समाचार
वर्ष : माह :
  • दैनिक जागरण : 18/10/2018 राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल राम नाईक ने शारदीय नवरात्र और विजयदशमी (दशहरा) की बधाई दी है। अपने संदेश में योगी ने कहा कि जगत की सभी व्यवस्थाओं का संचालन आदिशक्ति भगवती करती हैं। वैसे तो इनके कई रूप हैं, पर प्रधान नौ रूपों में नवदुर्गा बनकर आदिशक्ति संपूर्ण धरती पर अपनी करुणा की वर्षा करती हैं। हमारी संस्कृति में शक्ति की अधिष्ठात्री दुर्गा के पूजा का खास महत्व है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दशहरा पूरे देश में श्रद्धा और हर्षोल्लास से मनाया जाता है। इसी दिन भगवान श्रीराम ने रावण का वध किया था। राम का पूरा जीवन सत्य, मर्यादा, न्याय, शांति, परोपकार और लोककल्याण के लिए समर्पित था।
    Close
    राम से मिलती है सद्मार्ग पर चलने की प्रेरणा : योगी
    दैनिक जागरण 18/10/2018
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल राम नाईक ने शारदीय नवरात्र और विजयदशमी (दशहरा) की बधाई दी है। अपने संदेश में योगी ने कहा कि जगत की सभी व्यवस्थाओं का संचालन आदिशक्ति भगवती करती हैं। वैसे तो इनके कई रूप हैं, पर प्रधान नौ रूपों में नवदुर्गा बनकर आदिशक्ति संपूर्ण धरती पर अपनी करुणा की वर्षा करती हैं। हमारी संस्कृति में शक्ति की अधिष्ठात्री दुर्गा के पूजा का खास महत्व है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दशहरा पूरे देश में श्रद्धा और हर्षोल्लास से मनाया जाता है। इसी दिन भगवान श्रीराम ने रावण का वध किया था। राम का पूरा जीवन सत्य, मर्यादा, न्याय, शांति, परोपकार और लोककल्याण के लिए समर्पित था।


  • राष्ट्रीय सहारा : 17/10/2018 बुढ़िया माई मंदिर में दर्शन-पूजन को पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि जनभावनाओं को देखते हुए इलाहाबाद का नाम बदल कर प्रयागराज कर दिया गया। लगभग 500 वर्ष पूर्व मुगलकाल में प्रयागराज का नाम बदल कर इलाहाबाद कर दिया गया था। प्रयाग वह पवित्र स्थल है जहां ब्रrा जी ने प्रथम यज्ञ किया था। देश की सात पवित्र नदियों में तीन नदियों का यहां संगम होता है। गंगा, यमुना और सरस्वती त्रिवेणी का संगम होने के नाते प्रयाग राज कहलाया। जिन्हें अपने इतिहास के बारे में जानकारी नहीं, अपनी परम्परा के बारे में जानकारी नहीं, जिन्हें अपनी समृद्ध सांस्कृतिक परम्परा के बारे में जानकारी नहीं। वे लोग इस प्रकार के प्रश्न खड़ा करते हैं। मुझे लगता है कि इन लोगों से बहुत उम्मीद भी नहीं की जा सकती। उत्तराखण्ड से प्रयागराज तक अनेक प्रयाग है, विष्णु प्रयाग, अतंत प्रयाग, कर्ण प्रयाग, रुद्र प्रयाग, देव प्रयाग, हर एक प्रयाग में दो नदियों का पवित्र संगम होता है। इसलिए उस नाम पर प्रयाग बनता है। हिमालय से निकलने वाली दो अत्यंत पवित्र नदियां जिनका सनातन धर्म के लोग प्रात:काल अपने उच्चारण में स्मरण करते हैं। गंगा है, यमुना है, ये दोनों पवित्र नदियां हिमालय से निकलती हैं। हिमालय से निकलने वाली नदियों संगम है प्रयागराज। सभी प्रयागों का राजा है प्रयागराज, भारत की सनातन आस्था का प्रतीक है प्रयागराज। इसलिए हमारी सरकार ने जनभावनाओं को ध्यान में रख कर इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किया। उन्होंने कहा कि हर एक व्यक्ति को अपनी परम्परा पर, अपनी संस्कृति पर, अपने गौरवाली इतिहास पर गर्व की अनुभूति होनी चाहिए। उसी परम्परा में इस पवित्र स्थल का नाम प्रयागराज किया। मंगलवार को ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कैबिनेट में इलाहाबाद का नाम बदल कर प्रयाग रखने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। अगले साल इस जगह कुंभ मेले का आयोजन भी होना है। इस मेले में पूरे विश्वभर से करोड़ों लोग आते हैं। मेले की तैयारी में सरकार करोड़ों रुपये खर्च कर रही है।
    Close
    प्रयागराज आस्था का प्रतीक
    राष्ट्रीय सहारा 17/10/2018
    बुढ़िया माई मंदिर में दर्शन-पूजन को पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि जनभावनाओं को देखते हुए इलाहाबाद का नाम बदल कर प्रयागराज कर दिया गया। लगभग 500 वर्ष पूर्व मुगलकाल में प्रयागराज का नाम बदल कर इलाहाबाद कर दिया गया था। प्रयाग वह पवित्र स्थल है जहां ब्रrा जी ने प्रथम यज्ञ किया था। देश की सात पवित्र नदियों में तीन नदियों का यहां संगम होता है। गंगा, यमुना और सरस्वती त्रिवेणी का संगम होने के नाते प्रयाग राज कहलाया। जिन्हें अपने इतिहास के बारे में जानकारी नहीं, अपनी परम्परा के बारे में जानकारी नहीं, जिन्हें अपनी समृद्ध सांस्कृतिक परम्परा के बारे में जानकारी नहीं। वे लोग इस प्रकार के प्रश्न खड़ा करते हैं। मुझे लगता है कि इन लोगों से बहुत उम्मीद भी नहीं की जा सकती। उत्तराखण्ड से प्रयागराज तक अनेक प्रयाग है, विष्णु प्रयाग, अतंत प्रयाग, कर्ण प्रयाग, रुद्र प्रयाग, देव प्रयाग, हर एक प्रयाग में दो नदियों का पवित्र संगम होता है। इसलिए उस नाम पर प्रयाग बनता है। हिमालय से निकलने वाली दो अत्यंत पवित्र नदियां जिनका सनातन धर्म के लोग प्रात:काल अपने उच्चारण में स्मरण करते हैं। गंगा है, यमुना है, ये दोनों पवित्र नदियां हिमालय से निकलती हैं। हिमालय से निकलने वाली नदियों संगम है प्रयागराज। सभी प्रयागों का राजा है प्रयागराज, भारत की सनातन आस्था का प्रतीक है प्रयागराज। इसलिए हमारी सरकार ने जनभावनाओं को ध्यान में रख कर इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किया। उन्होंने कहा कि हर एक व्यक्ति को अपनी परम्परा पर, अपनी संस्कृति पर, अपने गौरवाली इतिहास पर गर्व की अनुभूति होनी चाहिए। उसी परम्परा में इस पवित्र स्थल का नाम प्रयागराज किया। मंगलवार को ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कैबिनेट में इलाहाबाद का नाम बदल कर प्रयाग रखने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। अगले साल इस जगह कुंभ मेले का आयोजन भी होना है। इस मेले में पूरे विश्वभर से करोड़ों लोग आते हैं। मेले की तैयारी में सरकार करोड़ों रुपये खर्च कर रही है।


  • दैनिक जागरण : 15/10/2018 जागरण संवाददाता, इलाहाबाद : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रयागराज का कुंभ देश और दुनिया को स्वच्छता, समरसता व समृद्धि का संदेश देगा। कुंभ की ब्रांडिंग के लिए काशी, लखनऊ, अयोध्या, मथुरा और प्रयागराज को वैचारिक स्थल बनाया गया है। कुंभ से जुड़े पक्के निर्माण कार्य के लिए 30 नवंबर की डेडलाइन तय की गई है।1रविवार को कुंभ कार्यो के निरीक्षण के बाद पत्रकारों से बातचीत में योगी ने कहा कि प्रयागराज की पहचान वेणीमाधव मंदिर, भारद्वाज आश्रम, किला, अक्षयवट और सरस्वती कूप में श्रद्धालुओं के लिए व्यवस्था होगी। सभी कार्यो को समय से पूरा करना और सुविधा व सुरक्षा की व्यवस्था कराना अहम जिम्मेदारी है, जिस पर पुलिस व प्रशासन युद्धस्तर पर काम कर रहा है। मुख्यमंत्री ने बताया कि पहली बार कुंभ व स्वच्छता का लोगो बना है। देश के छह लाख गांव और विश्व के 192 देशों से अतिथियों को कुंभ में आमंत्रित किया जा रहा है। उनके लिए बुनियादी ढांचागत विकास किया जा रहा है। कुंभ की नई पहचान अद्भुत और प्रेरणादायी होगी। उन्होंने कहा कि कुंभ 2019 की तैयारी और व्यवस्था का स्थलीय निरीक्षण शनिवार व रविवार को किया है।
    Close
    स्वच्छता और समरसता का संदेश देगा कुंभ : योगी
    दैनिक जागरण 15/10/2018
    जागरण संवाददाता, इलाहाबाद : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रयागराज का कुंभ देश और दुनिया को स्वच्छता, समरसता व समृद्धि का संदेश देगा। कुंभ की ब्रांडिंग के लिए काशी, लखनऊ, अयोध्या, मथुरा और प्रयागराज को वैचारिक स्थल बनाया गया है। कुंभ से जुड़े पक्के निर्माण कार्य के लिए 30 नवंबर की डेडलाइन तय की गई है।1रविवार को कुंभ कार्यो के निरीक्षण के बाद पत्रकारों से बातचीत में योगी ने कहा कि प्रयागराज की पहचान वेणीमाधव मंदिर, भारद्वाज आश्रम, किला, अक्षयवट और सरस्वती कूप में श्रद्धालुओं के लिए व्यवस्था होगी। सभी कार्यो को समय से पूरा करना और सुविधा व सुरक्षा की व्यवस्था कराना अहम जिम्मेदारी है, जिस पर पुलिस व प्रशासन युद्धस्तर पर काम कर रहा है। मुख्यमंत्री ने बताया कि पहली बार कुंभ व स्वच्छता का लोगो बना है। देश के छह लाख गांव और विश्व के 192 देशों से अतिथियों को कुंभ में आमंत्रित किया जा रहा है। उनके लिए बुनियादी ढांचागत विकास किया जा रहा है। कुंभ की नई पहचान अद्भुत और प्रेरणादायी होगी। उन्होंने कहा कि कुंभ 2019 की तैयारी और व्यवस्था का स्थलीय निरीक्षण शनिवार व रविवार को किया है।


  • राष्ट्रीय सहारा : 14/10/2018 सहारा न्यूज ब्यूरो, इलाहाबाद। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुंभ के स्थायी निर्माण कायरे को 20 नवम्बर तथा अस्थायी प्रकृति के कायरे को दिसम्बर तक पूरा कर लिये जाने का निर्देश दिया है। उन्होंने बताया कि कुंभ-2019 में पहली बार श्रद्धालुओं को अक्षयवट व सरस्वती कूप के दर्शन हो सकेंगे। मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि कुंभ के दौरान किसी तरह का सरचार्ज नहीं लिया जायेगा।मुख्यमंत्री ने शनिवार को यहां सर्किट हाउस में आयोजित पत्रकार वार्ता में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार प्रयाग में होने वाले आध्यात्मिक व सांस्कृतिक आयोजन कुंभ को पूरी भव्यता व दिव्यता से सम्पन्न कराने में कोई कोर- कसर नहीं छोड़ेगी। कुंभ के लिएभारत सरकार व प्रदेशसरकार मुक्त हस्त से धनराशिदे रही है। श्री योगी ने बताया कि कुंभ के अन्तर्गत 643 परियोजनाएं चिह्नित की गयी हैं, जिनमें से 92 के कार्य पूर्ण हो गये हैं। 88 के कार्य 20 अक्टूबर, 250 के कार्य 31अक्टूबर तक पूर्ण किये जायेंगे। इसके अलावा 52 परियोजनाओं का कार्य 15 नवम्बर तथा 161 अस्थायी परियोजनाओं का कार्य दिसम्बर तक पूरा कर लेने के निर्देश दिये गये हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि अधिकारियों को कुंभ के सभी स्थायी निर्माण कार्य 20 नवम्बर तक पूरा कर लिये जाने की हिदायत दी गयी है। इसमें किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि श्रद्धालुओं को इस बार डिजिटल कुंभ का आनंद मिलेगा। इसके लिएवेबसाइट तैयार कर ली गयी है। कुंभ के इतिहास में पहली बार श्रद्धालुओं को अक्षयवट व सरस्वती कूप के दर्शन की सुविधा मिलेगी। इसके लिए सरकार ने तैयारी शुरू कर दी है। उन्होंने कहा कि प्रयाग कुंभ के 48 दिनों के दौरान देश के छह लाखगांवों की उपस्थिति होगी। इसके अलावा दुनिया के 192 देशों के प्रतिनिधि भी प्रयाग कुंभ के साक्षी होंगे। कुंभ के दौरान श्रद्धालुओं के लिए गंगा-यमुना की अविरलता व निर्मलता बनी रहेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि संतों, गण्यमान्य नागरिकों, सामाजिक संस्थाओं की ओर से इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज करने की मांग काफी दिनों से की जा रही है। प्रदेश सरकार इसको लेकर गंभीर है। जल्द ही नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया जायेगा। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने बताया कि कुंभ के दौरान किसी तरह का अतिरिक्त सरचार्ज नहीं लिया जायेगा। इस बारे में विपक्षी दलों द्वारा जनता के बीच भ्रम फैलाया जा रहा है। श्री योगी ने लोगों से प्रयाग कुंभ को ऐतिहासिक बनाने के लिए सकारात्मक सहयोग करने की भी अपील की। पत्रकार वार्ता में नगर विकास मंत्री सुरेश कुमार खन्ना, कैबिनेट मंत्री डा. रीता बहुगुणा जोशी, सिद्धार्थनाथ सिंह, नंद गोपाल गुप्ता ‘‘नंदी’, महापौर अभिलाषा गुप्ता आदि मौजूद थीं।
    Close
    कुंभ के दौरान नहीं लिया जाएगा सरचार्ज : सीएम
    राष्ट्रीय सहारा 14/10/2018
    सहारा न्यूज ब्यूरो, इलाहाबाद। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुंभ के स्थायी निर्माण कायरे को 20 नवम्बर तथा अस्थायी प्रकृति के कायरे को दिसम्बर तक पूरा कर लिये जाने का निर्देश दिया है। उन्होंने बताया कि कुंभ-2019 में पहली बार श्रद्धालुओं को अक्षयवट व सरस्वती कूप के दर्शन हो सकेंगे। मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि कुंभ के दौरान किसी तरह का सरचार्ज नहीं लिया जायेगा।मुख्यमंत्री ने शनिवार को यहां सर्किट हाउस में आयोजित पत्रकार वार्ता में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार प्रयाग में होने वाले आध्यात्मिक व सांस्कृतिक आयोजन कुंभ को पूरी भव्यता व दिव्यता से सम्पन्न कराने में कोई कोर- कसर नहीं छोड़ेगी। कुंभ के लिएभारत सरकार व प्रदेशसरकार मुक्त हस्त से धनराशिदे रही है। श्री योगी ने बताया कि कुंभ के अन्तर्गत 643 परियोजनाएं चिह्नित की गयी हैं, जिनमें से 92 के कार्य पूर्ण हो गये हैं। 88 के कार्य 20 अक्टूबर, 250 के कार्य 31अक्टूबर तक पूर्ण किये जायेंगे। इसके अलावा 52 परियोजनाओं का कार्य 15 नवम्बर तथा 161 अस्थायी परियोजनाओं का कार्य दिसम्बर तक पूरा कर लेने के निर्देश दिये गये हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि अधिकारियों को कुंभ के सभी स्थायी निर्माण कार्य 20 नवम्बर तक पूरा कर लिये जाने की हिदायत दी गयी है। इसमें किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि श्रद्धालुओं को इस बार डिजिटल कुंभ का आनंद मिलेगा। इसके लिएवेबसाइट तैयार कर ली गयी है। कुंभ के इतिहास में पहली बार श्रद्धालुओं को अक्षयवट व सरस्वती कूप के दर्शन की सुविधा मिलेगी। इसके लिए सरकार ने तैयारी शुरू कर दी है। उन्होंने कहा कि प्रयाग कुंभ के 48 दिनों के दौरान देश के छह लाखगांवों की उपस्थिति होगी। इसके अलावा दुनिया के 192 देशों के प्रतिनिधि भी प्रयाग कुंभ के साक्षी होंगे। कुंभ के दौरान श्रद्धालुओं के लिए गंगा-यमुना की अविरलता व निर्मलता बनी रहेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि संतों, गण्यमान्य नागरिकों, सामाजिक संस्थाओं की ओर से इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज करने की मांग काफी दिनों से की जा रही है। प्रदेश सरकार इसको लेकर गंभीर है। जल्द ही नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया जायेगा। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने बताया कि कुंभ के दौरान किसी तरह का अतिरिक्त सरचार्ज नहीं लिया जायेगा। इस बारे में विपक्षी दलों द्वारा जनता के बीच भ्रम फैलाया जा रहा है। श्री योगी ने लोगों से प्रयाग कुंभ को ऐतिहासिक बनाने के लिए सकारात्मक सहयोग करने की भी अपील की। पत्रकार वार्ता में नगर विकास मंत्री सुरेश कुमार खन्ना, कैबिनेट मंत्री डा. रीता बहुगुणा जोशी, सिद्धार्थनाथ सिंह, नंद गोपाल गुप्ता ‘‘नंदी’, महापौर अभिलाषा गुप्ता आदि मौजूद थीं।


  • राष्ट्रीय सहारा : 13/10/2018 गोरखपुर (एसएनबी)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि स्कूल के समय यदि कोई शिक्षक किसी दफ्तर में दिखे तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। जरूरत पड़े तो उन्हें बर्खास्त भी किया जाए। उन्होंने सख्त लहजे में कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि कहीं भी जर्जर भवनों में कक्षाएं नहीं चले। विद्यालयों में पानी और शौचालय की बेहतर व्यवस्था हो। मुख्यमंत्री शुक्रवार को गोरखनाथ मंदिर में प्राथमिक, माध्यमिक शिक्षा व जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने शिक्षकों की उपस्थिति, स्कूल की इमारतों की हालत और पढ़ाई की गुणवत्ता आदि मसलों पर अफसरों के पेंच कसे। उन्होंने शहर के 86 विद्यालयों समेत जिले के तीन हजार विद्यालयों के मरम्मत व सुंदरीकरण कराने का निर्देश देते हुए कहा कि बीएसए और डीआईओएस प्रस्ताव बनाकर भेजें, सरकार पूरी मदद करेगी। उन्होंने कायाकल्प योजना के तहत सांसद, विधायक एवं सीआरएस की मदद से भी स्कूलों की सूरत संवारने को कहा। शिक्षक-छात्र अनुपात की जांच कर समायोजन करने का निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने हिदायत दी कि यूपी बोर्ड की परीक्षाओं में कोई दागी विद्यालय केंद्र न बनने पाए। केंद्रों का निर्धारण समय से कर लिया जाए और नकलविहीन परीक्षा के लिए सभी केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे की व्यवस्था की जाए। बैठक में मौजूद संयुक्त शिक्षा निदेशक योगेन्द्रनाथ सिंह, डीआईओएस ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह भदौरिया से कहा कि माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षा व्यवस्था दुरुस्त होनी चाहिए। परीक्षा केंद्रों का निर्धारण सख्ती से किया जाए। किसी भी कीमत पर नकल नहीं होनी चाहिए। बेसिक शिक्षा अधिकारी भूपेंद्र नारायण सिंह को निर्देशित करते हुए कहा कि शिक्षा व्यवस्था में नेतागिरी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। स्कूल सभी को जान होगा। उन्होंने जर्जर भवनों के बारे में जानकारी ली। कहा कि वनटांगिया गांवों में जल्द ही विद्यालय बनेंगे। विद्यालयों में डेस्क बेंच की स्थिति के बारे में भी जानकारी ली। मुख्यमंत्री का बेसिक शिक्षा में सुधार पर ज्यादा जोर रहा। उच्च शिक्षा अधिकारी को भी शिक्षा व्यवस्था में सुधार के निर्देश दिए। बैठक में मंडलायुक्त अमित गुप्ता, जिलाधिकारी के. विजयेंद्र पांडियन, संयुक्त शिक्षा निदेशक योगेंद्र नाथ सिंह, एडी बेसिक डा. सत्यप्रकाश त्रिपाठी, डीआईओएस ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह भदौरिया, बीएसए भूपेंद्र नारायण सिंह आदि मौजूद रहे। डीएम ने बताया कि स्कूलों के साथ ही जिले के 23 स्वास्य केंद्रों का भी कायाकल्प किया जा रहा है।
    Close
    पढ़ाई के समय शिक्षकों की घुमाई बर्दाश्त नहीं : सीएम
    राष्ट्रीय सहारा 13/10/2018
    गोरखपुर (एसएनबी)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि स्कूल के समय यदि कोई शिक्षक किसी दफ्तर में दिखे तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। जरूरत पड़े तो उन्हें बर्खास्त भी किया जाए। उन्होंने सख्त लहजे में कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि कहीं भी जर्जर भवनों में कक्षाएं नहीं चले। विद्यालयों में पानी और शौचालय की बेहतर व्यवस्था हो। मुख्यमंत्री शुक्रवार को गोरखनाथ मंदिर में प्राथमिक, माध्यमिक शिक्षा व जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने शिक्षकों की उपस्थिति, स्कूल की इमारतों की हालत और पढ़ाई की गुणवत्ता आदि मसलों पर अफसरों के पेंच कसे। उन्होंने शहर के 86 विद्यालयों समेत जिले के तीन हजार विद्यालयों के मरम्मत व सुंदरीकरण कराने का निर्देश देते हुए कहा कि बीएसए और डीआईओएस प्रस्ताव बनाकर भेजें, सरकार पूरी मदद करेगी। उन्होंने कायाकल्प योजना के तहत सांसद, विधायक एवं सीआरएस की मदद से भी स्कूलों की सूरत संवारने को कहा। शिक्षक-छात्र अनुपात की जांच कर समायोजन करने का निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने हिदायत दी कि यूपी बोर्ड की परीक्षाओं में कोई दागी विद्यालय केंद्र न बनने पाए। केंद्रों का निर्धारण समय से कर लिया जाए और नकलविहीन परीक्षा के लिए सभी केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे की व्यवस्था की जाए। बैठक में मौजूद संयुक्त शिक्षा निदेशक योगेन्द्रनाथ सिंह, डीआईओएस ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह भदौरिया से कहा कि माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षा व्यवस्था दुरुस्त होनी चाहिए। परीक्षा केंद्रों का निर्धारण सख्ती से किया जाए। किसी भी कीमत पर नकल नहीं होनी चाहिए। बेसिक शिक्षा अधिकारी भूपेंद्र नारायण सिंह को निर्देशित करते हुए कहा कि शिक्षा व्यवस्था में नेतागिरी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। स्कूल सभी को जान होगा। उन्होंने जर्जर भवनों के बारे में जानकारी ली। कहा कि वनटांगिया गांवों में जल्द ही विद्यालय बनेंगे। विद्यालयों में डेस्क बेंच की स्थिति के बारे में भी जानकारी ली। मुख्यमंत्री का बेसिक शिक्षा में सुधार पर ज्यादा जोर रहा। उच्च शिक्षा अधिकारी को भी शिक्षा व्यवस्था में सुधार के निर्देश दिए। बैठक में मंडलायुक्त अमित गुप्ता, जिलाधिकारी के. विजयेंद्र पांडियन, संयुक्त शिक्षा निदेशक योगेंद्र नाथ सिंह, एडी बेसिक डा. सत्यप्रकाश त्रिपाठी, डीआईओएस ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह भदौरिया, बीएसए भूपेंद्र नारायण सिंह आदि मौजूद रहे। डीएम ने बताया कि स्कूलों के साथ ही जिले के 23 स्वास्य केंद्रों का भी कायाकल्प किया जा रहा है।


  • दैनिक जागरण : 12/10/2018 जागरण संवाददाता, गोरखपुर : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शारदीय नवरात्र पर प्रदेशवासियों से अपील की है कि इस पर्व को आपसी सौहार्द बनाकर पवित्रता के माहौल में आस्था के साथ मनाएं। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार ने नवरात्र और विजयादशमी के मद्देनजर सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। मुख्यमंत्री ने एक समाचार एजेंसी के माध्यम से बताया कि भारत के सनातन धर्म हिंदू संस्कृति परंपरा में पर्व और त्योहारों की लंबी श्रृंखला है। इनमें नवरात्र का अपना विशेष महत्व है। प्रदेश में यह त्योहार सुरक्षित ढंग से भव्यता के साथ संपन्न हो, इसे लेकर तैयारी पूरी कर ली गई है। सभी जिलों के जिला प्रशासन को पूजा-पंडाल की सुरक्षा, सफाई, पेयजल आपूर्ति और बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दे दिए गए हैं। रामलीला के आयोजनों को देखते हुए उनके आयोजकों से बातचीत कर सुविधा और सुरक्षा देने का निर्देश भी दे दिया गया है। दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन के दौरान जरूरी इंतजाम और सुरक्षा प्रदान की जाएगी। संवेदनशील और अति संवेदनशील पंडालों पर एएसपी और एडीएम स्तर के अधिकारी निगरानी रखेंगे। अन्य स्थानों पर उप जिला मजिस्ट्रेट और डिप्टी एसपी स्तर के अधिकारी आस्था का सम्मान करते हुए आयोजकों और श्रद्धालुओं को सुविधा प्रदान करेंगे।
    Close
    आपसी सौहार्द से मनाएं नवरात्र : योगी
    दैनिक जागरण 12/10/2018
    जागरण संवाददाता, गोरखपुर : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शारदीय नवरात्र पर प्रदेशवासियों से अपील की है कि इस पर्व को आपसी सौहार्द बनाकर पवित्रता के माहौल में आस्था के साथ मनाएं। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार ने नवरात्र और विजयादशमी के मद्देनजर सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। मुख्यमंत्री ने एक समाचार एजेंसी के माध्यम से बताया कि भारत के सनातन धर्म हिंदू संस्कृति परंपरा में पर्व और त्योहारों की लंबी श्रृंखला है। इनमें नवरात्र का अपना विशेष महत्व है। प्रदेश में यह त्योहार सुरक्षित ढंग से भव्यता के साथ संपन्न हो, इसे लेकर तैयारी पूरी कर ली गई है। सभी जिलों के जिला प्रशासन को पूजा-पंडाल की सुरक्षा, सफाई, पेयजल आपूर्ति और बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दे दिए गए हैं। रामलीला के आयोजनों को देखते हुए उनके आयोजकों से बातचीत कर सुविधा और सुरक्षा देने का निर्देश भी दे दिया गया है। दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन के दौरान जरूरी इंतजाम और सुरक्षा प्रदान की जाएगी। संवेदनशील और अति संवेदनशील पंडालों पर एएसपी और एडीएम स्तर के अधिकारी निगरानी रखेंगे। अन्य स्थानों पर उप जिला मजिस्ट्रेट और डिप्टी एसपी स्तर के अधिकारी आस्था का सम्मान करते हुए आयोजकों और श्रद्धालुओं को सुविधा प्रदान करेंगे।


  • दैनिक जागरण : 11/10/2018 जासं, गोरखपुर : शारदीय नवरात्र की प्रतिपदा यानी बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच गोरखनाथ मंदिर स्थित अपने आवास में मौजूद शक्तिपीठ में कलश स्थापना की। करीब दो घंटे तक चला आनुष्ठानिक कार्यक्रम आराधना, आरती के साथ संपन्न हुआ। कलश स्थापना के लिए मुख्यमंत्री पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार शाम चार बजे गोरखनाथ मंदिर पहुंचे। वह करीब पांच बजे शक्तिपीठ पहुंचे और शुरुआती आराधना के बाद योगी कमलनाथ को अपने हाथों से त्रिशूल देकर कलश यात्र के लिए रवाना किया।
    Close
    सीएम योगी ने की कलश स्थापना
    दैनिक जागरण 11/10/2018
    जासं, गोरखपुर : शारदीय नवरात्र की प्रतिपदा यानी बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच गोरखनाथ मंदिर स्थित अपने आवास में मौजूद शक्तिपीठ में कलश स्थापना की। करीब दो घंटे तक चला आनुष्ठानिक कार्यक्रम आराधना, आरती के साथ संपन्न हुआ। कलश स्थापना के लिए मुख्यमंत्री पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार शाम चार बजे गोरखनाथ मंदिर पहुंचे। वह करीब पांच बजे शक्तिपीठ पहुंचे और शुरुआती आराधना के बाद योगी कमलनाथ को अपने हाथों से त्रिशूल देकर कलश यात्र के लिए रवाना किया।


  • दैनिक जागरण : 10/10/2018 राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार रात वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये दुर्गापूजा और दशहरा के संदर्भ में डीएम व एसएसपी/एसपी को सुरक्षा-व्यवस्था के कड़े निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि कहीं कोई नई परंपरा न शुरू होने दी जाए। जहां कोई विवाद है, उसे वक्त रहते निपटा लिया जाए। रामलीला स्थल को जाने वाले मार्ग दुरुस्त किये जाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मंदिर के व्यवस्थापकों के साथ समन्वय बनाकर वहां भीड़ का नियंत्रण व अन्य बंदोबस्त किये जाएं। किसी भी हाल में पुलिस मंदिर परिसर के अंदर हस्तक्षेप नहीं करेगी। मुख्यमंत्री ने खासकर अधिकारियों को बेहतर व्यवहार का पाठ भी पढ़ाया। लखनऊ में हुए विवेक तिवारी हत्याकांड का उन्होंने जिक्र किये बिना ही नसीहत दी कि पुलिस सकारात्मक सोच के साथ लोगों के साथ व्यवहार करे। जिला प्रशासन सकारात्मक रवैया के साथ त्योहारों को शांतिपूर्ण निपटाये।1दुर्गापूजा व दशहरा के मौके पर साफ-सफाई को लेकर भी उन्होंने कड़े निर्देश दिये। कहा, त्योहारों के दौरान आयोजित कार्यक्रमों व जुलूसों की वीडियोग्राफी जरूर कराई जाये। रामलीला के स्थान, दुर्गा मूर्ति के स्थान/प्रतिमा विसर्जन के स्थान, जुलूस मार्गो तथा रावण दहन स्थलों का बारीकी से निरीक्षण कर लिया जाए। यदि कहीं कोई विवाद हो तो उसका निपटारा करा लिया जाए। नवरात्र में शक्तिपीठों पर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त रहें। निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। असामाजिक तत्वों पर कड़ी निगाह रखी जाए। वरिष्ठ अधिकारी सुनिश्चित करें कि 10 अक्टूबर से 13 नवंबर के बीच कोई गड़बड़ी न हो।
    Close
    त्योहारों पर अच्छे व्यवहार के साथ ड्यूटी करे पुलिस : योगी
    दैनिक जागरण 10/10/2018
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार रात वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये दुर्गापूजा और दशहरा के संदर्भ में डीएम व एसएसपी/एसपी को सुरक्षा-व्यवस्था के कड़े निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि कहीं कोई नई परंपरा न शुरू होने दी जाए। जहां कोई विवाद है, उसे वक्त रहते निपटा लिया जाए। रामलीला स्थल को जाने वाले मार्ग दुरुस्त किये जाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मंदिर के व्यवस्थापकों के साथ समन्वय बनाकर वहां भीड़ का नियंत्रण व अन्य बंदोबस्त किये जाएं। किसी भी हाल में पुलिस मंदिर परिसर के अंदर हस्तक्षेप नहीं करेगी। मुख्यमंत्री ने खासकर अधिकारियों को बेहतर व्यवहार का पाठ भी पढ़ाया। लखनऊ में हुए विवेक तिवारी हत्याकांड का उन्होंने जिक्र किये बिना ही नसीहत दी कि पुलिस सकारात्मक सोच के साथ लोगों के साथ व्यवहार करे। जिला प्रशासन सकारात्मक रवैया के साथ त्योहारों को शांतिपूर्ण निपटाये।1दुर्गापूजा व दशहरा के मौके पर साफ-सफाई को लेकर भी उन्होंने कड़े निर्देश दिये। कहा, त्योहारों के दौरान आयोजित कार्यक्रमों व जुलूसों की वीडियोग्राफी जरूर कराई जाये। रामलीला के स्थान, दुर्गा मूर्ति के स्थान/प्रतिमा विसर्जन के स्थान, जुलूस मार्गो तथा रावण दहन स्थलों का बारीकी से निरीक्षण कर लिया जाए। यदि कहीं कोई विवाद हो तो उसका निपटारा करा लिया जाए। नवरात्र में शक्तिपीठों पर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त रहें। निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। असामाजिक तत्वों पर कड़ी निगाह रखी जाए। वरिष्ठ अधिकारी सुनिश्चित करें कि 10 अक्टूबर से 13 नवंबर के बीच कोई गड़बड़ी न हो।


  • राष्ट्रीय सहारा : 09/10/2018 सहारा न्यूज ब्यूरो, बलरामपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बलरामपुर जिले में स्वास्य, शिक्षा रोजगार के सृजनात्मक विकास प्राथमिकता से कराये जाएंगे। नीति आयोग के चिन्हीकृत समस्याओं को पीएम मोदी के कुशल मार्गदर्शन व राज्यपाल के सानिध्य में निराकरण किया जायेगा। पूर्व पीएम अटल जी की राजनैतिक कर्मभूमि होने के कारण भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बलरामपुर के पिछड़ेपन को दूर करने की दिशा में सकारात्मक कदम उठा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आज यहां तहसील तुलसीपुर के देवीपाटन में मां पाटेश्वरी जी का दर्शन पूजन करने के बाद उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। तत्पश्चात सूबे के राज्यपाल राम नाईक व सीएम योगी ने राष्ट्रसंत गोरक्षपीठाधीश्वर महंत अवेद्यनाथ की मूर्ति का अनावरण किया।मुख्यमंत्री श्री योगी ने कहा कि थारू जनजाति के अधिकांश लोग जिले के गैसड़ी व पचपेड़वा के तकरीबन 42 गांवों में पड़ोसी देश नेपाल सीमा के निकट निवास करते हैं। थारू जनजाति के लोगों को विकास की मुख्य धारा से जोड़ने व उन्हे स्वावलम्बी बनाने की दिशा में प्रदेश सरकार पूरा ध्यान दे रही है। उन्होंने कहा कि थारू जाति के लोगों की सुरक्षा के लिये प्रदेश सरकार संवेदनशील है। आदि शक्ति मां पाटेश्वरी पब्लिक स्कूल भवनियारपुर में आयोजित कार्यक्रम में सीएम योगी राज्यपाल राम नाईक के पहुंचने पर देवीपाटन मन्दिर महंथ योगी मिथिलेश नाथ, सांसद दद्दन मिश्र, प्रभारी मंत्री सुरेश राणा, विधायक तुलसीपुर कैलाश शुक्ल, पल्टूराम, रामप्रताप वर्मा, गैसड़ी विधायक शैलेष सिंह शैलू, भाजपा जिलाध्यक्ष राकेश सिंह व भाजपा के तमाम वरिष्ठ नेताओं ने मुख्य अतिथि एवं विशिष्ट अतिथियों का माल्यार्पण कर भव्य स्वागत किया। थारू जनजाति इमलिया कोडर की छात्राओं ने मूर्ति अनावरण कार्यक्रम में स्वागत गीत, मां सरस्वती वन्दना थारू नृत्य कला का मनमोहक सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरक्षपीठाधीश्वर महंथ अवेद्यनाथ के जीवन दर्शन पर विस्तार से र्चचा की। राज्यपाल राम नाईक ने देवीपाटन शक्तिपीठ द्वारा संचालित विद्यालय परिसर में गोरक्षपीठाधीश्वर महंथ अवेधनाथ की मूर्ति के अनावरण के पश्चात उनके जीवन दर्शन पर प्रकाश डाला। राज्यपाल ने प्रदेश में भाजपा सरकार की उपलब्धियों पर प्रसन्नता व्यक्त की। आदि शक्ति मां पाटेश्वरी पब्लिक स्कूल भवनियापुर के छात्र छात्राओं द्वारा सभी आगन्तुक अतिथियों का भव्य स्वागत किया।
    Close
    बलरामपुर जिले का विकास प्राथमिकता से होगा : योगी
    राष्ट्रीय सहारा 09/10/2018
    सहारा न्यूज ब्यूरो, बलरामपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बलरामपुर जिले में स्वास्य, शिक्षा रोजगार के सृजनात्मक विकास प्राथमिकता से कराये जाएंगे। नीति आयोग के चिन्हीकृत समस्याओं को पीएम मोदी के कुशल मार्गदर्शन व राज्यपाल के सानिध्य में निराकरण किया जायेगा। पूर्व पीएम अटल जी की राजनैतिक कर्मभूमि होने के कारण भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बलरामपुर के पिछड़ेपन को दूर करने की दिशा में सकारात्मक कदम उठा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आज यहां तहसील तुलसीपुर के देवीपाटन में मां पाटेश्वरी जी का दर्शन पूजन करने के बाद उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। तत्पश्चात सूबे के राज्यपाल राम नाईक व सीएम योगी ने राष्ट्रसंत गोरक्षपीठाधीश्वर महंत अवेद्यनाथ की मूर्ति का अनावरण किया।मुख्यमंत्री श्री योगी ने कहा कि थारू जनजाति के अधिकांश लोग जिले के गैसड़ी व पचपेड़वा के तकरीबन 42 गांवों में पड़ोसी देश नेपाल सीमा के निकट निवास करते हैं। थारू जनजाति के लोगों को विकास की मुख्य धारा से जोड़ने व उन्हे स्वावलम्बी बनाने की दिशा में प्रदेश सरकार पूरा ध्यान दे रही है। उन्होंने कहा कि थारू जाति के लोगों की सुरक्षा के लिये प्रदेश सरकार संवेदनशील है। आदि शक्ति मां पाटेश्वरी पब्लिक स्कूल भवनियारपुर में आयोजित कार्यक्रम में सीएम योगी राज्यपाल राम नाईक के पहुंचने पर देवीपाटन मन्दिर महंथ योगी मिथिलेश नाथ, सांसद दद्दन मिश्र, प्रभारी मंत्री सुरेश राणा, विधायक तुलसीपुर कैलाश शुक्ल, पल्टूराम, रामप्रताप वर्मा, गैसड़ी विधायक शैलेष सिंह शैलू, भाजपा जिलाध्यक्ष राकेश सिंह व भाजपा के तमाम वरिष्ठ नेताओं ने मुख्य अतिथि एवं विशिष्ट अतिथियों का माल्यार्पण कर भव्य स्वागत किया। थारू जनजाति इमलिया कोडर की छात्राओं ने मूर्ति अनावरण कार्यक्रम में स्वागत गीत, मां सरस्वती वन्दना थारू नृत्य कला का मनमोहक सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरक्षपीठाधीश्वर महंथ अवेद्यनाथ के जीवन दर्शन पर विस्तार से र्चचा की। राज्यपाल राम नाईक ने देवीपाटन शक्तिपीठ द्वारा संचालित विद्यालय परिसर में गोरक्षपीठाधीश्वर महंथ अवेधनाथ की मूर्ति के अनावरण के पश्चात उनके जीवन दर्शन पर प्रकाश डाला। राज्यपाल ने प्रदेश में भाजपा सरकार की उपलब्धियों पर प्रसन्नता व्यक्त की। आदि शक्ति मां पाटेश्वरी पब्लिक स्कूल भवनियापुर के छात्र छात्राओं द्वारा सभी आगन्तुक अतिथियों का भव्य स्वागत किया।


  • राष्ट्रीय सहारा : 08/10/2018 बलरामपुर (एसएनबी)। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने दो दिवसीय बलरामपुर भ्रमण के प्रथम दिन रविवार को पुलिस लाइन में जिले के विकास कायरे की समीक्षा की, साथ ही कानून- व्यवस्था पर र्चचा की। बैठक में मुख्यमंत्री ने आयुष्मान भारत की भी जानकारी दी व केन्द्र सरकार की महत्वपूर्ण योजनाओं के क्रियान्वयन की प्रगति जानी। उन्होंने कहा कि यदि उपचार के अभाव में कोई मर जाता है, तो सीएमओ पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी। इसके अलावा 31 अक्टूबर तक जिला ओडीएफ नहीं हुआ, तो कार्रवाई की जायेगी। मुख्यमंत्री ने बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देशित किया विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्थिति शत प्रतिशत सुनिश्चित की जाए। उन्होंने फर्जी शिक्षकों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिये तथा बोर्ड परीक्षा की तैयारी का जायजा लिया। जिलाधिकारी को आवारा पशुओं के विरूद्ध अभियान चलाने का निर्देश दिया और बताया कि शासन द्वारा जिले को इस कार्य के लिए एक करोड़ से ज्यादा की धनराशि दी जा चुकी है। उन्होंने गौशाला का निर्माण कराने को भी कहा। मुख्यमंत्री ने पीडब्ल्यूडी के अफसरों को जिले की तमाम सड़कों को 15 अक्टूबर तक गड्ढामुक्त करने के निदश दिये। डीपीआरओं को निर्देशित किया कि 31 अक्टूबर तक जिला ओडीएफ नहीं हुआ, तो कार्रवाई की जायेगी। विद्युत विभाग की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने अधिशासी अभियंता को 30 नवम्बर तक जिले को पूर्ण रूप से ऊर्जीकृत करने व 26 जनवरी को विद्युत उत्सव के रूप में मनाने को कहा। आगामी त्योहारों को देखते हुये सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की जाए। बैठक में जिले के प्रभारी मंत्री सुरेश राणा, सांसद श्रावस्ती दद्दन मिश्र, आयुक्त, सुदेश ओझा, डीआईजी अनिल कुमार राय, नोडल अधिकारी संध्या तिवारी, एडीजी गोरखपुर सहित भारी संख्या में अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।
    Close
    इलाज के अभाव में मौत पर सीएमओ जिम्मेदार
    राष्ट्रीय सहारा 08/10/2018
    बलरामपुर (एसएनबी)। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने दो दिवसीय बलरामपुर भ्रमण के प्रथम दिन रविवार को पुलिस लाइन में जिले के विकास कायरे की समीक्षा की, साथ ही कानून- व्यवस्था पर र्चचा की। बैठक में मुख्यमंत्री ने आयुष्मान भारत की भी जानकारी दी व केन्द्र सरकार की महत्वपूर्ण योजनाओं के क्रियान्वयन की प्रगति जानी। उन्होंने कहा कि यदि उपचार के अभाव में कोई मर जाता है, तो सीएमओ पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी। इसके अलावा 31 अक्टूबर तक जिला ओडीएफ नहीं हुआ, तो कार्रवाई की जायेगी। मुख्यमंत्री ने बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देशित किया विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्थिति शत प्रतिशत सुनिश्चित की जाए। उन्होंने फर्जी शिक्षकों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिये तथा बोर्ड परीक्षा की तैयारी का जायजा लिया। जिलाधिकारी को आवारा पशुओं के विरूद्ध अभियान चलाने का निर्देश दिया और बताया कि शासन द्वारा जिले को इस कार्य के लिए एक करोड़ से ज्यादा की धनराशि दी जा चुकी है। उन्होंने गौशाला का निर्माण कराने को भी कहा। मुख्यमंत्री ने पीडब्ल्यूडी के अफसरों को जिले की तमाम सड़कों को 15 अक्टूबर तक गड्ढामुक्त करने के निदश दिये। डीपीआरओं को निर्देशित किया कि 31 अक्टूबर तक जिला ओडीएफ नहीं हुआ, तो कार्रवाई की जायेगी। विद्युत विभाग की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने अधिशासी अभियंता को 30 नवम्बर तक जिले को पूर्ण रूप से ऊर्जीकृत करने व 26 जनवरी को विद्युत उत्सव के रूप में मनाने को कहा। आगामी त्योहारों को देखते हुये सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की जाए। बैठक में जिले के प्रभारी मंत्री सुरेश राणा, सांसद श्रावस्ती दद्दन मिश्र, आयुक्त, सुदेश ओझा, डीआईजी अनिल कुमार राय, नोडल अधिकारी संध्या तिवारी, एडीजी गोरखपुर सहित भारी संख्या में अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।


  • दैनिक जागरण : 07/10/2018 राब्यू,लखनऊ : चौथे इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल में सीएम योगी ने कहा कि विज्ञान का प्रयोग मानवता के कल्याण में करना चाहिए। परंपरागत ज्ञान व मेधा का उपयोग भी इस दिशा में कर सकते हैं। विज्ञान के माध्यम से समाज की कुरीतियों को दूर किया जा सकता है। हमारे वैज्ञानिकों ने दुनिया को राह दिखाई। उन्होंने कहा कि आज दुनिया में भारत को जो पहचान मिली है वह ज्ञान व विज्ञान की देन है। सीएम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन का इस समारोह को लखनऊ में आयोजित करवाने के लिए धन्यवाद दिया।
    Close
    मानवता के कल्याण में करें विज्ञान का प्रयोग : योगी
    दैनिक जागरण 07/10/2018
    राब्यू,लखनऊ : चौथे इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल में सीएम योगी ने कहा कि विज्ञान का प्रयोग मानवता के कल्याण में करना चाहिए। परंपरागत ज्ञान व मेधा का उपयोग भी इस दिशा में कर सकते हैं। विज्ञान के माध्यम से समाज की कुरीतियों को दूर किया जा सकता है। हमारे वैज्ञानिकों ने दुनिया को राह दिखाई। उन्होंने कहा कि आज दुनिया में भारत को जो पहचान मिली है वह ज्ञान व विज्ञान की देन है। सीएम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन का इस समारोह को लखनऊ में आयोजित करवाने के लिए धन्यवाद दिया।


  • दैनिक जागरण : 06/10/2018 राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संपूर्ण आरोग्य के लिए स्वास्थ्य की परंपरागत देसी उपचार को भी शामिल किए जाने का आह्वान डॉक्टरों से किया है। शुक्रवार को इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल के हेल्थ कॉन्क्लेव का उद्घाटन करते हुए उन्होंने कहा कि पहले लोग जड़ी-बूटी से ठीक हो जाते थे लेकिन, 20-25 वर्षो में इसमें खासी कमी आई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वस्थ नागरिक ही स्वस्थ समाज की आधारशिला बन सकता है। किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के साइंटिफिक कन्वेंशन सेंटर में आयोजित ‘हेल्थ कॉन्क्लेव-ट्रांसफार्मिग इंडियन हेल्थ’ में केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ.हर्षवर्धन की मौजूदगी में मुख्यमंत्री ने स्कूली पढ़ाई में प्राथमिक चिकित्सा शामिल किए जाने की जरूरत जताते हुए इसे अस्पतालों की भीड़ कम करने का मंत्र बताया। उन्होंने कहा कि बीमारी न होने देने के लिए जन जागरूकता भी जरूरी है।
    Close
    संपूर्ण आरोग्य के लिए देसी उपचार भी शामिल करना होगा : योगी
    दैनिक जागरण 06/10/2018
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संपूर्ण आरोग्य के लिए स्वास्थ्य की परंपरागत देसी उपचार को भी शामिल किए जाने का आह्वान डॉक्टरों से किया है। शुक्रवार को इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल के हेल्थ कॉन्क्लेव का उद्घाटन करते हुए उन्होंने कहा कि पहले लोग जड़ी-बूटी से ठीक हो जाते थे लेकिन, 20-25 वर्षो में इसमें खासी कमी आई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वस्थ नागरिक ही स्वस्थ समाज की आधारशिला बन सकता है। किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के साइंटिफिक कन्वेंशन सेंटर में आयोजित ‘हेल्थ कॉन्क्लेव-ट्रांसफार्मिग इंडियन हेल्थ’ में केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ.हर्षवर्धन की मौजूदगी में मुख्यमंत्री ने स्कूली पढ़ाई में प्राथमिक चिकित्सा शामिल किए जाने की जरूरत जताते हुए इसे अस्पतालों की भीड़ कम करने का मंत्र बताया। उन्होंने कहा कि बीमारी न होने देने के लिए जन जागरूकता भी जरूरी है।


  • दैनिक जागरण : 05/10/2018 जागरण संवाददाता, गोरखपुर: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विश्वविद्यालयों में अराजकता की बढ़ती घटनाओं पर चिंता जाहिर करते हुए कहा है कि ऐसी गतिविधियों के जिम्मेदार युवा दरअसल राष्ट्रीय मूल्यों से दूर अपनी संस्कृति, परंपरा और गौरवमयी इतिहास से अपरिचित हैं, दिग्भ्रमित हैं। उनका नेतृत्व वह लोग कर रहे हैं, जिन्होंने कभी देश को अपना नहीं माना, जो अलगाववाद को बढ़ावा देते हैं और युवाओं को गलत जानकारी देकर भटकाने की कोशिश करते रहे हैं। मुख्यमंत्री गुरुवार को निपाल लाज में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप)गोरक्ष प्रांत के समारोह में मेधावियों को सम्मानित कर रहे थे। योगी ने कहा कि आज प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में भारत विभाजन-अलगाववाद के नारे लगते हैं, यह एक षड्यंत्र है। मन तब और चिंतित होता है जब ऐसा करने वालों को नायक बनाने की कोशिश की जाती है। हालांकि ऐसे ही कुत्सित प्रयासों को जवाब देने के लिए अभाविप मुकाबिल है, जो पिछले 70 वर्षो से अपने रचनात्मक प्रयासों से युवाओं को राष्ट्र निर्माण के लिए प्रेरित करता आ रहा है। इसके लिए योगी ने अभाविप की प्रशंसा की। सामाजिक सरोकारों की याद दिलाते हुए कहा कि उच्च शिक्षा, प्राविधिक शिक्षा या फिर चिकित्सा शिक्षा हो, युवा एक-दो वर्षों के लिए ही सही अपनी शिक्षा का लाभ समाज को दें, दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्र को जरूर दें। खासतौर से सरकारी संस्थानों से शिक्षा ग्रहण करने वालों की जिम्मेदारी अधिक बनती है। शिक्षण संस्थानों और विद्यार्थी परिषद जैसे संगठनों को चाहिए कि युवाओं में इस भाव का संचरण करें।
    Close
    राष्ट्रीय मूल्यों से दूर युवा बन रहे अराजक : योगी
    दैनिक जागरण 05/10/2018
    जागरण संवाददाता, गोरखपुर: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विश्वविद्यालयों में अराजकता की बढ़ती घटनाओं पर चिंता जाहिर करते हुए कहा है कि ऐसी गतिविधियों के जिम्मेदार युवा दरअसल राष्ट्रीय मूल्यों से दूर अपनी संस्कृति, परंपरा और गौरवमयी इतिहास से अपरिचित हैं, दिग्भ्रमित हैं। उनका नेतृत्व वह लोग कर रहे हैं, जिन्होंने कभी देश को अपना नहीं माना, जो अलगाववाद को बढ़ावा देते हैं और युवाओं को गलत जानकारी देकर भटकाने की कोशिश करते रहे हैं। मुख्यमंत्री गुरुवार को निपाल लाज में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप)गोरक्ष प्रांत के समारोह में मेधावियों को सम्मानित कर रहे थे। योगी ने कहा कि आज प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में भारत विभाजन-अलगाववाद के नारे लगते हैं, यह एक षड्यंत्र है। मन तब और चिंतित होता है जब ऐसा करने वालों को नायक बनाने की कोशिश की जाती है। हालांकि ऐसे ही कुत्सित प्रयासों को जवाब देने के लिए अभाविप मुकाबिल है, जो पिछले 70 वर्षो से अपने रचनात्मक प्रयासों से युवाओं को राष्ट्र निर्माण के लिए प्रेरित करता आ रहा है। इसके लिए योगी ने अभाविप की प्रशंसा की। सामाजिक सरोकारों की याद दिलाते हुए कहा कि उच्च शिक्षा, प्राविधिक शिक्षा या फिर चिकित्सा शिक्षा हो, युवा एक-दो वर्षों के लिए ही सही अपनी शिक्षा का लाभ समाज को दें, दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्र को जरूर दें। खासतौर से सरकारी संस्थानों से शिक्षा ग्रहण करने वालों की जिम्मेदारी अधिक बनती है। शिक्षण संस्थानों और विद्यार्थी परिषद जैसे संगठनों को चाहिए कि युवाओं में इस भाव का संचरण करें।


  • राष्ट्रीय सहारा : 04/10/2018 गोरखपुर (एसएनबी)। गोरखपुर मंडल की पांच लोकसभा सीटों की भाजपा संचालन समिति की गोरखपुर क्लब में आयोजित बैठक को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कार्यकर्ता ‘‘अपना बूथ, सबसे मजबूत’ को सार्थक बनायें। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के लिए अभी से जुट जाने की जरूरत है। मिशन-2019 को सफल बनाने के लिए सभी को एकजुट होकर केंद्र व प्रदेश सरकार की योजनाओं के बारे में लोगों को बताना होगा। मतदाता पुनरीक्षण अभियान को गंभीरता से लेने की नसीहत देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश में 52 लाख ऐसे लोगों को चिन्हित किया है, जो मतदाता होने की योग्यता तो रखते हैं लेकिन उनका नाम सूची में नहीं है। ऐसे में इन लोगों को चिन्हित कर उनका नाम मतदाता सूची में शामिल करना प्रत्येक भाजपा कार्यकर्ता की जिम्मेदारी है। मुख्यमंत्री ने कार्यकर्ताओं को अति आत्मविास से बचने की भी सलाह देते हुए कहा कि कार्यकर्ता मतदाताओं को पार्टी से जोड़ने का अथक प्रयास करते रहें। उन्होंने कहा कि भारत के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि सरकार की योजनाओं का लाभ मजहब और जाति के आधार पर नहीं जरूरतमंदों को मिल रहा है। केंद्र और प्रदेश सरकार की योजनाओं का लाभ अब तक 21 करोड़ परिवारों को मिल चुका है और यह सिलसिला अभी भी जारी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र और प्रदेश की सरकारें जनमानस की मंशा के अनुरूप कार्य कर रही हैं। कार्यकर्ताओं को व्यापक स्तर पर निगरानी करनी होगी और जनमानस के लिए किए जा रहे कार्य के दुरुपयोग को रोकना होगा। बैठक को बतौर विशिष्ट अतिथि संबोधित करते हुए प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने लोकसभा चुनाव की तैयारी से जुड़ी आगामी कार्ययोजना पर प्रकाश डाला और इसके लिए कार्यकर्ताओं को जुट जाने के लिए कहा। महामंत्री ने पार्टी द्वारा कार्यक्रम के प्रगति की समीक्षा भी की। इस अवसर पर प्रदेश महामंत्री पंकज सिंह, प्रदेश सरकार के मंत्री सूर्य प्रताप शाही, क्षेत्रीय अध्यक्ष डा. धर्मेन्द्र सिंह आदि मौजूद रहे। संचालन क्षेत्रीय महामंत्री सहजानंद राय ने किया।
    Close
    ‘‘अपना बूथ, सबसे मजबूत’ को सार्थक बनायें कार्यकर्ता : सीएम
    राष्ट्रीय सहारा 04/10/2018
    गोरखपुर (एसएनबी)। गोरखपुर मंडल की पांच लोकसभा सीटों की भाजपा संचालन समिति की गोरखपुर क्लब में आयोजित बैठक को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कार्यकर्ता ‘‘अपना बूथ, सबसे मजबूत’ को सार्थक बनायें। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के लिए अभी से जुट जाने की जरूरत है। मिशन-2019 को सफल बनाने के लिए सभी को एकजुट होकर केंद्र व प्रदेश सरकार की योजनाओं के बारे में लोगों को बताना होगा। मतदाता पुनरीक्षण अभियान को गंभीरता से लेने की नसीहत देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश में 52 लाख ऐसे लोगों को चिन्हित किया है, जो मतदाता होने की योग्यता तो रखते हैं लेकिन उनका नाम सूची में नहीं है। ऐसे में इन लोगों को चिन्हित कर उनका नाम मतदाता सूची में शामिल करना प्रत्येक भाजपा कार्यकर्ता की जिम्मेदारी है। मुख्यमंत्री ने कार्यकर्ताओं को अति आत्मविास से बचने की भी सलाह देते हुए कहा कि कार्यकर्ता मतदाताओं को पार्टी से जोड़ने का अथक प्रयास करते रहें। उन्होंने कहा कि भारत के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि सरकार की योजनाओं का लाभ मजहब और जाति के आधार पर नहीं जरूरतमंदों को मिल रहा है। केंद्र और प्रदेश सरकार की योजनाओं का लाभ अब तक 21 करोड़ परिवारों को मिल चुका है और यह सिलसिला अभी भी जारी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र और प्रदेश की सरकारें जनमानस की मंशा के अनुरूप कार्य कर रही हैं। कार्यकर्ताओं को व्यापक स्तर पर निगरानी करनी होगी और जनमानस के लिए किए जा रहे कार्य के दुरुपयोग को रोकना होगा। बैठक को बतौर विशिष्ट अतिथि संबोधित करते हुए प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने लोकसभा चुनाव की तैयारी से जुड़ी आगामी कार्ययोजना पर प्रकाश डाला और इसके लिए कार्यकर्ताओं को जुट जाने के लिए कहा। महामंत्री ने पार्टी द्वारा कार्यक्रम के प्रगति की समीक्षा भी की। इस अवसर पर प्रदेश महामंत्री पंकज सिंह, प्रदेश सरकार के मंत्री सूर्य प्रताप शाही, क्षेत्रीय अध्यक्ष डा. धर्मेन्द्र सिंह आदि मौजूद रहे। संचालन क्षेत्रीय महामंत्री सहजानंद राय ने किया।


  • दैनिक जागरण : 03/10/2018 राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि हमारे लिए किसानों का हित सवरेपरि है और रहेगा। वर्ष 2014 में केंद्र में नरेंद्र मोदी की अगुआई में सरकार बनने के बाद से ही किसानों के हित में लगातार ऐतिहासिक काम हुए हैं। इनके नाते पहली बार किसान राजनीति के एजेंडे में आया। राहुल और केजरीवाल जैसे लोगों का खेतीबाड़ी से कभी वास्ता नहीं रहा। इनको तो आलू और गन्ने का फर्क तक नहीं पता। किसानों के हित में इनके आंसू घड़ियाली हैं। मंगलवार को यहां पत्रकारवार्ता में योगी ने कहा कि जो लोग आज किसानों के हितैषी बन रहे हैं, उनके शासनकाल में किसानों का शोषण हुआ। खाद-बीज और अपनी ही उपज के भुगतान के लिए उनको लाठी खानी पड़ती थी। उनकी नीतियों से त्रस्त किसान आत्महत्या को मजबूर थे। प्रधानमंत्री बीमा, प्रधानमंत्री सिंचाई योजना, आजादी के बाद पहली बार 24 फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में डेढ़ से दोगुना तक की वृद्धि, वर्षो से लंबित सिंचाई परियोजनाओं को एकमुश्त पैसा देकर उनको पूरा करना, न्यूनतम लागत में अधिकतम उपज के लिए उर्वरकों के संतुलित प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए हर किसान को मृदा स्वास्थ्य कार्ड देना, गन्ने के बकाये का 8000 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान कर केंद्र सरकार ने इसे साबित किया है।
    Close
    किसान सरकार की प्राथमिकता में हैं और रहेंगे : योगी आदित्यनाथ
    दैनिक जागरण 03/10/2018
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि हमारे लिए किसानों का हित सवरेपरि है और रहेगा। वर्ष 2014 में केंद्र में नरेंद्र मोदी की अगुआई में सरकार बनने के बाद से ही किसानों के हित में लगातार ऐतिहासिक काम हुए हैं। इनके नाते पहली बार किसान राजनीति के एजेंडे में आया। राहुल और केजरीवाल जैसे लोगों का खेतीबाड़ी से कभी वास्ता नहीं रहा। इनको तो आलू और गन्ने का फर्क तक नहीं पता। किसानों के हित में इनके आंसू घड़ियाली हैं। मंगलवार को यहां पत्रकारवार्ता में योगी ने कहा कि जो लोग आज किसानों के हितैषी बन रहे हैं, उनके शासनकाल में किसानों का शोषण हुआ। खाद-बीज और अपनी ही उपज के भुगतान के लिए उनको लाठी खानी पड़ती थी। उनकी नीतियों से त्रस्त किसान आत्महत्या को मजबूर थे। प्रधानमंत्री बीमा, प्रधानमंत्री सिंचाई योजना, आजादी के बाद पहली बार 24 फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में डेढ़ से दोगुना तक की वृद्धि, वर्षो से लंबित सिंचाई परियोजनाओं को एकमुश्त पैसा देकर उनको पूरा करना, न्यूनतम लागत में अधिकतम उपज के लिए उर्वरकों के संतुलित प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए हर किसान को मृदा स्वास्थ्य कार्ड देना, गन्ने के बकाये का 8000 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान कर केंद्र सरकार ने इसे साबित किया है।


  • राष्ट्रीय सहारा : 01/10/2018 सहारनपुर (एसएनबी)। भारतीय जनता पार्टी द्वारा आयोजित चार लोकसभा सीटों की संचालन समिति की बैठक में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनप्रतिनिधियों व कार्यकर्ताओं को आगामी लोकसभा चुनाव में जीत का मूलमंत्र देते हुए 75 प्लस सीटों पर जीत हासिल करने का आह्वान किया।स्थानीय अम्बाला रोड स्थित पोस्टल एंड टेलीग्राफ सेंटर के गोल्डन जुबली सभागार में आयोजित चार लोकसभा सीटों की संचालन समिति की बैठक का शुभारम्भ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भारत माता, भारतीय जनसंघ के संस्थापक पं. दीनदयाल उपाध्याय के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्वलित करके किया। बैठक में मंचासीन मुख्यमंत्री के अलावा भारतीय जनता पार्टी के क्षेत्रीय अध्यक्ष अश्विनी त्यागी, क्षेत्रीय महामंत्री संगठन अजेय कुमार, क्षेत्रीय महामंत्री मोहित बेनीवाल, जनपद के प्रभारी मंत्री डा. सूर्यप्रताप शाही ने बारी-बारी से सहारनपुर, कैराना, मुजफ्फरनगर व बिजनौर लोकसभा सीटों की संचालन समिति के पदाधिकारियों से संगठन के सम्बंध में जानकारी ली तथा आगामी लोकसभा चुनाव में 75 प्लस का लक्ष्य हासिल करने के लिए जुट जाने के निर्देश दिए। संचालन समिति की बैठक में पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र सिंह, गन्ना राज्यमंत्री सुरेश राणा, आयुष राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार डा. धर्मसिंह सैनी, बिजनौर सांसद कुंवर भारतेंदु सिंह, मुजफ्फरनगर के सांसद डा. संजीव बालिया, सहारनपुर के सांसद राघव लखनपाल शर्मा, सांसद कांता करदम, विधायक प्रदीप चौधरी, विधायक देवेंद्र निम, विधायक बृजेश रावत, विधायक तेजेंद्र निर्वाल, विधायक विजय कश्यप, विधायक प्रदीप बुटवाल, विधायक विक्त्रम सैनी, विधायक कपिल देव अग्रवाल, एमएलसी विजय बहादुर पाठक, भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष जसवंत सैनी, भाजपा जिलाध्यक्ष बिजेंद्र कश्यप, मुजफ्फरनगर जिलाध्यक्ष सुधीर सैनी, वरिष्ठ भाजपा नेता सुभाष चंद शर्मा, हरवीर मलिक, रचना पाल, प्रमोद सैनी, मानवीर पुंडीर, यशवंत राणा, राहुल लखनपाल शर्मा, अरूण गुप्ता, शामली चेयरमैन अरविंद संगल महापौर संजीव वालिया के अलावा लोकसभा संचालन समिति के सदस्य मौजूद रहे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर चलाए जा रहे स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत सन् 2019 तक पूरे उत्तर प्रदेश को खुले में शौचमुक्त करने का लक्ष्य पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने दावा किया कि आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा उत्तर प्रदेश में 75 प्लस सीटों पर जीत हासिल करेगी। भारतीय जनता पार्टी की चार लोकसभा सीटों की संचालन समिति की बैठक में भाग लेने के बाद पत्रकारों से वार्ता करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत खुले में शौचमुक्त के मामले में सहारनपुर मंडल ने पूरे प्रदेश में प्रथम स्थान हासिल किया है। उन्होंने कहा कि 2019 तक उत्तर प्रदेश को ओडीएफ घोषित करने का लक्ष्य पूरा कर लिया जाएगा।
    Close
    योगी ने दिया 75 प्लस का मूलमंत्र
    राष्ट्रीय सहारा 01/10/2018
    सहारनपुर (एसएनबी)। भारतीय जनता पार्टी द्वारा आयोजित चार लोकसभा सीटों की संचालन समिति की बैठक में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनप्रतिनिधियों व कार्यकर्ताओं को आगामी लोकसभा चुनाव में जीत का मूलमंत्र देते हुए 75 प्लस सीटों पर जीत हासिल करने का आह्वान किया।स्थानीय अम्बाला रोड स्थित पोस्टल एंड टेलीग्राफ सेंटर के गोल्डन जुबली सभागार में आयोजित चार लोकसभा सीटों की संचालन समिति की बैठक का शुभारम्भ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भारत माता, भारतीय जनसंघ के संस्थापक पं. दीनदयाल उपाध्याय के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्वलित करके किया। बैठक में मंचासीन मुख्यमंत्री के अलावा भारतीय जनता पार्टी के क्षेत्रीय अध्यक्ष अश्विनी त्यागी, क्षेत्रीय महामंत्री संगठन अजेय कुमार, क्षेत्रीय महामंत्री मोहित बेनीवाल, जनपद के प्रभारी मंत्री डा. सूर्यप्रताप शाही ने बारी-बारी से सहारनपुर, कैराना, मुजफ्फरनगर व बिजनौर लोकसभा सीटों की संचालन समिति के पदाधिकारियों से संगठन के सम्बंध में जानकारी ली तथा आगामी लोकसभा चुनाव में 75 प्लस का लक्ष्य हासिल करने के लिए जुट जाने के निर्देश दिए। संचालन समिति की बैठक में पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र सिंह, गन्ना राज्यमंत्री सुरेश राणा, आयुष राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार डा. धर्मसिंह सैनी, बिजनौर सांसद कुंवर भारतेंदु सिंह, मुजफ्फरनगर के सांसद डा. संजीव बालिया, सहारनपुर के सांसद राघव लखनपाल शर्मा, सांसद कांता करदम, विधायक प्रदीप चौधरी, विधायक देवेंद्र निम, विधायक बृजेश रावत, विधायक तेजेंद्र निर्वाल, विधायक विजय कश्यप, विधायक प्रदीप बुटवाल, विधायक विक्त्रम सैनी, विधायक कपिल देव अग्रवाल, एमएलसी विजय बहादुर पाठक, भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष जसवंत सैनी, भाजपा जिलाध्यक्ष बिजेंद्र कश्यप, मुजफ्फरनगर जिलाध्यक्ष सुधीर सैनी, वरिष्ठ भाजपा नेता सुभाष चंद शर्मा, हरवीर मलिक, रचना पाल, प्रमोद सैनी, मानवीर पुंडीर, यशवंत राणा, राहुल लखनपाल शर्मा, अरूण गुप्ता, शामली चेयरमैन अरविंद संगल महापौर संजीव वालिया के अलावा लोकसभा संचालन समिति के सदस्य मौजूद रहे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर चलाए जा रहे स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत सन् 2019 तक पूरे उत्तर प्रदेश को खुले में शौचमुक्त करने का लक्ष्य पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने दावा किया कि आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा उत्तर प्रदेश में 75 प्लस सीटों पर जीत हासिल करेगी। भारतीय जनता पार्टी की चार लोकसभा सीटों की संचालन समिति की बैठक में भाग लेने के बाद पत्रकारों से वार्ता करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत खुले में शौचमुक्त के मामले में सहारनपुर मंडल ने पूरे प्रदेश में प्रथम स्थान हासिल किया है। उन्होंने कहा कि 2019 तक उत्तर प्रदेश को ओडीएफ घोषित करने का लक्ष्य पूरा कर लिया जाएगा।

सर्वश्रेष्ठ समीक्षा

आपका मत

आप के विचार

  • बूचड़ खाना बंद करने पर धन्यावाद

    राजेश patodi हम यह चाहते हे की यह नियम पुरे भारत देश शक्ति से लागु किया जाये हम आशा करते हे की आप की यह मेहनत जरूर रंग लाएगी जय हिन्द जय भारत ,राजेश पटौदी म.प. इंदौर
  • शिक्षा

    अभिशेष एक अपील मोदी जी और योगी जी से की प्राइवेट स्कूल की फीस पर कोई लगाम नहीं है और उनके स्कूल मे पढ़ाया जाने वाला कोर्स बाजार भाव से पांच गुना दामों मे बेचा जा रहा है । आपसे निवेदन है कि इन दोनों बातो पर अपना ध्यान दे ।
  • संपूर्ण देखें