचालक परिषद की 157 वीं बैठक में दिए। मुख्यमंत्री ने मंडियों की आय वृद्धि पर संतोष जताया। खाड़ी देशों में तनाव की आड़ में कालाबाजारी करने वालों पर कड़ी नजर रखने की हिदायत दी। कहा कि कुछ लोग आवश्यक वस्तुओं की कालाबाजारी, भंडारण व तस्करी में लिप्त हो सकते हैं। कृत्रिम कमी बनाते हुए कीमतें बढ़ाने की साजिश भी कर सकते हैं। खासकर दाल, तेल, सब्जी आदि पर लगातार नजर रखें। जैविक जांच को सभी केवीके पर बनें प्रयोगशाला: मुख्यमंत्री योगी ने निर्देश दिए कि जैविक उत्पादों की जांच कराने के लिए प्रयोगशालाओं की संख्या बढ़ाए। लखनऊ, वाराणसी व गोरखपुर के साथ ही बुंदेलखंड व पश्चिमी उप्र में भी एक-एक प्रयोगशाला स्थापित की जाएं। बेहतर हो प्रत्येक जिले में कृषि विज्ञान केंद्रों (केवीके) में भी इस तरह की एक लैब स्थापित की जाए। भारत सरकार की गाइडलाइन के अनुसार प्रदेश में जो 500 हाट पैठ बनाने हैं, वे चिन्हित ग्राम पंचायतों की सहमति से बनें। उनके रखरखाव के लिए पंचायतों को जवाबदेह बनाया जाए। इसके लिए पंचायतें न्यूनतम शुल्क भी लें।
    Close
    गोआश्रय स्थलों के लिए अब तीन फीसद मंडी सेस : योगी
    दैनिक जागरण 10/01/2020
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ : गो आश्रय स्थलों के रखरखाव के लिए मंडियों की आय से दो के बजाए तीन प्रतिशत सेस वसूला जाए। यह धनराशि केवल उन्हीं संस्थाओं को दें जो सेवा भाव से गोसेवा कर रही हैं। इसमें से कुछ हिस्सा पशुपालन विभाग को भी जाए। दो फीसद सेस छात्रवृत्ति पर भी खर्च हो। गुरुवार को यह निर्देश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोकभवन में आयोजित राज्य कृषि उत्पादन मंडी परिषद उप्र के संचालक परिषद की 157 वीं बैठक में दिए। मुख्यमंत्री ने मंडियों की आय वृद्धि पर संतोष जताया। खाड़ी देशों में तनाव की आड़ में कालाबाजारी करने वालों पर कड़ी नजर रखने की हिदायत दी। कहा कि कुछ लोग आवश्यक वस्तुओं की कालाबाजारी, भंडारण व तस्करी में लिप्त हो सकते हैं। कृत्रिम कमी बनाते हुए कीमतें बढ़ाने की साजिश भी कर सकते हैं। खासकर दाल, तेल, सब्जी आदि पर लगातार नजर रखें। जैविक जांच को सभी केवीके पर बनें प्रयोगशाला: मुख्यमंत्री योगी ने निर्देश दिए कि जैविक उत्पादों की जांच कराने के लिए प्रयोगशालाओं की संख्या बढ़ाए। लखनऊ, वाराणसी व गोरखपुर के साथ ही बुंदेलखंड व पश्चिमी उप्र में भी एक-एक प्रयोगशाला स्थापित की जाएं। बेहतर हो प्रत्येक जिले में कृषि विज्ञान केंद्रों (केवीके) में भी इस तरह की एक लैब स्थापित की जाए। भारत सरकार की गाइडलाइन के अनुसार प्रदेश में जो 500 हाट पैठ बनाने हैं, वे चिन्हित ग्राम पंचायतों की सहमति से बनें। उनके रखरखाव के लिए पंचायतों को जवाबदेह बनाया जाए। इसके लिए पंचायतें न्यूनतम शुल्क भी लें।


  • राष्ट्रीय सहारा : 09/01/2020 लखनऊ (एसएनबी)। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आवास एवं शहरी नियोजन विभाग को निर्देश दिया है कि आवास विकास परिषद और विकास प्राधिकरणों के डि़फाल्टरों के लिए तीन महीने की वन टाइम सेटलमेंट (ओटीएस) योजना शुरू करें‚ जिससे योजना का लाभ अधिक से अधिक लोग उठा सकें। ॥ योगी ने बुधवार को यहां लोकभवन में आवास एवं शहरी नियोजन विभाग द्वारा तैयार की गई ओटीएस –२०२० का प्रस्तुतिकरण देखने के बाद अधिकारियों को यह निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ओटीएस तीन महीने के लिए शुरू करें। पहले तीन महीने में डि़फाल्टरों से आवेदन लिए जाएं‚ अगले तीन महीने में उनका निस्तारण करें और फिर कार्रवाई सुनिश्चित करें। ॥ योगी ने कहा कि योजना की जानकारी देने के लिए आवास विकास परिषद और विकास प्राधिकरणों के अधिकारी जगह–जगह शिविर लगाएं। लोगों को जागरूक करें। सभी शहरों से आंकड़़े मंगवाएं और सुनिश्चित करें कि लोगों को इसका ज्यादा से ज्यादा लाभ हो। उन्होंने कहा कि आवास विकास परिषद और विकास प्राधिकरणों के डि़फाल्टरों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की गई‚ इसके लिए अधिकारियों और कर्मचारियों की जवाबदेही भी तय की जाए। पारदर्शिता के लिए इस बाबत एक समिति भी गठित करें।
    Close
    तीन महीने के लिए लाएं ओटीएस योजनाः सीएम
    राष्ट्रीय सहारा 09/01/2020
    लखनऊ (एसएनबी)। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आवास एवं शहरी नियोजन विभाग को निर्देश दिया है कि आवास विकास परिषद और विकास प्राधिकरणों के डि़फाल्टरों के लिए तीन महीने की वन टाइम सेटलमेंट (ओटीएस) योजना शुरू करें‚ जिससे योजना का लाभ अधिक से अधिक लोग उठा सकें। ॥ योगी ने बुधवार को यहां लोकभवन में आवास एवं शहरी नियोजन विभाग द्वारा तैयार की गई ओटीएस –२०२० का प्रस्तुतिकरण देखने के बाद अधिकारियों को यह निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ओटीएस तीन महीने के लिए शुरू करें। पहले तीन महीने में डि़फाल्टरों से आवेदन लिए जाएं‚ अगले तीन महीने में उनका निस्तारण करें और फिर कार्रवाई सुनिश्चित करें। ॥ योगी ने कहा कि योजना की जानकारी देने के लिए आवास विकास परिषद और विकास प्राधिकरणों के अधिकारी जगह–जगह शिविर लगाएं। लोगों को जागरूक करें। सभी शहरों से आंकड़़े मंगवाएं और सुनिश्चित करें कि लोगों को इसका ज्यादा से ज्यादा लाभ हो। उन्होंने कहा कि आवास विकास परिषद और विकास प्राधिकरणों के डि़फाल्टरों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की गई‚ इसके लिए अधिकारियों और कर्मचारियों की जवाबदेही भी तय की जाए। पारदर्शिता के लिए इस बाबत एक समिति भी गठित करें।


  • दैनिक जागरण : 08/01/2020 राब्यू, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सब्सिडी पाने वाले किसानों के लिए डिप सिंचाई पद्धति को अनिवार्य करने का निर्देश दिया है। मंगलवार को नमामि गंगे व जलापूर्ति विभाग के तहत लघु सिंचाई विभाग की विभिन्न बोरिंग योजनाओं के प्रस्तुतीकरण के दौरान उन्होंने यह निर्देश दिया। उन्होंने लघु सिंचाई विभाग में प्रचलित बोरिंग की विभिन्न योजनाओं को उद्यान और कृषि विभाग की डिप व स्प्रिंकलर सिंचाई योजना से जोड़ने के लिए भी कहा। उनका कहना था कि इस सिंचाई पद्धति को अपनाने से काफी मात्र में पानी की बचत की जा सकती है। सब्सिडी प्राप्त करने वाले किसानों के लिए स्प्रिंकलर या डिप प्रणाली को अनिवार्य बनाया जाए। प्रस्तुतीकरण के दौरान बताया गया कि लघु सिंचाई विभाग द्वारा किसानों को नि:शुल्क बोरिंग, मध्यम गहरी बोरिंग व गहरी बोरिंग योजनाएं संचालित है। इन योजनाओं में किसानों के यहां ट्यूबवेल का निर्माण किया जाता है। किसानों को अलग-अलग योजनाओं में कृषक श्रेणी के अनुसार अनुदान दिया जाता है। इस बारे में विस्तार से बताते हुए अनुदान की जानकारी भी दी।
    Close
    सब्सिडी लेने वाले किसानों के लिए डिप सिंचाई हो अनिवार्य
    दैनिक जागरण 08/01/2020
    राब्यू, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सब्सिडी पाने वाले किसानों के लिए डिप सिंचाई पद्धति को अनिवार्य करने का निर्देश दिया है। मंगलवार को नमामि गंगे व जलापूर्ति विभाग के तहत लघु सिंचाई विभाग की विभिन्न बोरिंग योजनाओं के प्रस्तुतीकरण के दौरान उन्होंने यह निर्देश दिया। उन्होंने लघु सिंचाई विभाग में प्रचलित बोरिंग की विभिन्न योजनाओं को उद्यान और कृषि विभाग की डिप व स्प्रिंकलर सिंचाई योजना से जोड़ने के लिए भी कहा। उनका कहना था कि इस सिंचाई पद्धति को अपनाने से काफी मात्र में पानी की बचत की जा सकती है। सब्सिडी प्राप्त करने वाले किसानों के लिए स्प्रिंकलर या डिप प्रणाली को अनिवार्य बनाया जाए। प्रस्तुतीकरण के दौरान बताया गया कि लघु सिंचाई विभाग द्वारा किसानों को नि:शुल्क बोरिंग, मध्यम गहरी बोरिंग व गहरी बोरिंग योजनाएं संचालित है। इन योजनाओं में किसानों के यहां ट्यूबवेल का निर्माण किया जाता है। किसानों को अलग-अलग योजनाओं में कृषक श्रेणी के अनुसार अनुदान दिया जाता है। इस बारे में विस्तार से बताते हुए अनुदान की जानकारी भी दी।


  • हिन्दुस्तान : 06/01/2020 सीएम योगी आदित्यनाथ ने सीएए पर प्रबुद्ध जगत को जागरूक करते हुए रविवार को कांग्रेस व सपा पर जमकर हमला किया। कहा कि कांग्रेस व सपा ने अफवाह फैला कर हिंसा कराई। योगी ने कहा कि कांग्रेसी ऐसा झूठ बोलते हैं कि लगता है कि उनके डीएनए में ही झूठ बोलना है। सपा नेता कहते हैं कि उपद्रवियों को पेंशन देंगे। यह कहने वाले जनता की गाढ़ी कमाई को परिवार की जागीर समझते हैं। मैंने स्पष्ट कर दिया है कि जनता की गाढ़ी कमाई से बनाई गई सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान करने वालों से इसकी भरपाई की जाएगी। डीडीयू के संवाद भवन में ‘सीएए पर प्रबुद्ध जगत की संगोष्ठी' में योगी ने कहा कि जो साजिशें रची जा रही हैं, उनसे हमें सचेत होना होगा। कांग्रेस को अवसर मिला था कि 1947 के पाप का परिमार्जन करती लेकिन वह विफल रही। जामिया विवि में आगजनी होती है तो कांग्रेस की एक नेत्री खड़ी हो जाती हैं। प्रदेश में बवालियों से मिलने कांग्रेस के दूसरे नेता पहुंच जाते हैं। जैसे उपद्रवियों के साथ फोटो सेशन चल रहा हो। सीएम ने कांग्रेस के झूठ का पर्दाफाश करने के लिए मीडिया को धन्यवाद देते हुए कहा कि इसके लिए अब प्रबुद्ध वर्ग को भी आगे आना चाहिए। प्रबुद्ध वर्ग जब लोगों को समझाता है तो असर दिखता है। इसलिए इस कार्य्रकम को आयोजित किया गया है। योगी ने कहा कि कांग्रेस सपा ने अफवाह फैला कर हिंसा करवाई और समाज व राष्ट्र विरोधी तत्वों से हाथ मिलाया है। समाज व राष्ट्र की क्षति करने और राष्ट्र विरोधी तत्वों से मिल कर सपा, कांग्रेस व तृणमूल के लोग देश की विधायिका को चुनौती दे रहे हैं।
    Close
    कांग्रेस-सपा ने अफवाह फैलाकर हिंसा भड़काई : योगी
    हिन्दुस्तान 06/01/2020
    सीएम योगी आदित्यनाथ ने सीएए पर प्रबुद्ध जगत को जागरूक करते हुए रविवार को कांग्रेस व सपा पर जमकर हमला किया। कहा कि कांग्रेस व सपा ने अफवाह फैला कर हिंसा कराई। योगी ने कहा कि कांग्रेसी ऐसा झूठ बोलते हैं कि लगता है कि उनके डीएनए में ही झूठ बोलना है। सपा नेता कहते हैं कि उपद्रवियों को पेंशन देंगे। यह कहने वाले जनता की गाढ़ी कमाई को परिवार की जागीर समझते हैं। मैंने स्पष्ट कर दिया है कि जनता की गाढ़ी कमाई से बनाई गई सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान करने वालों से इसकी भरपाई की जाएगी। डीडीयू के संवाद भवन में ‘सीएए पर प्रबुद्ध जगत की संगोष्ठी' में योगी ने कहा कि जो साजिशें रची जा रही हैं, उनसे हमें सचेत होना होगा। कांग्रेस को अवसर मिला था कि 1947 के पाप का परिमार्जन करती लेकिन वह विफल रही। जामिया विवि में आगजनी होती है तो कांग्रेस की एक नेत्री खड़ी हो जाती हैं। प्रदेश में बवालियों से मिलने कांग्रेस के दूसरे नेता पहुंच जाते हैं। जैसे उपद्रवियों के साथ फोटो सेशन चल रहा हो। सीएम ने कांग्रेस के झूठ का पर्दाफाश करने के लिए मीडिया को धन्यवाद देते हुए कहा कि इसके लिए अब प्रबुद्ध वर्ग को भी आगे आना चाहिए। प्रबुद्ध वर्ग जब लोगों को समझाता है तो असर दिखता है। इसलिए इस कार्य्रकम को आयोजित किया गया है। योगी ने कहा कि कांग्रेस सपा ने अफवाह फैला कर हिंसा करवाई और समाज व राष्ट्र विरोधी तत्वों से हाथ मिलाया है। समाज व राष्ट्र की क्षति करने और राष्ट्र विरोधी तत्वों से मिल कर सपा, कांग्रेस व तृणमूल के लोग देश की विधायिका को चुनौती दे रहे हैं।


  • राष्ट्रीय सहारा : 05/01/2020 लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को प्रदेश के ११ वीर अमर शहीद सैनिकों के आश्रितों को सरकारी नौकरी देने के लिए नियुक्ति पत्र वितरित किए। सीएम के सरकारी आवास ५ कालिदास मार्ग पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के लिए शहीद होने वालों के परिवारों का सम्मान करना हम सबका साझा दायित्व है। प्रदेश सरकार सैनिकों के प्रति संवेदनशील है और हर संभव सहायता के लिए प्रतिबद्ध है। योगी ने कहा कि प्रदेश में पहली बार फरवरी में राजधानी लखनऊ में भव्य डि़फेंस एक्सपो का आयोजन किया जा रहा है‚ जिससे सभी को रक्षा क्षेत्र की अत्याधुनिक तकनीक और शस्त्रों का अवलोकन करने का मौका मिलेगा।
    Close
    प्रदेश सरकार सैनिकों के प्रति संवेदनशीलः योगी
    राष्ट्रीय सहारा 05/01/2020
    लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को प्रदेश के ११ वीर अमर शहीद सैनिकों के आश्रितों को सरकारी नौकरी देने के लिए नियुक्ति पत्र वितरित किए। सीएम के सरकारी आवास ५ कालिदास मार्ग पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के लिए शहीद होने वालों के परिवारों का सम्मान करना हम सबका साझा दायित्व है। प्रदेश सरकार सैनिकों के प्रति संवेदनशील है और हर संभव सहायता के लिए प्रतिबद्ध है। योगी ने कहा कि प्रदेश में पहली बार फरवरी में राजधानी लखनऊ में भव्य डि़फेंस एक्सपो का आयोजन किया जा रहा है‚ जिससे सभी को रक्षा क्षेत्र की अत्याधुनिक तकनीक और शस्त्रों का अवलोकन करने का मौका मिलेगा।


  • दैनिक जागरण : 04/01/2020 राज्य ब्यूरो, लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अवैध कॉलोनियों तथा वाणिज्यिक व आवासीय भवनों में मानक से अधिक निर्माण के लिए ठोस कंपाउंडिंग नीति (शमन योजना) बनाकर लागू करने के निर्देश दिए हैं। प्रस्तावित योजना को अंतिम रूप देने से पहले उसका प्रचार-प्रसार कर आम नागरिकों से उस पर राय भी मांगी जाएगी। मुख्यमंत्री ने योजना के तहत तय समय में कंपाउंडिग न होने वाले अवैध निर्माणों को अभियान चलाकर पूरी सख्ती के साथ ध्वस्त करने के भी निर्देश दिए हैं। उन्होंने उन अधिकारियों की जवाबदेही भी तय करने को कहा है जिनके कार्यकाल में अवैध कॉलोनियां बसाई गई हैं। शुक्रवार को लोकभवन में आवास एवं शहरी नियोजन विभाग की प्रस्तावित शमन योजना-2020 का प्रस्तुतीकरण देखने के बाद मुख्यमंत्री ने अलग-अलग टीमें बनाकर अवैध निर्माण चिह्नित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने अवैध निर्माण करने वालों को जानकारी देकर उन्हें खुद अपना अवैध निर्माण ध्वस्त करने का मौका देने को कहा। ऐसा न होने पर उन्होंने विभाग द्वारा निर्माण ध्वस्त कराने और शमन शुल्क वसूलने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने इसके लिए पारदर्शी व्यवस्था बनाने को कहा, ताकि यह कहीं अनैतिक कमाई का जरिया न बन जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि भूतल व दो मंजिलों से ऊपर निर्माण करने वालों को मानक का ध्यान रखते हुए अनुमति दी जाए। सीएम ने मानक से अधिक निर्माण के लिए ठोस कंपाउंडिंग नीति बनाने के दिए निर्देश, सीएम ने कहा, सड़क पर खड़ी गाड़ियों का करें चालान लखनऊ: शुक्रवार को लोक भवन में शमन योजना के प्रस्तुतिकरण के दौरान बैठक करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ’ सौजन्य सूचना विभाग अब बटाईदार भी होंगे सीएम कृषक दुर्घटना बीमा के लाभार्थी :- राब्यू, लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री कृषक बीमा योजना का लाभ बटाईदार को भी देने का फैसला किया है। ऐसा पहली बार होगा कि बटाईदार भी सीएम कृषक दुर्घटना बीमा के लाभार्थी होंगे। आंधी-तूफान व भूस्खलन में होने वाली मौत या दुर्घटना भी इस योजना के दायरे में होगी। किसान के बालिग आश्रित (18 वर्ष से 70 वर्ष) को भी इसका लाभ मिलेगा। ऐसे में इस योजना का आकार भी बढ़ गया है। इस योजना के तहत बीमा की अधिकतम राशि पांच लाख रुपये होगी। जिलाधिकारी खुद करें रात में रैन बसेरों का निरीक्षण :- राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ठंड के दौरान हुई बारिश को देखते हुए प्रदेश के सभी नगर निकायों और जिला प्रशासन को गरीबों और निराश्रितों के लिए संचालित रैन बसेरों की लगातार निगरानी करने का निर्देश दिया है। उन्होंने जिलाधिकारियों को रात्रि भ्रमण कर रैन बसेरों का निरीक्षण करने और वहां सभी सुविधाएं सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि ठंड से बचाव के लिए हर हाल में जरूरतमंदों के लिए कंबल और अलाव की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। प्रदेश सरकार अब तक जरूरतमंदों के बीच पांच लाख से अधिक कंबल बांट चुकी है। जिलों में रैन बसेरे स्थापित किये गए हैं। वर्तमान समय में 2500 से अधिक रैन बसेरे संचालित हैं। सामाजिक संगठनों से भी आह्वान किया गया है कि वह जरूरतमंदों की मदद के लिए आगे आयें।
    Close
    कंपाउंडिंग न होने पर ध्वस्त करें अवैध निर्माण : योगी
    दैनिक जागरण 04/01/2020
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अवैध कॉलोनियों तथा वाणिज्यिक व आवासीय भवनों में मानक से अधिक निर्माण के लिए ठोस कंपाउंडिंग नीति (शमन योजना) बनाकर लागू करने के निर्देश दिए हैं। प्रस्तावित योजना को अंतिम रूप देने से पहले उसका प्रचार-प्रसार कर आम नागरिकों से उस पर राय भी मांगी जाएगी। मुख्यमंत्री ने योजना के तहत तय समय में कंपाउंडिग न होने वाले अवैध निर्माणों को अभियान चलाकर पूरी सख्ती के साथ ध्वस्त करने के भी निर्देश दिए हैं। उन्होंने उन अधिकारियों की जवाबदेही भी तय करने को कहा है जिनके कार्यकाल में अवैध कॉलोनियां बसाई गई हैं। शुक्रवार को लोकभवन में आवास एवं शहरी नियोजन विभाग की प्रस्तावित शमन योजना-2020 का प्रस्तुतीकरण देखने के बाद मुख्यमंत्री ने अलग-अलग टीमें बनाकर अवैध निर्माण चिह्नित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने अवैध निर्माण करने वालों को जानकारी देकर उन्हें खुद अपना अवैध निर्माण ध्वस्त करने का मौका देने को कहा। ऐसा न होने पर उन्होंने विभाग द्वारा निर्माण ध्वस्त कराने और शमन शुल्क वसूलने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने इसके लिए पारदर्शी व्यवस्था बनाने को कहा, ताकि यह कहीं अनैतिक कमाई का जरिया न बन जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि भूतल व दो मंजिलों से ऊपर निर्माण करने वालों को मानक का ध्यान रखते हुए अनुमति दी जाए। सीएम ने मानक से अधिक निर्माण के लिए ठोस कंपाउंडिंग नीति बनाने के दिए निर्देश, सीएम ने कहा, सड़क पर खड़ी गाड़ियों का करें चालान लखनऊ: शुक्रवार को लोक भवन में शमन योजना के प्रस्तुतिकरण के दौरान बैठक करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ’ सौजन्य सूचना विभाग अब बटाईदार भी होंगे सीएम कृषक दुर्घटना बीमा के लाभार्थी :- राब्यू, लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री कृषक बीमा योजना का लाभ बटाईदार को भी देने का फैसला किया है। ऐसा पहली बार होगा कि बटाईदार भी सीएम कृषक दुर्घटना बीमा के लाभार्थी होंगे। आंधी-तूफान व भूस्खलन में होने वाली मौत या दुर्घटना भी इस योजना के दायरे में होगी। किसान के बालिग आश्रित (18 वर्ष से 70 वर्ष) को भी इसका लाभ मिलेगा। ऐसे में इस योजना का आकार भी बढ़ गया है। इस योजना के तहत बीमा की अधिकतम राशि पांच लाख रुपये होगी। जिलाधिकारी खुद करें रात में रैन बसेरों का निरीक्षण :- राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ठंड के दौरान हुई बारिश को देखते हुए प्रदेश के सभी नगर निकायों और जिला प्रशासन को गरीबों और निराश्रितों के लिए संचालित रैन बसेरों की लगातार निगरानी करने का निर्देश दिया है। उन्होंने जिलाधिकारियों को रात्रि भ्रमण कर रैन बसेरों का निरीक्षण करने और वहां सभी सुविधाएं सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि ठंड से बचाव के लिए हर हाल में जरूरतमंदों के लिए कंबल और अलाव की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। प्रदेश सरकार अब तक जरूरतमंदों के बीच पांच लाख से अधिक कंबल बांट चुकी है। जिलों में रैन बसेरे स्थापित किये गए हैं। वर्तमान समय में 2500 से अधिक रैन बसेरे संचालित हैं। सामाजिक संगठनों से भी आह्वान किया गया है कि वह जरूरतमंदों की मदद के लिए आगे आयें।


  • हिन्दुस्तान : 01/01/2020 लखनऊ | विशेष संवाददाता :- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक नागरिकता कानून, एनआरसी व एनपीआर जैसे मामलों में जनता को जागरूक करें। अल्पसंख्यक वर्ग में फैलाये गए भ्रम को दूर करें। जनता को बताएं कि सीएए नागरिकता देने का कानून है, लेने का नहीं। मुख्यमंत्री मंगलवार देर रात अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग में यह बात कही। उन्होंने वीडियो क्लिपिंग के माध्यम से उपद्रवियों को चि्ह्तित कर उन्हें एक हफ्ते का नोटिस देकर नुकसान की भरपाई करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा एनएचआरसी से भी ये वीडियो क्लिप साझा करें। ठंड से बचाव के निर्देश: मुख्यमंत्री ने अफसरों को कम्बल वितरण, अलाव जलाने, रैन बसेरों की स्थापना करने के निर्देश दिए। रैन बसेरों में रहने वाले लोगों के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराते हुए इन्हें पूरे वर्ष चलाने के निर्देश दिए।
    Close
    सीएए पर डीएम-एसपी जागरूक करें : योगी
    हिन्दुस्तान 01/01/2020
    लखनऊ | विशेष संवाददाता :- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक नागरिकता कानून, एनआरसी व एनपीआर जैसे मामलों में जनता को जागरूक करें। अल्पसंख्यक वर्ग में फैलाये गए भ्रम को दूर करें। जनता को बताएं कि सीएए नागरिकता देने का कानून है, लेने का नहीं। मुख्यमंत्री मंगलवार देर रात अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग में यह बात कही। उन्होंने वीडियो क्लिपिंग के माध्यम से उपद्रवियों को चि्ह्तित कर उन्हें एक हफ्ते का नोटिस देकर नुकसान की भरपाई करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा एनएचआरसी से भी ये वीडियो क्लिप साझा करें। ठंड से बचाव के निर्देश: मुख्यमंत्री ने अफसरों को कम्बल वितरण, अलाव जलाने, रैन बसेरों की स्थापना करने के निर्देश दिए। रैन बसेरों में रहने वाले लोगों के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराते हुए इन्हें पूरे वर्ष चलाने के निर्देश दिए।

सर्वश्रेष्ठ समीक्षा

आपका मत

आप के विचार

  • बूचड़ खाना बंद करने पर धन्यावाद

    राजेश patodi हम यह चाहते हे की यह नियम पुरे भारत देश शक्ति से लागु किया जाये हम आशा करते हे की आप की यह मेहनत जरूर रंग लाएगी जय हिन्द जय भारत ,राजेश पटौदी म.प. इंदौर
  • शिक्षा

    अभिशेष एक अपील मोदी जी और योगी जी से की प्राइवेट स्कूल की फीस पर कोई लगाम नहीं है और उनके स्कूल मे पढ़ाया जाने वाला कोर्स बाजार भाव से पांच गुना दामों मे बेचा जा रहा है । आपसे निवेदन है कि इन दोनों बातो पर अपना ध्यान दे ।
  • संपूर्ण देखें