समाचार
वर्ष : माह :
  • दैनिक जागरण : 14/11/2019 राज्य ब्यूरो, लखनऊ: पराली समस्या से निजात दिलाने के लिए प्रत्येक जिले में निस्तारण इकाइयां लगाई जाएंगी ताकि किसान को आर्थिक लाभ हो और प्रदूषण संकट से भी मुक्ति मिल सके। यह बात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को लोकभवन सभागार में गन्ना किसानों के लिए वेब पोर्टल और ई-गन्ना मोबाइल एप का शुभारंभ करते हुए कही। उन्होंने बताया कि ऐसी यूनिटें सीतापुर व गोरखपुर में स्थापित की जा रहीं हैं। पराली व अन्य कृषि अपशिष्ट से बायोफ्यूल और कम्पोस्ट खाद भी बनेगी। उनका कहना था कि पराली जलाना धरती माता से अन्याय है, इससे न केवल वायु प्रदूषण बढ़ता है, भूमि की उर्वरता भी खत्म होती है। मुख्यमंत्री ने कहा, प्रदेश के औद्योगिक विकास में चीनी उद्योग का अहम स्थान है। प्रदेश में 119 चीनी मिलें कार्य कर रही हैं। इस वर्ष दो नई मिलें आरंभ होंगी। चीनी मिलों व गन्ना किसानों के विकास के लिए शुगर डेवलपमेंट फंड स्थापित करने की जरूरत बताते हुए उन्होंने कहा कि इससे हजारों कर्मचारियों के अलावा 50 लाख किसान परिवारों का भला होगा। योगी आदित्यनाथ ने केंद्र व प्रदेश सरकारों की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों ने किसानों को हाशिए पर पहुंचा दिया था। तब चीनी मिलें बेची जा रही थीं और किसान आत्महत्या करने को मजबूर थे। उन्होंने कहा कि नए पोर्टल और मोबाइल एप से गन्ना माफिया खुद ही खत्म हो जाएंगे और पर्चियों की कालाबाजारी बंद होगी।
    Close
    प्रत्येक जिले में लगेगी पराली निस्तारण यूनिट : योगी
    दैनिक जागरण 14/11/2019
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ: पराली समस्या से निजात दिलाने के लिए प्रत्येक जिले में निस्तारण इकाइयां लगाई जाएंगी ताकि किसान को आर्थिक लाभ हो और प्रदूषण संकट से भी मुक्ति मिल सके। यह बात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को लोकभवन सभागार में गन्ना किसानों के लिए वेब पोर्टल और ई-गन्ना मोबाइल एप का शुभारंभ करते हुए कही। उन्होंने बताया कि ऐसी यूनिटें सीतापुर व गोरखपुर में स्थापित की जा रहीं हैं। पराली व अन्य कृषि अपशिष्ट से बायोफ्यूल और कम्पोस्ट खाद भी बनेगी। उनका कहना था कि पराली जलाना धरती माता से अन्याय है, इससे न केवल वायु प्रदूषण बढ़ता है, भूमि की उर्वरता भी खत्म होती है। मुख्यमंत्री ने कहा, प्रदेश के औद्योगिक विकास में चीनी उद्योग का अहम स्थान है। प्रदेश में 119 चीनी मिलें कार्य कर रही हैं। इस वर्ष दो नई मिलें आरंभ होंगी। चीनी मिलों व गन्ना किसानों के विकास के लिए शुगर डेवलपमेंट फंड स्थापित करने की जरूरत बताते हुए उन्होंने कहा कि इससे हजारों कर्मचारियों के अलावा 50 लाख किसान परिवारों का भला होगा। योगी आदित्यनाथ ने केंद्र व प्रदेश सरकारों की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों ने किसानों को हाशिए पर पहुंचा दिया था। तब चीनी मिलें बेची जा रही थीं और किसान आत्महत्या करने को मजबूर थे। उन्होंने कहा कि नए पोर्टल और मोबाइल एप से गन्ना माफिया खुद ही खत्म हो जाएंगे और पर्चियों की कालाबाजारी बंद होगी।


  • हिन्दुस्तान : 13/11/2019 लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि सिख गुरुओं के त्याग और बलिदान से ही देश और धर्म जिंदा है। देश हित में सिख समाज के त्याग को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। मुख्यमंत्री नाका गुरुद्वारे की ओर से डीएवी कॉलेज में आयोजित गुरुनानक देव के 550 वें प्रकाश पर्व पर बोल रहे थे। योगी ने कहा कि आज से 550 वर्ष पहले धर्म के प्रकाश के लिए जिस पुंज का जन्म हुआ था, उसका प्रकाश पूरी दुनिया में फैला है। सिख पंथ की नींव रख कर नानक जी ने त्याग और बलिदान का पाठ पढ़ाया।
    Close
    सिखों के बलिदान से देश जिंदा : योगी
    हिन्दुस्तान 13/11/2019
    लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि सिख गुरुओं के त्याग और बलिदान से ही देश और धर्म जिंदा है। देश हित में सिख समाज के त्याग को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। मुख्यमंत्री नाका गुरुद्वारे की ओर से डीएवी कॉलेज में आयोजित गुरुनानक देव के 550 वें प्रकाश पर्व पर बोल रहे थे। योगी ने कहा कि आज से 550 वर्ष पहले धर्म के प्रकाश के लिए जिस पुंज का जन्म हुआ था, उसका प्रकाश पूरी दुनिया में फैला है। सिख पंथ की नींव रख कर नानक जी ने त्याग और बलिदान का पाठ पढ़ाया।


  • राष्ट्रीय सहारा : 09/11/2019 लखनऊ (भाषा)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उच्चतम न्यायालय द्वारा अयोध्या प्रकरण के संबंध में दिए जाने वाले संभावित फैसले के दृष्टिगत प्रदेशवासियों से अपील की है कि आने वाले फैसले को जीत-हार के साथ जोड़कर न देखा जाए। उन्होंने कहा, यह हम सभी की जिम्मेदारी है कि प्रदेश में शांतिपूर्ण और सौहार्दपूर्ण वातावरण को हर हाल में बनाए रखें। अफवाहों पर कतई ध्यान न दें। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रशासन सभी की सुरक्षा व प्रदेश में कानून-व्यवस्था को बनाए रखने के लिए कटिबद्ध है। कोई भी व्यक्ति यदि कानून-व्यवस्था के साथ खिलवाड़ करने की कोशिश करेगा, तो उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।
    Close
    फैसले को हार-जीत से न जोड़ें
    राष्ट्रीय सहारा 09/11/2019
    लखनऊ (भाषा)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उच्चतम न्यायालय द्वारा अयोध्या प्रकरण के संबंध में दिए जाने वाले संभावित फैसले के दृष्टिगत प्रदेशवासियों से अपील की है कि आने वाले फैसले को जीत-हार के साथ जोड़कर न देखा जाए। उन्होंने कहा, यह हम सभी की जिम्मेदारी है कि प्रदेश में शांतिपूर्ण और सौहार्दपूर्ण वातावरण को हर हाल में बनाए रखें। अफवाहों पर कतई ध्यान न दें। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रशासन सभी की सुरक्षा व प्रदेश में कानून-व्यवस्था को बनाए रखने के लिए कटिबद्ध है। कोई भी व्यक्ति यदि कानून-व्यवस्था के साथ खिलवाड़ करने की कोशिश करेगा, तो उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।


  • दैनिक जागरण : 08/11/2019 राज्य ब्यूरो, लखनऊ : राम मंदिर पर आने वाले फैसले के मद्देनजर कानून-व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त करने के लिए सरकार ने कमर कस ली है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दो टूक कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पूरा सम्मान होगा और माहौल बिगाड़ने और अराजकता फैलाने की छूट किसी को नहीं मिलेगी। ऐसे तत्वों तथा सोशल मीडिया के भड़काऊ पोस्ट पर नजर रहेगी। अधिकारियों से कहा कि कहीं भी कोई ऐसी स्थिति नहीं आनी चाहिये, जिससे शांति भंग होने की आशंका हो। सोशल मीडिया पर किसी भी भड़काऊ पोस्ट पर तत्काल कार्रवाई की जाये। गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी जिलों के डीएम, एसएसपी-एसपी और वरिष्ठ अधिकारियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये दिशा निर्देश दिए। कहा कि कमिश्नर, एडीजी, आइजी व अन्य वरिष्ठ अधिकारी रात को जिलों में रुके और वहां की व्यवस्थाओं की समीक्षा करें। धार्मिक स्थलों की सुरक्षा-व्यवस्था भी सुनिश्चित करायें। मुख्यमंत्री के सरकारी आवास पांच कालिदास से संचालित इस कॉन्फ्रेंसिंग में मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी, डीजीपी ओपी सिंह, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, सचिव मुख्यमंत्री संजय प्रसाद समेत कई वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने डीएम-एसपी और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की। कहा, छोटी से छोटी घटनाओं का संज्ञान लेकर त्वरित कार्रवाई करें। हर जिले में 24 घंटे कंट्रोल रूम संचालित करने और सूचनाओं पर एक्शन के निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों को जनता, नेताओं और धर्म गुरुओं के साथ लगातार संवाद बनाए रखने के निर्देश दिए। योगी ने थानावार शांति समितियों की बैठक करने पर जोर दिया और कहा कि आपातकालीन सहायता डायल 112 पर आने वाली हर सूचना का कम से कम समय में संज्ञान लेकर त्वरित कार्रवाई करें। उन्होंने संसाधन व्यवस्थित करने और बॉर्डर पर सघन जांच की भी हिदायत दी। बैठक की शुरुआत में ही डीजीपी ओपी सिंह ने अब तक की सभी तैयारियों का विवरण दिया और कहा कि मुख्यमंत्री की हमेशा फुट पेट्रोलिंग की हिदायत रही है। अब तक फुट पेट्रोलिंग में 1753 लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है।
    Close
    किसी सूरत में न बिगड़े माहौल : योगी
    दैनिक जागरण 08/11/2019
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ : राम मंदिर पर आने वाले फैसले के मद्देनजर कानून-व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त करने के लिए सरकार ने कमर कस ली है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दो टूक कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पूरा सम्मान होगा और माहौल बिगाड़ने और अराजकता फैलाने की छूट किसी को नहीं मिलेगी। ऐसे तत्वों तथा सोशल मीडिया के भड़काऊ पोस्ट पर नजर रहेगी। अधिकारियों से कहा कि कहीं भी कोई ऐसी स्थिति नहीं आनी चाहिये, जिससे शांति भंग होने की आशंका हो। सोशल मीडिया पर किसी भी भड़काऊ पोस्ट पर तत्काल कार्रवाई की जाये। गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी जिलों के डीएम, एसएसपी-एसपी और वरिष्ठ अधिकारियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये दिशा निर्देश दिए। कहा कि कमिश्नर, एडीजी, आइजी व अन्य वरिष्ठ अधिकारी रात को जिलों में रुके और वहां की व्यवस्थाओं की समीक्षा करें। धार्मिक स्थलों की सुरक्षा-व्यवस्था भी सुनिश्चित करायें। मुख्यमंत्री के सरकारी आवास पांच कालिदास से संचालित इस कॉन्फ्रेंसिंग में मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी, डीजीपी ओपी सिंह, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, सचिव मुख्यमंत्री संजय प्रसाद समेत कई वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने डीएम-एसपी और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की। कहा, छोटी से छोटी घटनाओं का संज्ञान लेकर त्वरित कार्रवाई करें। हर जिले में 24 घंटे कंट्रोल रूम संचालित करने और सूचनाओं पर एक्शन के निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों को जनता, नेताओं और धर्म गुरुओं के साथ लगातार संवाद बनाए रखने के निर्देश दिए। योगी ने थानावार शांति समितियों की बैठक करने पर जोर दिया और कहा कि आपातकालीन सहायता डायल 112 पर आने वाली हर सूचना का कम से कम समय में संज्ञान लेकर त्वरित कार्रवाई करें। उन्होंने संसाधन व्यवस्थित करने और बॉर्डर पर सघन जांच की भी हिदायत दी। बैठक की शुरुआत में ही डीजीपी ओपी सिंह ने अब तक की सभी तैयारियों का विवरण दिया और कहा कि मुख्यमंत्री की हमेशा फुट पेट्रोलिंग की हिदायत रही है। अब तक फुट पेट्रोलिंग में 1753 लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है।


  • हिन्दुस्तान : 06/11/2019 राज्य मुख्यालय ' प्रमुख संवाददाता : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि लोकसभा उपचुनाव में निराशाजनक हार के बाद मैं राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के पास गया था। महागठबंधन के विषय में उनसे चर्चा की, तब उन्होंने कहा था कि सपा, बसपा या जो भी दल महागठबंधन में शामिल होना चाहते हैं, हो जाएं यह सब गायब हो जाएंगे। विपरीत से विपरीत परिस्थितियों में भी भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश में बड़ी जीत दर्ज करेगी। बस आप परिश्रम करते रहिए, क्योंकि परिश्रम का कोई विकल्प नहीं होता। उनमें परिश्रम की पराकाष्ठा का भाव है। जिसका परिणाम आज आप सबके सामने है। मुख्यमंत्री योगी मंगलवार को लखनऊ में लोकभवन में ‘अमित शाह और भाजपा की यात्रा' पुस्तक पर आयोजित परिचर्चा में मुख्य वक्ता के तौर पर बोल रहे थे।
    Close
    शाह ने परिश्रम को बताया जीत का मंत्र : योगी
    हिन्दुस्तान 06/11/2019
    राज्य मुख्यालय ' प्रमुख संवाददाता : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि लोकसभा उपचुनाव में निराशाजनक हार के बाद मैं राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के पास गया था। महागठबंधन के विषय में उनसे चर्चा की, तब उन्होंने कहा था कि सपा, बसपा या जो भी दल महागठबंधन में शामिल होना चाहते हैं, हो जाएं यह सब गायब हो जाएंगे। विपरीत से विपरीत परिस्थितियों में भी भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश में बड़ी जीत दर्ज करेगी। बस आप परिश्रम करते रहिए, क्योंकि परिश्रम का कोई विकल्प नहीं होता। उनमें परिश्रम की पराकाष्ठा का भाव है। जिसका परिणाम आज आप सबके सामने है। मुख्यमंत्री योगी मंगलवार को लखनऊ में लोकभवन में ‘अमित शाह और भाजपा की यात्रा' पुस्तक पर आयोजित परिचर्चा में मुख्य वक्ता के तौर पर बोल रहे थे।


  • राष्ट्रीय सहारा : 05/11/2019 लखनऊ (एसएनबी)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यहां कहा कि एक अदद घर का सपना लिए जीवन भर की गाढ़ी कमाई किसी बिल्डर को देने वालों का हित मेरे लिए सवरेपरि है। बिल्डर अगर पूरी पारदर्शिता और गुणवत्ता के अनुसार ग्राहक से किये वादे को पूरा करेंगे तो सरकार नियमानुसार उनका हर संभव मदद करेगी। अगर ऐसा हो तो ‘‘रेरा’ रीयल एस्टेट सेक्टर को मंदी के दौर से उबारकर एक बार फिर बुलंदियों पर ले जाएगा।मुख्यमंत्री सोमवार को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित रीयल एस्टेट रेग्यूलेटरी अथॉरटी (रेरा) के पहले राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक अदद अपना घर स्वावलंबन से भी जुड़ा है। उन्होंने अयोध्या निवासी महावीर (हरिजन) का उदाहरण भी दिया। पेशे से राजमिस्त्री महाबीर की किस्मत पीएम आवास का पैसा मिलने के बाद बदल गयी। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों में नोएडा जाने को लेकर एक मिथ था। ऐसी साजिश उन लोगों ने की थी, जिनकी नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस वे आस-पास काली कमाई लगी थी। पैसा देने के बाद भी घर न मिलने की 80 फीसद शिकायतें राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के आठ जिलों से ही हैं। कुछ पीड़ित ग्राहकों और बिल्डर्स से मिलने के बाद मुझे नोएडा का यह मिथ समझ में आया। मेरा मानना है कि इस सेक्टर में हुई गड़बड़ियों के मूल में राजनैतिक एवं प्रशासनिक बेईमानी भी है। बदनीयती से इन लोगों से या तो मिले पैसे का बंदरबांट कर लिया या किसी और क्षेत्र में लगाकर इस क्षेत्र का बंटाधार कर दिया। उन्होंने कहा कि 10 वषों से लंबित लगभग 3 लाख होम बायर्स जिन्हें आवास नहीं मिल पाया था। उन्होंने कहा कि बिना किसी दबाव के, संवाद के माध्यम से हम लोग पहले एक वर्ष में नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेसवे में एक लाख बायर्स को आवास दिलाने में सफल हुए। केंद्रीय शहरी विकास राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि रेरा के पूर्व यह सेक्टर आकंठ भ्रष्टाचार में डूबा था। कृषि के बाद सर्वाधिक संभावनाओं वाला यह क्षेत्र असंगठित था। सत्ता में आने के साल भर भीतर प्रधानमंत्री मोदी ने रेरा के जरिए इसे संगठित किया। यह पहला राष्ट्रीय सम्मेलन है। अब ऐसे सम्मेलन हर साल होंगे। जल्द ही हम मॉडल टेनेंसी ऐक्ट और रीयल एस्टेट ई-कामर्स पोर्टल लाएंगे। विभाग के केंद्रीय सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने कहा कि सबके आवास का सपना साकार हो इसके लिए हर साल 900 वर्ग किमी में आवास बनाने की जरूरत होगी। रेरा के चेयरमैन राजीव कुमार, मुख्य सचिव आरके तिवारी, अभय उपाध्याय, प्रवीन जैन, गौतम चटर्जी और जे. शाह ने भी सुझाव देने के साथ इनके हल के बारे में भी बताते हुए कहा ग्राहक और बिल्डर्स के बीच भरोसा बहाली, कर्ज देने के प्रति बैंकों की उदासीनता, समयबद्ध डिलीवरी खासकर जिन निवेशकों का पैसा फंसा है, रेरा का अधिकार बढ़ाये जाने की बात कही।
    Close
    रीयल एस्टेट क्षेत्र को मंदी के दौर से उबारेगा ‘‘रेरा’ : योगी
    राष्ट्रीय सहारा 05/11/2019
    लखनऊ (एसएनबी)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यहां कहा कि एक अदद घर का सपना लिए जीवन भर की गाढ़ी कमाई किसी बिल्डर को देने वालों का हित मेरे लिए सवरेपरि है। बिल्डर अगर पूरी पारदर्शिता और गुणवत्ता के अनुसार ग्राहक से किये वादे को पूरा करेंगे तो सरकार नियमानुसार उनका हर संभव मदद करेगी। अगर ऐसा हो तो ‘‘रेरा’ रीयल एस्टेट सेक्टर को मंदी के दौर से उबारकर एक बार फिर बुलंदियों पर ले जाएगा।मुख्यमंत्री सोमवार को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित रीयल एस्टेट रेग्यूलेटरी अथॉरटी (रेरा) के पहले राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक अदद अपना घर स्वावलंबन से भी जुड़ा है। उन्होंने अयोध्या निवासी महावीर (हरिजन) का उदाहरण भी दिया। पेशे से राजमिस्त्री महाबीर की किस्मत पीएम आवास का पैसा मिलने के बाद बदल गयी। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों में नोएडा जाने को लेकर एक मिथ था। ऐसी साजिश उन लोगों ने की थी, जिनकी नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस वे आस-पास काली कमाई लगी थी। पैसा देने के बाद भी घर न मिलने की 80 फीसद शिकायतें राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के आठ जिलों से ही हैं। कुछ पीड़ित ग्राहकों और बिल्डर्स से मिलने के बाद मुझे नोएडा का यह मिथ समझ में आया। मेरा मानना है कि इस सेक्टर में हुई गड़बड़ियों के मूल में राजनैतिक एवं प्रशासनिक बेईमानी भी है। बदनीयती से इन लोगों से या तो मिले पैसे का बंदरबांट कर लिया या किसी और क्षेत्र में लगाकर इस क्षेत्र का बंटाधार कर दिया। उन्होंने कहा कि 10 वषों से लंबित लगभग 3 लाख होम बायर्स जिन्हें आवास नहीं मिल पाया था। उन्होंने कहा कि बिना किसी दबाव के, संवाद के माध्यम से हम लोग पहले एक वर्ष में नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेसवे में एक लाख बायर्स को आवास दिलाने में सफल हुए। केंद्रीय शहरी विकास राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि रेरा के पूर्व यह सेक्टर आकंठ भ्रष्टाचार में डूबा था। कृषि के बाद सर्वाधिक संभावनाओं वाला यह क्षेत्र असंगठित था। सत्ता में आने के साल भर भीतर प्रधानमंत्री मोदी ने रेरा के जरिए इसे संगठित किया। यह पहला राष्ट्रीय सम्मेलन है। अब ऐसे सम्मेलन हर साल होंगे। जल्द ही हम मॉडल टेनेंसी ऐक्ट और रीयल एस्टेट ई-कामर्स पोर्टल लाएंगे। विभाग के केंद्रीय सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने कहा कि सबके आवास का सपना साकार हो इसके लिए हर साल 900 वर्ग किमी में आवास बनाने की जरूरत होगी। रेरा के चेयरमैन राजीव कुमार, मुख्य सचिव आरके तिवारी, अभय उपाध्याय, प्रवीन जैन, गौतम चटर्जी और जे. शाह ने भी सुझाव देने के साथ इनके हल के बारे में भी बताते हुए कहा ग्राहक और बिल्डर्स के बीच भरोसा बहाली, कर्ज देने के प्रति बैंकों की उदासीनता, समयबद्ध डिलीवरी खासकर जिन निवेशकों का पैसा फंसा है, रेरा का अधिकार बढ़ाये जाने की बात कही।


  • दैनिक जागरण : 04/11/2019 जागरण संवाददाता, नई टिहरी : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भाजपा सरकार होने से दोनों राज्यों के बीच लंबित कई मसले हल हो चुके हैं और कई हल होने के करीब पहुंच चुके हैं। उन्होंने प्रवासी उत्तराखंडियों का आह्वान किया कि वे अपने राज्य में लौटें और यहां के विकास में योगदान करें। रविवार को टिहरी में राज्य स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम में शिरकत करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा यह प्रदेश धरती का स्वर्ग है। उत्तराखंड के जो लोग देश-विदेश में सफलता की कहानी रच रहे हैं, उन्हें प्रदेश के विकास में अपनी भूमिका सुनिश्चित करनी होगी। टिहरी से जुड़े संस्मरणों को साझा करते हुए कहा कि दसवीं तक की पढ़ाई उन्होंने टिहरी में ही की और आज 33 साल बाद वह यहां आए हैं।
    Close
    दोनों राज्यों के बीच हल हो रहे लंबित मसले : योगी
    दैनिक जागरण 04/11/2019
    जागरण संवाददाता, नई टिहरी : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भाजपा सरकार होने से दोनों राज्यों के बीच लंबित कई मसले हल हो चुके हैं और कई हल होने के करीब पहुंच चुके हैं। उन्होंने प्रवासी उत्तराखंडियों का आह्वान किया कि वे अपने राज्य में लौटें और यहां के विकास में योगदान करें। रविवार को टिहरी में राज्य स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम में शिरकत करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा यह प्रदेश धरती का स्वर्ग है। उत्तराखंड के जो लोग देश-विदेश में सफलता की कहानी रच रहे हैं, उन्हें प्रदेश के विकास में अपनी भूमिका सुनिश्चित करनी होगी। टिहरी से जुड़े संस्मरणों को साझा करते हुए कहा कि दसवीं तक की पढ़ाई उन्होंने टिहरी में ही की और आज 33 साल बाद वह यहां आए हैं।


  • हिन्दुस्तान : 03/11/2019 राज्य मुख्यालय | विशेष संवाददाता : - मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि पिछली सरकारों के कार्यकाल में अन्य भर्ती परीक्षाओं की ही तरह लोक सेवा आयोग की भर्ती परीक्षा भी बेईमानी, भाई भतीजावाद और भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गयी थी। पर उनकी सरकार ने इन भर्ती परीक्षाओं की शुचिता व पारदर्शिता सुनिश्चित की। मुख्यमंत्री ने यह बातें शनिवार को लोक सेवा आयोग से मेरिट के आधार पर नव चयनित सहायक अभियंताओं (सिविल व यांत्रिक) को प्रमाण पत्र वितरण समारोह में कही। कभी सिफारिश के चक्कर में न पड़ें: सीएम ने कहा कि अभियंताओं से कहा कि मन में गांठ बांध लें कि तैनाती के लिए भी भविष्य में कभी सिफारिश नहीं कराएंगे। शासन जहां भेजे, वहां बेहतर करने का प्रयास रहे। जनता के भरोसे पर हर जगह पर खरा उतरने का ईमानदारी से प्रयास करना, सफलता जरूर मिलेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मेरिट के आधार पर निष्पक्ष एवं पारदर्शी तरीके से तैनाती की इस नयी प्रक्रिया में किसी को कहीं भी सिफारिश की जरूरत नहीं पड़ी और पड़नी भी नहीं चाहिए। कई वर्षों से अटकी इस भर्ती परीक्षा में अब जाकर 395 सिविल और 149 यांत्रिक के सहायक अभियंता चयनित हुए हैं। 40 साल में पूरी हुई बाणसागर परियोजना: उन्होंने प्रदेश की सिंचाई परियोजनाओं के समय से पूरा न होने पर विपक्षी दलों की पिछली सरकारों को जिम्मेदार ठहराया। इसे पूरा होने में 40 साल लग गये। इसका कारण था कि पिछली सरकारों के एजेंडे में किसान था ही नहीं। उन सरकारों के कार्यकाल में यह परियोजनाएं लोगों की लूट खसोट का जरिया बन गयी थीं। 14 लाख हेक्टेयर कृषि भूमि को मिलेगी सिंचन क्षमता: सीएम ने कहा कि पिछले ढाई वर्ष में प्रदेश की 2 लाख हेक्टेयर असिंचित कृषि भूमि को सिंचाई की सुविधा मिली है और अब मौजूदा वित्तीय वर्ष के अंत में प्रदेश की 14 लाख हेक्टेयर असिंचित भूमि को सिंचन क्षमता मिलेगी। प्रोजेक्ट कारपारेशन ने दिये चेक: कार्यक्रम में यूपी प्रोजेक्ट कारपोरेशन ने मुख्यमंत्री सहायता कोष के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को 32 लाख 11 हजार रूपये का चेक भेंट किया। इस मौके पर जलशक्ति मंत्री डा. महेंद्र सिंह, राज्यमंत्री बलदेव सिंह औलख, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के प्रमुख सचिव टी. वेंकटेश भी मौजूद थे।
    Close
    भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई थीं भर्तियां
    हिन्दुस्तान 03/11/2019
    राज्य मुख्यालय | विशेष संवाददाता : - मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि पिछली सरकारों के कार्यकाल में अन्य भर्ती परीक्षाओं की ही तरह लोक सेवा आयोग की भर्ती परीक्षा भी बेईमानी, भाई भतीजावाद और भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गयी थी। पर उनकी सरकार ने इन भर्ती परीक्षाओं की शुचिता व पारदर्शिता सुनिश्चित की। मुख्यमंत्री ने यह बातें शनिवार को लोक सेवा आयोग से मेरिट के आधार पर नव चयनित सहायक अभियंताओं (सिविल व यांत्रिक) को प्रमाण पत्र वितरण समारोह में कही। कभी सिफारिश के चक्कर में न पड़ें: सीएम ने कहा कि अभियंताओं से कहा कि मन में गांठ बांध लें कि तैनाती के लिए भी भविष्य में कभी सिफारिश नहीं कराएंगे। शासन जहां भेजे, वहां बेहतर करने का प्रयास रहे। जनता के भरोसे पर हर जगह पर खरा उतरने का ईमानदारी से प्रयास करना, सफलता जरूर मिलेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मेरिट के आधार पर निष्पक्ष एवं पारदर्शी तरीके से तैनाती की इस नयी प्रक्रिया में किसी को कहीं भी सिफारिश की जरूरत नहीं पड़ी और पड़नी भी नहीं चाहिए। कई वर्षों से अटकी इस भर्ती परीक्षा में अब जाकर 395 सिविल और 149 यांत्रिक के सहायक अभियंता चयनित हुए हैं। 40 साल में पूरी हुई बाणसागर परियोजना: उन्होंने प्रदेश की सिंचाई परियोजनाओं के समय से पूरा न होने पर विपक्षी दलों की पिछली सरकारों को जिम्मेदार ठहराया। इसे पूरा होने में 40 साल लग गये। इसका कारण था कि पिछली सरकारों के एजेंडे में किसान था ही नहीं। उन सरकारों के कार्यकाल में यह परियोजनाएं लोगों की लूट खसोट का जरिया बन गयी थीं। 14 लाख हेक्टेयर कृषि भूमि को मिलेगी सिंचन क्षमता: सीएम ने कहा कि पिछले ढाई वर्ष में प्रदेश की 2 लाख हेक्टेयर असिंचित कृषि भूमि को सिंचाई की सुविधा मिली है और अब मौजूदा वित्तीय वर्ष के अंत में प्रदेश की 14 लाख हेक्टेयर असिंचित भूमि को सिंचन क्षमता मिलेगी। प्रोजेक्ट कारपारेशन ने दिये चेक: कार्यक्रम में यूपी प्रोजेक्ट कारपोरेशन ने मुख्यमंत्री सहायता कोष के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को 32 लाख 11 हजार रूपये का चेक भेंट किया। इस मौके पर जलशक्ति मंत्री डा. महेंद्र सिंह, राज्यमंत्री बलदेव सिंह औलख, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के प्रमुख सचिव टी. वेंकटेश भी मौजूद थे।


  • राष्ट्रीय सहारा : 02/11/2019 सहारा न्यूज ब्यूरो लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य के सभी 18 पुलिस रेंज में साइबर थानों और फॉरेंसिक लैब की स्थापना की जाए तथा इसके लिए आवश्यक मानव संसाधन की भर्ती प्रक्रिया को भी शीघ्रता से आगे बढ़ाया जाए।उन्होंने कहा कि राजधानी लखनऊ में फॉरेंसिक विविद्यालय की स्थापना का काम तेजी से आगे बढ़ाया जाए। मुख्यमंत्री ने यह निर्देश लोक भवन में पुलिस के प्रशासनिक व आवासीय भवनों के निर्माण के संबंध में गृह विभाग के प्रस्तुतिकरण के दौरान दिए।इस प्रस्तुतिकरण के दौरान मुख्यमंत्री को अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने पुलिस विभाग में प्रस्तावित विभिन्न भवन निर्माण कायरें और उनकी डिजाइन के संबंध में जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि कार्यदायी संस्थाएं निर्माण कार्य को मानकों के अनुसार, गुणवत्तापूर्ण तथा समयबद्ध ढंग से पूरा करें। उन्होंने कहा कि निर्माण कायरे के निरीक्षण के लिए अलग से टीम गठित की जाए। उन्होंने कहा कि वह स्वयं भी इन कायरे की गुणवत्ता परखेंगे।श्री अवस्थी ने बताया कि 322 थानों में महिला व पुरु ष बैरक एवं विवेचना कक्ष, पीएसी की 31 वाहिनियों में 200-200 क्षमता की बैरक, 44 पुलिस लाइन में महिला और पुरु ष हेतु अलग-अलग हॉस्टल, 36 थानों तथा 14 चौकियों में भवन निर्माण, 68 नये अग्निशमन केन्द्र का निर्माण और नौ पुलिस प्रशिक्षण संस्थानों की क्षमता बढ़ाकर दोगुनी की जा रही है। उन्होंने बताया कि इन निर्माण कायरें के लिए चालू वित्तीय वर्ष में 2,198 करोड़ रुपये से अधिक की धनराशि स्वीकृत की गई है। बैठक के दौरान पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह के अलावा अनेक पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे।
    Close
    यूपी के सभी 18 पुलिस रेंज में साइबर थानों व फोरेंसिक लैब की हो स्थापना
    राष्ट्रीय सहारा 02/11/2019
    सहारा न्यूज ब्यूरो लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य के सभी 18 पुलिस रेंज में साइबर थानों और फॉरेंसिक लैब की स्थापना की जाए तथा इसके लिए आवश्यक मानव संसाधन की भर्ती प्रक्रिया को भी शीघ्रता से आगे बढ़ाया जाए।उन्होंने कहा कि राजधानी लखनऊ में फॉरेंसिक विविद्यालय की स्थापना का काम तेजी से आगे बढ़ाया जाए। मुख्यमंत्री ने यह निर्देश लोक भवन में पुलिस के प्रशासनिक व आवासीय भवनों के निर्माण के संबंध में गृह विभाग के प्रस्तुतिकरण के दौरान दिए।इस प्रस्तुतिकरण के दौरान मुख्यमंत्री को अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने पुलिस विभाग में प्रस्तावित विभिन्न भवन निर्माण कायरें और उनकी डिजाइन के संबंध में जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि कार्यदायी संस्थाएं निर्माण कार्य को मानकों के अनुसार, गुणवत्तापूर्ण तथा समयबद्ध ढंग से पूरा करें। उन्होंने कहा कि निर्माण कायरे के निरीक्षण के लिए अलग से टीम गठित की जाए। उन्होंने कहा कि वह स्वयं भी इन कायरे की गुणवत्ता परखेंगे।श्री अवस्थी ने बताया कि 322 थानों में महिला व पुरु ष बैरक एवं विवेचना कक्ष, पीएसी की 31 वाहिनियों में 200-200 क्षमता की बैरक, 44 पुलिस लाइन में महिला और पुरु ष हेतु अलग-अलग हॉस्टल, 36 थानों तथा 14 चौकियों में भवन निर्माण, 68 नये अग्निशमन केन्द्र का निर्माण और नौ पुलिस प्रशिक्षण संस्थानों की क्षमता बढ़ाकर दोगुनी की जा रही है। उन्होंने बताया कि इन निर्माण कायरें के लिए चालू वित्तीय वर्ष में 2,198 करोड़ रुपये से अधिक की धनराशि स्वीकृत की गई है। बैठक के दौरान पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह के अलावा अनेक पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे।


  • दैनिक जागरण : 01/11/2019 जागरण संवाददाता, लखनऊ: लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन्हें अखंडता का शिल्पकार बताया। सरदार पटेल की 145वीं जयंती पर हजरतगंज पटेल प्रतिमा स्थल से रन फॉर यूनिटी का शुभारंभ करते हुए मुख्यमंत्री ने सरदार पटेल के बलिदानों को याद करते हुए लोगों का आह्वान किया कि जो लोग देश की एकता और अखंडता के दुश्मन हैं, उन्हें मुंहतोड़ जवाब देना चाहिए। उन्होंने कहा कि आजादी मिलने के बाद उन सभी 563 रियासतों को संवाद के माध्यम से भारत गणराज्य का हिस्सा बनाने का अभूतपूर्व कार्य सरदार पटेल ने किया था। सैकड़ों वर्षो की गुलामी के उस कालखंड में जब भारत की अखंडता को आंच आई तब उस समय अखंडता के शिल्पकार के रूप में भारत माता के महान सपूत सरदार पटेल ने सर्वाधित महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। मुख्यमंत्री ने सरदार पटेल को देशभर में मिले सम्मान का जिक्र करते हुए कहा कि छह जनवरी 1948 को लखनऊ के राजभवन आकर पौधारोपित कर उन्होंने पर्यावरण संरक्षण का भी संदेश दिया था। उन्होंने कहा कि आज देश को जाति, धर्म और भाषा के नाम पर बांटने की साजिश चल रही है, ऐसे लोगों के मंसूबों को पूरा होने नहीं दिया जाएगा। डीजीपी ने भी लगाई दौड़: रन फॉर यूनिटी में मुख्यमंत्री ने हरी झंडी दिखाई। इसमें पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने भी दौड़ लगाई। पुलिस अफसरों के साथ ही खिलाड़ी, स्कूली बच्चे और समाज के विभिन्न वर्ग के लोग इस दौड़ में देश की एकता और अखंडता का संदेश लेकर दौड़े। केडी सिंह बाबू मैट्रो स्टेशन तक यह दौड़ आयोजित की गई।
    Close
    एकता-अखंडता के दुश्मनों को मुंहतोड़ जवाब दें : योगी
    दैनिक जागरण 01/11/2019
    जागरण संवाददाता, लखनऊ: लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन्हें अखंडता का शिल्पकार बताया। सरदार पटेल की 145वीं जयंती पर हजरतगंज पटेल प्रतिमा स्थल से रन फॉर यूनिटी का शुभारंभ करते हुए मुख्यमंत्री ने सरदार पटेल के बलिदानों को याद करते हुए लोगों का आह्वान किया कि जो लोग देश की एकता और अखंडता के दुश्मन हैं, उन्हें मुंहतोड़ जवाब देना चाहिए। उन्होंने कहा कि आजादी मिलने के बाद उन सभी 563 रियासतों को संवाद के माध्यम से भारत गणराज्य का हिस्सा बनाने का अभूतपूर्व कार्य सरदार पटेल ने किया था। सैकड़ों वर्षो की गुलामी के उस कालखंड में जब भारत की अखंडता को आंच आई तब उस समय अखंडता के शिल्पकार के रूप में भारत माता के महान सपूत सरदार पटेल ने सर्वाधित महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। मुख्यमंत्री ने सरदार पटेल को देशभर में मिले सम्मान का जिक्र करते हुए कहा कि छह जनवरी 1948 को लखनऊ के राजभवन आकर पौधारोपित कर उन्होंने पर्यावरण संरक्षण का भी संदेश दिया था। उन्होंने कहा कि आज देश को जाति, धर्म और भाषा के नाम पर बांटने की साजिश चल रही है, ऐसे लोगों के मंसूबों को पूरा होने नहीं दिया जाएगा। डीजीपी ने भी लगाई दौड़: रन फॉर यूनिटी में मुख्यमंत्री ने हरी झंडी दिखाई। इसमें पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने भी दौड़ लगाई। पुलिस अफसरों के साथ ही खिलाड़ी, स्कूली बच्चे और समाज के विभिन्न वर्ग के लोग इस दौड़ में देश की एकता और अखंडता का संदेश लेकर दौड़े। केडी सिंह बाबू मैट्रो स्टेशन तक यह दौड़ आयोजित की गई।

सर्वश्रेष्ठ समीक्षा

आपका मत

आप के विचार

  • बूचड़ खाना बंद करने पर धन्यावाद

    राजेश patodi हम यह चाहते हे की यह नियम पुरे भारत देश शक्ति से लागु किया जाये हम आशा करते हे की आप की यह मेहनत जरूर रंग लाएगी जय हिन्द जय भारत ,राजेश पटौदी म.प. इंदौर
  • शिक्षा

    अभिशेष एक अपील मोदी जी और योगी जी से की प्राइवेट स्कूल की फीस पर कोई लगाम नहीं है और उनके स्कूल मे पढ़ाया जाने वाला कोर्स बाजार भाव से पांच गुना दामों मे बेचा जा रहा है । आपसे निवेदन है कि इन दोनों बातो पर अपना ध्यान दे ।
  • संपूर्ण देखें