समाचार
वर्ष : माह :
  • हिन्दुस्तान : 17/12/2018 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गांधी परिवार और कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि रायबरेली-अमेठी में गरीबों के नाम केवल राजनीति की गई। दोनों जिलों में गरीबों का असली भला तो केंद्र में न२ेंद्र मोदी सरकार आने के बाद शुरू हुआ। प्रधानमंत्री द्वारा एक हजार करोड़ की परियोजनाओं के लोकार्पण-शिलान्यास के मौके पर आधुनिक रेल कोच कारखाना परिसर में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि रायबरेली में अगर विकास हुआ होता तो राज्य सरकार को केंद्र की सौभाग्य योजना से 1547 गांवों के 7013 मजरों में बिजली अब न पहंुचानी पड़ती। अमेठी के 934 गांवों 5239 मजरे विद्युतीकृत किए गए हैं। उन्होने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत रायबरेली में 3,11,858 इज्जतघर और 23,420 प्रधानमंत्री आवास बनाकर गरीबों को दिए। अमेठी के लोगों के विकास के लिए भी राज्य सरकार दो लाख 15 हजार शौचालय एवं 12 हजार से अधिक आवास गरीबों के लिए बनाए। उन्होने कहा कि यह आंकड़े ही बताते हैं रायबरेली-अमेठी में विकास के नाम पर केवल गरीबों को अब तक केवल छला ही गया है।
    Close
    मोदी सरकार में हुआ रायबरेली के गरीबों का भला : योगी
    हिन्दुस्तान 17/12/2018
    मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गांधी परिवार और कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि रायबरेली-अमेठी में गरीबों के नाम केवल राजनीति की गई। दोनों जिलों में गरीबों का असली भला तो केंद्र में न२ेंद्र मोदी सरकार आने के बाद शुरू हुआ। प्रधानमंत्री द्वारा एक हजार करोड़ की परियोजनाओं के लोकार्पण-शिलान्यास के मौके पर आधुनिक रेल कोच कारखाना परिसर में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि रायबरेली में अगर विकास हुआ होता तो राज्य सरकार को केंद्र की सौभाग्य योजना से 1547 गांवों के 7013 मजरों में बिजली अब न पहंुचानी पड़ती। अमेठी के 934 गांवों 5239 मजरे विद्युतीकृत किए गए हैं। उन्होने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत रायबरेली में 3,11,858 इज्जतघर और 23,420 प्रधानमंत्री आवास बनाकर गरीबों को दिए। अमेठी के लोगों के विकास के लिए भी राज्य सरकार दो लाख 15 हजार शौचालय एवं 12 हजार से अधिक आवास गरीबों के लिए बनाए। उन्होने कहा कि यह आंकड़े ही बताते हैं रायबरेली-अमेठी में विकास के नाम पर केवल गरीबों को अब तक केवल छला ही गया है।


  • राष्ट्रीय सहारा : 16/12/2018 राम की धरती से समरसता कुम्भ के माध्यम से एक राष्ट्र, एक संस्कृति, एक समाज और एक रक्त का संदेश दिया गया। समारोह में दलितों को साधने पर पूरा जोर रहा। दुनिया को समरसता का संदेश देते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारे आदर्श भगवान श्रीराम का परिचय कराने वाले रामायण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि हैं। अयोध्या की धरती से समरसता का ये संदेश पूरी दुनिया को देना है। कुम्भ को भारतीय संस्कृति में मानवता का सबसे बड़ा मिलन स्थल बताते हुए कहा कि मानवता के इस संगम (कुम्भ) में किसी के भी साथ कोई भेदभाव नहीं होता। देश और दुनिया को मानवता के कल्याण का संदेश देने के लिए अयोध्या की धरती पर समरसता कुम्भ का आयोजन किया गया है। कुम्भ सांस्कृतिक संगम हैं,इसमें कोई भेदभाव नहीं, प्राणि मात्र के कल्याण की भावना होती है। श्री योगी शनिवार को डा. राममनोहर लोहिया अवध विविद्यालय के नवीन प्रांगण में प्रयागराज कुंभ युगाब्द 5120 की भूमिका में आयोजित दो दिवसीय समरसता कुम्भ का उद्घाटन करते हुए कुम्भ को लेकर भ्रम फैलाने वालों व सनातन धर्म विरोधियों पर जमकर बरसे। समाज में धर्म और जातीयता के भेदभाव से पैदा की गलत धारणाओं को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया। कहा कि समाज में फैले भेदभाव, ऊंच-नीच, जातीय विद्वेष को समाप्त करने के लिए ही कुम्भ है। पांच कुम्भों के आयोजन हैं। पहला वैचारिक कुम्भ काशी, दूसरा नारी शक्ति से जुड़ा वैचारिक कुंभ श्रीकृष्ण की धरती मथुरा, तीसरा कुम्भ श्रीराम की नगरी अयोध्या में किया जा रहा है। चौथा लखनऊ और पांचवां वैचारिक कुम्भ प्रयाग में होगा। इससे पहले राजधानी लखनऊ में कृषि कुम्भ हुआ। कुम्भ पर्यावरण विरोधी नहीं, हितैषी है, कुम्भ नारी शक्ति का केंद्र और सभी धर्मो की अद्भुत समरसता का केंद्र है। श्री योगी ने कहा कि लेकिन अब कुम्भ की महत्ता बहुत बढ़ गयी है। लोग अपने कार्यक्रमों की ब्रांडिंग करने के लिए भी कुम्भ का नाम देने लगे हैं। सनातन धर्म की विजय है कि राजनीति करने वाले लोग अपने को हिंदू बताने लगे हैं। दोगले चरित्र वाले व्यक्ति कभी सफल नहीं हो सकते। भारतीय समाज और संस्कृति ने कभी छुआछूत, अस्पृश्यता को नहीं माना। आज फेसबुक और गूगल हमारे उपनिषद और पुराण से ज्यादा प्रामाणिक नहीं हैं। इससे पहले आरएसएस के सह सरकार्यवाह भैयाजी, महाराष्ट्र के पुणो से गोविंददेव गिरि, संघ के जयप्रकाश चतुव्रेदी, कुम्भ के प्रभारी मंत्री रमापति शास्त्री, ग्राम्य विकास राज्यमंत्री महेंद्र सिंह, कुलपति प्रो. मनोज दीक्षित ने समरसता के विविध आयामों पर अपने विचार रखे। समारोह की अध्यक्षता श्रीराम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास ने की। इस अवसर पर समरसता पत्रिका का लोकार्पण किया गया। डा. राममनोहर लोहिया अवध विविद्यालय के पिछवाड़े विशाल मैदान पर 30 हजार वर्गफीट पर जर्मन हैंगर टेंट से पंडाल बनाया गया है। वाल्मीकिनगर में तीन हजार स्वीस कॉटेज बनाये गये हैं। इसमें देश की विविध संस्कृतियों का सम्मिशण्रदेखने को मिलता है।
    Close
    वाल्मीकि ने दिया समरसता का संदेश
    राष्ट्रीय सहारा 16/12/2018
    राम की धरती से समरसता कुम्भ के माध्यम से एक राष्ट्र, एक संस्कृति, एक समाज और एक रक्त का संदेश दिया गया। समारोह में दलितों को साधने पर पूरा जोर रहा। दुनिया को समरसता का संदेश देते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारे आदर्श भगवान श्रीराम का परिचय कराने वाले रामायण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि हैं। अयोध्या की धरती से समरसता का ये संदेश पूरी दुनिया को देना है। कुम्भ को भारतीय संस्कृति में मानवता का सबसे बड़ा मिलन स्थल बताते हुए कहा कि मानवता के इस संगम (कुम्भ) में किसी के भी साथ कोई भेदभाव नहीं होता। देश और दुनिया को मानवता के कल्याण का संदेश देने के लिए अयोध्या की धरती पर समरसता कुम्भ का आयोजन किया गया है। कुम्भ सांस्कृतिक संगम हैं,इसमें कोई भेदभाव नहीं, प्राणि मात्र के कल्याण की भावना होती है। श्री योगी शनिवार को डा. राममनोहर लोहिया अवध विविद्यालय के नवीन प्रांगण में प्रयागराज कुंभ युगाब्द 5120 की भूमिका में आयोजित दो दिवसीय समरसता कुम्भ का उद्घाटन करते हुए कुम्भ को लेकर भ्रम फैलाने वालों व सनातन धर्म विरोधियों पर जमकर बरसे। समाज में धर्म और जातीयता के भेदभाव से पैदा की गलत धारणाओं को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया। कहा कि समाज में फैले भेदभाव, ऊंच-नीच, जातीय विद्वेष को समाप्त करने के लिए ही कुम्भ है। पांच कुम्भों के आयोजन हैं। पहला वैचारिक कुम्भ काशी, दूसरा नारी शक्ति से जुड़ा वैचारिक कुंभ श्रीकृष्ण की धरती मथुरा, तीसरा कुम्भ श्रीराम की नगरी अयोध्या में किया जा रहा है। चौथा लखनऊ और पांचवां वैचारिक कुम्भ प्रयाग में होगा। इससे पहले राजधानी लखनऊ में कृषि कुम्भ हुआ। कुम्भ पर्यावरण विरोधी नहीं, हितैषी है, कुम्भ नारी शक्ति का केंद्र और सभी धर्मो की अद्भुत समरसता का केंद्र है। श्री योगी ने कहा कि लेकिन अब कुम्भ की महत्ता बहुत बढ़ गयी है। लोग अपने कार्यक्रमों की ब्रांडिंग करने के लिए भी कुम्भ का नाम देने लगे हैं। सनातन धर्म की विजय है कि राजनीति करने वाले लोग अपने को हिंदू बताने लगे हैं। दोगले चरित्र वाले व्यक्ति कभी सफल नहीं हो सकते। भारतीय समाज और संस्कृति ने कभी छुआछूत, अस्पृश्यता को नहीं माना। आज फेसबुक और गूगल हमारे उपनिषद और पुराण से ज्यादा प्रामाणिक नहीं हैं। इससे पहले आरएसएस के सह सरकार्यवाह भैयाजी, महाराष्ट्र के पुणो से गोविंददेव गिरि, संघ के जयप्रकाश चतुव्रेदी, कुम्भ के प्रभारी मंत्री रमापति शास्त्री, ग्राम्य विकास राज्यमंत्री महेंद्र सिंह, कुलपति प्रो. मनोज दीक्षित ने समरसता के विविध आयामों पर अपने विचार रखे। समारोह की अध्यक्षता श्रीराम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास ने की। इस अवसर पर समरसता पत्रिका का लोकार्पण किया गया। डा. राममनोहर लोहिया अवध विविद्यालय के पिछवाड़े विशाल मैदान पर 30 हजार वर्गफीट पर जर्मन हैंगर टेंट से पंडाल बनाया गया है। वाल्मीकिनगर में तीन हजार स्वीस कॉटेज बनाये गये हैं। इसमें देश की विविध संस्कृतियों का सम्मिशण्रदेखने को मिलता है।


  • दैनिक जागरण : 15/12/2018 राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रादेशिक विकास सेवा के अफसरों से कहा कि वे जनता के लिए बल बनें, बला नहीं। आप अच्छे कार्य करोगे तो लोग आपको याद करेंगे। यदि बुरा काम करोगे तो लोग कहेंगे कि अच्छा हुआ बला टल गई। इसलिए सभी को अच्छा काम करना चाहिए। आप जिस कैडर से जुड़े हैं, उससे आम जनता के चेहरे पर खुशी लाई जा सकती है। मुख्यमंत्री शुक्रवार को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में प्रादेशिक विकास सेवा संगठन के वार्षिक अधिवेशन में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि इस तरह के अधिवेशन में विभाग के उन अफसरों के कार्यो का प्रेजेंटेशन भी होना चाहिए जो अपने जिले या ब्लॉक में विशिष्ट या अनूठे ढंग से काम कर रहे हैं। इससे विभाग के दूसरे अफसरों को भी अच्छा काम करने की प्रेरणा मिलती है। साथ ही आइएएस सहित दूसरे अफसरों को भी इसे दिखाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि किसी संगठन का पदाधिकारी बनने का केवल यह लक्ष्य नहीं होना चाहिए कि वह ट्रांसफर-पोस्टिंग से मुक्त हो गया है। उसे संगठन के मंच का उपयोग करते हुए अपने कैडर के अधिकारियों व कर्मचारियों की विशिष्ट प्रतिभा को सामने लाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने संगठन की मांगों पर विचार करने और सेवा संबंधी विसंगतियां दूर करने का आश्वासन दिया। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) में यूपी को देश में पहला स्थान दिलाने के लिए अफसरों की पीठ भी थपथपाई। कहा कि एक वर्ष में 11.53 लाख आवास बनाने का लक्ष्य तय किया गया था, जिसमें 8.50 लाख आवास बनकर तैयार होने वाले हैं। मेरा मानना है कि जिस व्यक्ति के पास आवास नहीं है, वह वास्तव में गरीब व पीड़ित है। ऐसे व्यक्ति को आवास मिलना बड़ी बात है। योगी ने कहा कि कोई काम छोटा या बड़ा नहीं होता है, सोच उसे छोटा या बड़ा बनाती है। अगर आप एक गांव में केवल 10 परिवार को स्वावलंबन की दिशा में आगे बढ़ा दें तो गांव खुद ही आगे बढ़ जाएगा। मुख्यमंत्री ने 34 वनटांगिया गांव की तस्वीर बदलने का उदाहरण भी दिया। इससे पहले ग्राम्य विकास मंत्री डॉ. महेन्द्र सिंह ने अफसरों से कहा कि वे उत्तर प्रदेश को मुख्यमंत्री के सपनों का प्रदेश बनाकर दिखाएं। प्रदेश के किसी भी विभाग से ज्यादा अच्छे अफसर ग्राम्य विकास विभाग में हैं, जिनकी बदौलत उत्तर प्रदेश को देश में पहला स्थान मिला है।
    Close
    जनता के लिए बला नहीं, बल बनें अफसर : योगी
    दैनिक जागरण 15/12/2018
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रादेशिक विकास सेवा के अफसरों से कहा कि वे जनता के लिए बल बनें, बला नहीं। आप अच्छे कार्य करोगे तो लोग आपको याद करेंगे। यदि बुरा काम करोगे तो लोग कहेंगे कि अच्छा हुआ बला टल गई। इसलिए सभी को अच्छा काम करना चाहिए। आप जिस कैडर से जुड़े हैं, उससे आम जनता के चेहरे पर खुशी लाई जा सकती है। मुख्यमंत्री शुक्रवार को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में प्रादेशिक विकास सेवा संगठन के वार्षिक अधिवेशन में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि इस तरह के अधिवेशन में विभाग के उन अफसरों के कार्यो का प्रेजेंटेशन भी होना चाहिए जो अपने जिले या ब्लॉक में विशिष्ट या अनूठे ढंग से काम कर रहे हैं। इससे विभाग के दूसरे अफसरों को भी अच्छा काम करने की प्रेरणा मिलती है। साथ ही आइएएस सहित दूसरे अफसरों को भी इसे दिखाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि किसी संगठन का पदाधिकारी बनने का केवल यह लक्ष्य नहीं होना चाहिए कि वह ट्रांसफर-पोस्टिंग से मुक्त हो गया है। उसे संगठन के मंच का उपयोग करते हुए अपने कैडर के अधिकारियों व कर्मचारियों की विशिष्ट प्रतिभा को सामने लाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने संगठन की मांगों पर विचार करने और सेवा संबंधी विसंगतियां दूर करने का आश्वासन दिया। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) में यूपी को देश में पहला स्थान दिलाने के लिए अफसरों की पीठ भी थपथपाई। कहा कि एक वर्ष में 11.53 लाख आवास बनाने का लक्ष्य तय किया गया था, जिसमें 8.50 लाख आवास बनकर तैयार होने वाले हैं। मेरा मानना है कि जिस व्यक्ति के पास आवास नहीं है, वह वास्तव में गरीब व पीड़ित है। ऐसे व्यक्ति को आवास मिलना बड़ी बात है। योगी ने कहा कि कोई काम छोटा या बड़ा नहीं होता है, सोच उसे छोटा या बड़ा बनाती है। अगर आप एक गांव में केवल 10 परिवार को स्वावलंबन की दिशा में आगे बढ़ा दें तो गांव खुद ही आगे बढ़ जाएगा। मुख्यमंत्री ने 34 वनटांगिया गांव की तस्वीर बदलने का उदाहरण भी दिया। इससे पहले ग्राम्य विकास मंत्री डॉ. महेन्द्र सिंह ने अफसरों से कहा कि वे उत्तर प्रदेश को मुख्यमंत्री के सपनों का प्रदेश बनाकर दिखाएं। प्रदेश के किसी भी विभाग से ज्यादा अच्छे अफसर ग्राम्य विकास विभाग में हैं, जिनकी बदौलत उत्तर प्रदेश को देश में पहला स्थान मिला है।


  • हिन्दुस्तान : 14/12/2018 लालगंज रेल कोच फैक्ट्री का निरीक्षण करने पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को पदाधिकारियों और रेल कोच तथा जिला प्रशासन और शासन के अफसरों के साथ बैठक की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि रेल कोच फैक्ट्री में सालाना पांच सौ कोच बन रहे है। इसकी क्षमता को बढ़ाकर पांच हजार रेल कोच प्रतिवर्ष करना है। क्षमता विस्तार में धन का निवेश करके विकास व रोजगार के सृजन को बढ़ाना ही प्रधानमंत्री मोदी जी का मकसद है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री जी द्वारा 1100 करोड़ रूपये की परियोजनाओं का लोकापर्ण व शिलान्यास 16 दिसंबर को किया जाएगा। रेल बोगियों को हरी झण्डी दिखाने के साथ ही मेट्रो के कोच, बुलेट ट्रेन कोच की भी बनाने की भी व्यवस्था केंद्र सरकार द्वारा की जानी है। विकास की दृष्टि से रायबरेली और उसके ईद-गिर्द जनपद व प्रदेश तथा देश के लिए बड़ी उपलब्धि होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि पांच राज्यों के विधानसभा के चुनाव के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का प्रदेश में पहला कार्यक्रम रायबरेली में भव्य तरीके से किया जा रहा है।.
    Close
    हर साल बनेंगे पांच हजार रेल कोच : सीएम
    हिन्दुस्तान 14/12/2018
    लालगंज रेल कोच फैक्ट्री का निरीक्षण करने पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को पदाधिकारियों और रेल कोच तथा जिला प्रशासन और शासन के अफसरों के साथ बैठक की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि रेल कोच फैक्ट्री में सालाना पांच सौ कोच बन रहे है। इसकी क्षमता को बढ़ाकर पांच हजार रेल कोच प्रतिवर्ष करना है। क्षमता विस्तार में धन का निवेश करके विकास व रोजगार के सृजन को बढ़ाना ही प्रधानमंत्री मोदी जी का मकसद है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री जी द्वारा 1100 करोड़ रूपये की परियोजनाओं का लोकापर्ण व शिलान्यास 16 दिसंबर को किया जाएगा। रेल बोगियों को हरी झण्डी दिखाने के साथ ही मेट्रो के कोच, बुलेट ट्रेन कोच की भी बनाने की भी व्यवस्था केंद्र सरकार द्वारा की जानी है। विकास की दृष्टि से रायबरेली और उसके ईद-गिर्द जनपद व प्रदेश तथा देश के लिए बड़ी उपलब्धि होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि पांच राज्यों के विधानसभा के चुनाव के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का प्रदेश में पहला कार्यक्रम रायबरेली में भव्य तरीके से किया जा रहा है।.


  • राष्ट्रीय सहारा : 13/12/2018 सहारा न्यूज ब्यूरो, लखनऊ।प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नेपाल के जनकपुर में ‘‘राम जानकी विवाह पंचमी’ कार्यक्रम में कहा कि भारत सरकार के दिशा-निर्देशन में मेरी सरकार नेपाल की संघीय तथा प्राविन्स-2 की सरकार के साथ कार्य करने को प्रतिबद्ध है।मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं नेपाल के नवसृजित राज्य प्रोविन्स-2 और इसके निवासियों को हार्दिक बधाई देता हूं। मेरी कामना है कि अपनी आर्थिक समृद्धि से भी नेपाल में आप एक विशेष प्रदेश के रूप में जाने जायें। उन्होंने कहा कि आपके राज्य द्वारा उत्तर प्रदेश से मांगे गये सहयोग और समर्थन को हरसंभव पूरा किया जायेगा, क्योंकि मां जानकी की जन्मभूमि जनकपुर एवं भगवान श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या का अटूट संबंध है। श्री योगी ने कहा कि हमारे नजदीकी संबंधों को और मजबूत करने तथा जनता की खुशहाली के लिए हमारी सरकार प्रतिबद्ध है।श्री योगी ने कहा कि मिथिला और अवध (अयोध्या) दोनों प्राचीन संस्कृतियां हैं। इनमें सांस्कृतिक पर्यटन की संभावनाएं हैं। हम इस अवसर का लाभ उठाते हुए बड़ी कार्य योजनाएं बनायेंगे, जिससे मिथिला और अवध के सांस्कृतिक पर्यटन के विकास के साथ ही रोजगार के अवसर विकसित हों। जनकपुर और अयोध्या का धार्मिक महत्व सम्पूर्ण विश्व में है। इन दोनों स्थानों के धार्मिक स्थलों का सौन्दर्यीकरण किया जा सकता है। इससे पूरी दुनिया के लोग जनकपुर आयेंगे और अयोध्या जायेंगे। अयोध्या का समग्र विकास हमारी प्राथमिकताओं में शामिल है।मुख्यमंत्री ने कहा कि जनकपुर में पर्यटन को बढ़ावा देकर आर्थिक विकास किया जा सकता है। जनकपुर और अयोध्या के मध्य सम्पर्क को प्रोत्साहित किया जा सकता है। इसी क्रम में यूपी सरकार द्वारा राम जानकी मार्ग के माध्यम से अयोध्या से जनकपुर को जोड़े जाने का कार्य शुरू किया गया है। इस नये मार्ग से अयोध्या और जनकपुर के बीच दूरी काफी कम हो जायेगी। उन्होंने कहा कि भारत और नेपाल के बीच पर्यटन सेक्टर की संभावनाओं का सदुपयोग करने के लिए रामायण तथा बुद्धिस्ट सर्किट के विकास पर सक्रियता से कार्य होगा। यही नहीं अयोध्या-जनकपुर तथा वाराणसी-काठमाण्डू के मध्य ‘‘सिस्टर सिटी’ समझौता हस्ताक्षरित हो जाने से इस दिशा में शुरुआती कदम उठाये गये हैं। इन नगरों को अंतरराष्ट्रीय पर्यटन मानचित्र पर लाने के लिए भी काफी कार्य किया जाना शेष है।श्री योगी ने कहा कि नेपाल राष्ट्र और वहां की जनता से शिवावतार महायोगी गुरु गोरखनाथ का भी निकट संबंध था। गोरखनाथ मन्दिर में सम्पन्न होने वाले खिचड़ी मेले में आज भी नेपाल वासियों द्वारा खिचड़ी चढ़ायी जाती है। भारत और नेपाल का संबंध ही ऐसा है कि हम एक साझी नियति से जुड़े हुए हैं। हमारे देशों की खुली सीमाएं हमारे मजबूत संबंध के आधार हैं। जिसमें सरहद के दोनों तरफ के निवासी एक साझी सभ्यता के सहभागी हैं। वर्तमान में नेपाल सुशासन और समावेशी विकास आधारित सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन के नये दौर में प्रवेश कर रहा है। इसके पूर्व जनकपुर में योगी का भव्य स्वागत किया गया। योगी ने नेपालवासियों प्रयाग कुम्भ-2019 में आमंत्रित किया है। इस अवसर पर नेपाल प्राविन्स-2 के गर्वनर रत्नेश्वरलाल कायस्थ, नेपाल के संस्कृति व पर्यटन मंत्री रविन्द्र प्रसाद अधिकारी, प्राविन्स-2 के मुख्यमंत्री लाल बाबू राउत गद्दी, जनकपुर के मेयर लालकिशोर शाह के अलावा यूपी के चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं पर्यटन अवनीश कुमार अवस्थी समेत तमाम गण्यमान्य उपस्थित थे।
    Close
    यूपी नेपाल सरकार के साथ कार्य करने को प्रतिबद्ध : योगी
    राष्ट्रीय सहारा 13/12/2018
    सहारा न्यूज ब्यूरो, लखनऊ।प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नेपाल के जनकपुर में ‘‘राम जानकी विवाह पंचमी’ कार्यक्रम में कहा कि भारत सरकार के दिशा-निर्देशन में मेरी सरकार नेपाल की संघीय तथा प्राविन्स-2 की सरकार के साथ कार्य करने को प्रतिबद्ध है।मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं नेपाल के नवसृजित राज्य प्रोविन्स-2 और इसके निवासियों को हार्दिक बधाई देता हूं। मेरी कामना है कि अपनी आर्थिक समृद्धि से भी नेपाल में आप एक विशेष प्रदेश के रूप में जाने जायें। उन्होंने कहा कि आपके राज्य द्वारा उत्तर प्रदेश से मांगे गये सहयोग और समर्थन को हरसंभव पूरा किया जायेगा, क्योंकि मां जानकी की जन्मभूमि जनकपुर एवं भगवान श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या का अटूट संबंध है। श्री योगी ने कहा कि हमारे नजदीकी संबंधों को और मजबूत करने तथा जनता की खुशहाली के लिए हमारी सरकार प्रतिबद्ध है।श्री योगी ने कहा कि मिथिला और अवध (अयोध्या) दोनों प्राचीन संस्कृतियां हैं। इनमें सांस्कृतिक पर्यटन की संभावनाएं हैं। हम इस अवसर का लाभ उठाते हुए बड़ी कार्य योजनाएं बनायेंगे, जिससे मिथिला और अवध के सांस्कृतिक पर्यटन के विकास के साथ ही रोजगार के अवसर विकसित हों। जनकपुर और अयोध्या का धार्मिक महत्व सम्पूर्ण विश्व में है। इन दोनों स्थानों के धार्मिक स्थलों का सौन्दर्यीकरण किया जा सकता है। इससे पूरी दुनिया के लोग जनकपुर आयेंगे और अयोध्या जायेंगे। अयोध्या का समग्र विकास हमारी प्राथमिकताओं में शामिल है।मुख्यमंत्री ने कहा कि जनकपुर में पर्यटन को बढ़ावा देकर आर्थिक विकास किया जा सकता है। जनकपुर और अयोध्या के मध्य सम्पर्क को प्रोत्साहित किया जा सकता है। इसी क्रम में यूपी सरकार द्वारा राम जानकी मार्ग के माध्यम से अयोध्या से जनकपुर को जोड़े जाने का कार्य शुरू किया गया है। इस नये मार्ग से अयोध्या और जनकपुर के बीच दूरी काफी कम हो जायेगी। उन्होंने कहा कि भारत और नेपाल के बीच पर्यटन सेक्टर की संभावनाओं का सदुपयोग करने के लिए रामायण तथा बुद्धिस्ट सर्किट के विकास पर सक्रियता से कार्य होगा। यही नहीं अयोध्या-जनकपुर तथा वाराणसी-काठमाण्डू के मध्य ‘‘सिस्टर सिटी’ समझौता हस्ताक्षरित हो जाने से इस दिशा में शुरुआती कदम उठाये गये हैं। इन नगरों को अंतरराष्ट्रीय पर्यटन मानचित्र पर लाने के लिए भी काफी कार्य किया जाना शेष है।श्री योगी ने कहा कि नेपाल राष्ट्र और वहां की जनता से शिवावतार महायोगी गुरु गोरखनाथ का भी निकट संबंध था। गोरखनाथ मन्दिर में सम्पन्न होने वाले खिचड़ी मेले में आज भी नेपाल वासियों द्वारा खिचड़ी चढ़ायी जाती है। भारत और नेपाल का संबंध ही ऐसा है कि हम एक साझी नियति से जुड़े हुए हैं। हमारे देशों की खुली सीमाएं हमारे मजबूत संबंध के आधार हैं। जिसमें सरहद के दोनों तरफ के निवासी एक साझी सभ्यता के सहभागी हैं। वर्तमान में नेपाल सुशासन और समावेशी विकास आधारित सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन के नये दौर में प्रवेश कर रहा है। इसके पूर्व जनकपुर में योगी का भव्य स्वागत किया गया। योगी ने नेपालवासियों प्रयाग कुम्भ-2019 में आमंत्रित किया है। इस अवसर पर नेपाल प्राविन्स-2 के गर्वनर रत्नेश्वरलाल कायस्थ, नेपाल के संस्कृति व पर्यटन मंत्री रविन्द्र प्रसाद अधिकारी, प्राविन्स-2 के मुख्यमंत्री लाल बाबू राउत गद्दी, जनकपुर के मेयर लालकिशोर शाह के अलावा यूपी के चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं पर्यटन अवनीश कुमार अवस्थी समेत तमाम गण्यमान्य उपस्थित थे।


  • दैनिक जागरण : 12/12/2018 राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि खेतीबाड़ी की योजनाओं का लाभ किसानों को मिले, इसके लिए विभाग हर किसान का अनिवार्य रूप से पंजीकरण कराए। ऐसा हो गया तो उप्र के किसान चमत्कार कर सकते हैं। सर्वाधिक उर्वर भूमि, भरपूर पानी और मानव संसाधन के जरिये वह पूरी दुनिया का पेट भर सकता है। बस विभाग पंजीकरण के जरिये व्यवस्था को पारदर्शी बना दे, जिससे किसानों के अनुदान का पैसा सीधे उनके खाते में पहुंचे, उनको तकनीक से जोड़े और समय से गुणवत्ता के कृषि निवेश उपलब्ध कराए। मंगलवार को यहां ‘मिलेनियम फार्मर्स स्कूल’ के उद्घाटन कार्यक्रम में योगी ने कहा कि केंद्र एवं प्रदेश की सरकारों ने किसानों के हित में बहुत कुछ किया है। गन्ना, गेहूं और धान की रिकार्ड खरीद और बिक्री, किसानों की मांग के अनुसार न्यूनतम समर्थन मूल्य की घोषणा आदि इसके प्रमाण हैं। इसके नतीजे भी दिख रहे हैं। प्रदेश की कृषि विकास दर 18 वें से तीसरे स्थान पर आ गई है। किसानों को जीरो बजट खेती के बारे में बताएं : योगी ने कहा कि अब भी बहुत कुछ करना है। कृषि विज्ञान केंद्र क्या करेंगे? विभाग इसका लक्ष्य तय करें। पानी के दक्ष और नियोजित प्रबंधन के लिए किसानों को जागरूक करें। बिना पर्यावरण को क्षति पहुंचाए न्यूनतम लागत में अधिकतम उत्पादन के लिए किसानों को ‘जीरो बजट’ खेती के बारे में बताएं। पराली बढ़ाएगी किसानों की आय : मुख्यमंत्री ने कहा कि अब पराली किसानों के लिए समस्या नहीं अतिरिक्त आय का जरिया बनेगी। इससे जैव ईंधन तैयार होगा। पहले चरण में इसके लिए सीतापुर और गोरखपुर का चयन किया गया है। सीतापुर में तो काम भी शुरू हो गया है। अगले चरण में और जगहों पर भी पराली से इसकी इकाइयां लगेंगी।
    Close
    हर किसान का अनिवार्य रूप से कराएं पंजीकरण : योगी
    दैनिक जागरण 12/12/2018
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि खेतीबाड़ी की योजनाओं का लाभ किसानों को मिले, इसके लिए विभाग हर किसान का अनिवार्य रूप से पंजीकरण कराए। ऐसा हो गया तो उप्र के किसान चमत्कार कर सकते हैं। सर्वाधिक उर्वर भूमि, भरपूर पानी और मानव संसाधन के जरिये वह पूरी दुनिया का पेट भर सकता है। बस विभाग पंजीकरण के जरिये व्यवस्था को पारदर्शी बना दे, जिससे किसानों के अनुदान का पैसा सीधे उनके खाते में पहुंचे, उनको तकनीक से जोड़े और समय से गुणवत्ता के कृषि निवेश उपलब्ध कराए। मंगलवार को यहां ‘मिलेनियम फार्मर्स स्कूल’ के उद्घाटन कार्यक्रम में योगी ने कहा कि केंद्र एवं प्रदेश की सरकारों ने किसानों के हित में बहुत कुछ किया है। गन्ना, गेहूं और धान की रिकार्ड खरीद और बिक्री, किसानों की मांग के अनुसार न्यूनतम समर्थन मूल्य की घोषणा आदि इसके प्रमाण हैं। इसके नतीजे भी दिख रहे हैं। प्रदेश की कृषि विकास दर 18 वें से तीसरे स्थान पर आ गई है। किसानों को जीरो बजट खेती के बारे में बताएं : योगी ने कहा कि अब भी बहुत कुछ करना है। कृषि विज्ञान केंद्र क्या करेंगे? विभाग इसका लक्ष्य तय करें। पानी के दक्ष और नियोजित प्रबंधन के लिए किसानों को जागरूक करें। बिना पर्यावरण को क्षति पहुंचाए न्यूनतम लागत में अधिकतम उत्पादन के लिए किसानों को ‘जीरो बजट’ खेती के बारे में बताएं। पराली बढ़ाएगी किसानों की आय : मुख्यमंत्री ने कहा कि अब पराली किसानों के लिए समस्या नहीं अतिरिक्त आय का जरिया बनेगी। इससे जैव ईंधन तैयार होगा। पहले चरण में इसके लिए सीतापुर और गोरखपुर का चयन किया गया है। सीतापुर में तो काम भी शुरू हो गया है। अगले चरण में और जगहों पर भी पराली से इसकी इकाइयां लगेंगी।


  • हिन्दुस्तान : 11/12/2018 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद राष्ट्र निर्माण का अभियान चला रही है। जब देश गुलाम था तो समाज की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ ने 1932 में महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद की स्थापना की थी। सीएम ने कहा कि परिषद ने पूर्वी उत्तर प्रदेश में शैक्षिक जागरूकता का वृहद अभियान अपने हाथों में लिया था। आज चार दर्जन से अधिक शिक्षण संस्थाएं हैं। राष्ट्रपति का मार्गदर्शन मिलेगा तो यहां पढ़ने वाले 50 हजार से अधिक छात्र-छात्राएं, शिक्षक-शिक्षिकाएं समाज व राष्ट्र निर्माण में अपना अमूल्य योगदान दे सकेंगे। योगी ने शिक्षा के क्षेत्र में संस्था के योगदान और राज्यपाल राम नाईक के सहयोग का जिक्र करते हुए बताया कि गोरखपुर विश्वविद्यालय का पहला नर्सिंग कॉलेज इस संस्था द्वारा संचालित है। सारी औपचारिकताओं के बाद भी चार साल से मान्यता की फाइल लटकी थी लेकिन राज्यपाल बनते ही राम नाईक ने मान्यता दे दी। आज की तारीख में सौ से अधिक छात्राएं प्रशिक्षु के रूप में वहां शिक्षा ले रही हैं।
    Close
    राष्ट्रनिर्माण का अभियान चला रही परिषद : सीएम
    हिन्दुस्तान 11/12/2018
    मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद राष्ट्र निर्माण का अभियान चला रही है। जब देश गुलाम था तो समाज की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ ने 1932 में महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद की स्थापना की थी। सीएम ने कहा कि परिषद ने पूर्वी उत्तर प्रदेश में शैक्षिक जागरूकता का वृहद अभियान अपने हाथों में लिया था। आज चार दर्जन से अधिक शिक्षण संस्थाएं हैं। राष्ट्रपति का मार्गदर्शन मिलेगा तो यहां पढ़ने वाले 50 हजार से अधिक छात्र-छात्राएं, शिक्षक-शिक्षिकाएं समाज व राष्ट्र निर्माण में अपना अमूल्य योगदान दे सकेंगे। योगी ने शिक्षा के क्षेत्र में संस्था के योगदान और राज्यपाल राम नाईक के सहयोग का जिक्र करते हुए बताया कि गोरखपुर विश्वविद्यालय का पहला नर्सिंग कॉलेज इस संस्था द्वारा संचालित है। सारी औपचारिकताओं के बाद भी चार साल से मान्यता की फाइल लटकी थी लेकिन राज्यपाल बनते ही राम नाईक ने मान्यता दे दी। आज की तारीख में सौ से अधिक छात्राएं प्रशिक्षु के रूप में वहां शिक्षा ले रही हैं।


  • राष्ट्रीय सहारा : 10/12/2018 सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की यात्रा पूर्वी उत्तर प्रदेश की वर्तमान व भावी पीढ़ी के लिए प्रेरणादाई होगी। उनका स्वागत करने के लिए लोग उत्सुक व उतावले हैं। सोमवार को महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद को भी उनका सानिध्य प्राप्त होगा। रविवार को दिन में लखनऊ से गोरखपुर पहुंचे मुख्यमंत्री ने पहले सर्किट हाउस जाकर तैयारियों का जायजा लिया। यहीं पर उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि उत्तर प्रदेश राष्ट्रपति की जन्म व कर्मस्थली है। मुख्यमंत्री ने कहा कि महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद की स्थापना महंत दिग्विजय नाथ ने वर्ष 1932 में किया था। शिक्षा परिषद द्वारा 4 दर्जन शिक्षण संस्थानों का संचालन किया जा रहा है। शिक्षा परिषद के संस्थापक सप्ताह समारोह के समापन अवसर पर राष्ट्रपति परिषद के शिक्षकों, पदाधिकारियों व विद्यार्थियों को संबोधित कर प्रेरित करेंगे। उन्होंने कहा कि सर्किट हाउस, एनेक्सी भवन सहित राष्ट्रपति के सभी प्रस्तावित कार्यक्रम स्थलों की पूरी तैयारी अल्प समय में प्रशासन ने पूरा किया है। सर्किट हाउस से मुख्यमंत्री गोरखनाथ मंदिर पहुंचे। यहां पर मुख्यमंत्री ने मंदिर में दर्शन-पूजन करने के बाद अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये। निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री के निजी सचिव, कार्यालय अध्यक्ष, मंडलायुक्त, जिलाधिकारी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।
    Close
    प्रेरणादायी होगी राष्ट्रपति की यात्रा
    राष्ट्रीय सहारा 10/12/2018
    सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की यात्रा पूर्वी उत्तर प्रदेश की वर्तमान व भावी पीढ़ी के लिए प्रेरणादाई होगी। उनका स्वागत करने के लिए लोग उत्सुक व उतावले हैं। सोमवार को महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद को भी उनका सानिध्य प्राप्त होगा। रविवार को दिन में लखनऊ से गोरखपुर पहुंचे मुख्यमंत्री ने पहले सर्किट हाउस जाकर तैयारियों का जायजा लिया। यहीं पर उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि उत्तर प्रदेश राष्ट्रपति की जन्म व कर्मस्थली है। मुख्यमंत्री ने कहा कि महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद की स्थापना महंत दिग्विजय नाथ ने वर्ष 1932 में किया था। शिक्षा परिषद द्वारा 4 दर्जन शिक्षण संस्थानों का संचालन किया जा रहा है। शिक्षा परिषद के संस्थापक सप्ताह समारोह के समापन अवसर पर राष्ट्रपति परिषद के शिक्षकों, पदाधिकारियों व विद्यार्थियों को संबोधित कर प्रेरित करेंगे। उन्होंने कहा कि सर्किट हाउस, एनेक्सी भवन सहित राष्ट्रपति के सभी प्रस्तावित कार्यक्रम स्थलों की पूरी तैयारी अल्प समय में प्रशासन ने पूरा किया है। सर्किट हाउस से मुख्यमंत्री गोरखनाथ मंदिर पहुंचे। यहां पर मुख्यमंत्री ने मंदिर में दर्शन-पूजन करने के बाद अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये। निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री के निजी सचिव, कार्यालय अध्यक्ष, मंडलायुक्त, जिलाधिकारी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।


  • दैनिक जागरण : 09/12/2018 जागरण संवाददाता, प्रयागराज : कुंभ के लगभग साढ़े तीन हजार करोड़ रुपये के स्थायी कार्यो का लोकार्पण करने के लिए 16 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आएंगे। पीएम के कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा के लिए शनिवार शाम प्रयागराज आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 15 दिसंबर तक सभी काम पूरे करने के निर्देश अफसरों को दिए। सर्किट हाउस में लगभग दो घंटे चली कुंभ के कार्यो की समीक्षा बैठक में सीएम योगी के तेवर सख्त दिखे। कहा कि अब लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। सड़कों, चौराहों, बिजली, स्वास्थ्य, आरओबी आदि के बचे स्थायी कार्य मैन पॉवर और वर्क ऑवर बढ़ाकर पूरे किए जाएं। यह भी कहा कि कुंभ के अस्थायी कार्य 30 दिसंबर तक पूरे हो जाएं बैठक के बाद मीडिया से मुखातिब सीएम योगी ने कहा कि केंद्र और प्रदेश सरकार कुंभ के आयोजन को लेकर पहले से ही जुटी है।
    Close
    15 तक पूरा करें कार्य, 16 को प्रयागराज आएंगे पीएम
    दैनिक जागरण 09/12/2018
    जागरण संवाददाता, प्रयागराज : कुंभ के लगभग साढ़े तीन हजार करोड़ रुपये के स्थायी कार्यो का लोकार्पण करने के लिए 16 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आएंगे। पीएम के कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा के लिए शनिवार शाम प्रयागराज आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 15 दिसंबर तक सभी काम पूरे करने के निर्देश अफसरों को दिए। सर्किट हाउस में लगभग दो घंटे चली कुंभ के कार्यो की समीक्षा बैठक में सीएम योगी के तेवर सख्त दिखे। कहा कि अब लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। सड़कों, चौराहों, बिजली, स्वास्थ्य, आरओबी आदि के बचे स्थायी कार्य मैन पॉवर और वर्क ऑवर बढ़ाकर पूरे किए जाएं। यह भी कहा कि कुंभ के अस्थायी कार्य 30 दिसंबर तक पूरे हो जाएं बैठक के बाद मीडिया से मुखातिब सीएम योगी ने कहा कि केंद्र और प्रदेश सरकार कुंभ के आयोजन को लेकर पहले से ही जुटी है।


  • हिन्दुस्तान : 08/12/2018 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि बुलंदशहर मामले में कोई भी दोषी नहीं बच पाएगा। यूपी में कहीं भी मॉब लिंचिंग नहीं है। बुलंदशहर की घटना एक दुर्घटना भर है। मुख्यमंत्री ने यह बात शुक्रवार को दिल्ली में एक समारोह में कही। उन्होंने कहा कि भीड़ द्वारा हत्या करने की कोई घटना उनके समय में नहीं घटी है। बुलंदशहर की घटना एक दुर्घटना है। मुख्यमंत्री राम मंदिर मामले पर भी खुल कर बोले। कहा कि सुप्रीम कोर्ट को राम मंदिर के मुद्दे पर जल्द फैसला देकर मामले का पटाक्षेप करना चाहिए। यह देश के विकास एवं सौहार्द के लिए जरूरी है। राम मंदिर निर्माण को करोड़ों भारतीयों की भावनाओं से जुड़ा बताते हुए उन्होंने कहा कि उनकी भी यह भावना है। अगर बात अकेले यूपी की होती तो हम 24 घंटे में यह मामला हल करा देते। तब कोई विवाद नहीं होता।
    Close
    बुलंदशहर की हिंसा मॉब लिंचिंग नहीं है : योगी
    हिन्दुस्तान 08/12/2018
    मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि बुलंदशहर मामले में कोई भी दोषी नहीं बच पाएगा। यूपी में कहीं भी मॉब लिंचिंग नहीं है। बुलंदशहर की घटना एक दुर्घटना भर है। मुख्यमंत्री ने यह बात शुक्रवार को दिल्ली में एक समारोह में कही। उन्होंने कहा कि भीड़ द्वारा हत्या करने की कोई घटना उनके समय में नहीं घटी है। बुलंदशहर की घटना एक दुर्घटना है। मुख्यमंत्री राम मंदिर मामले पर भी खुल कर बोले। कहा कि सुप्रीम कोर्ट को राम मंदिर के मुद्दे पर जल्द फैसला देकर मामले का पटाक्षेप करना चाहिए। यह देश के विकास एवं सौहार्द के लिए जरूरी है। राम मंदिर निर्माण को करोड़ों भारतीयों की भावनाओं से जुड़ा बताते हुए उन्होंने कहा कि उनकी भी यह भावना है। अगर बात अकेले यूपी की होती तो हम 24 घंटे में यह मामला हल करा देते। तब कोई विवाद नहीं होता।


  • दैनिक जागरण : 07/12/2018 राज्य ब्यूरो, लखनऊ : राज्यपाल राम नाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डॉ. भीमराव आंबेडकर के परिनिर्वाण दिवस पर गुरुवार को डॉ.आंबेडकर महासभा के कार्यालय पर उनको श्रद्धांजलि दी। अपने संबोधन में मुख्यमंत्री ने कहा कि सही अर्थो में भाजपा ही डॉ. आंबेडकर के सपनों को साकार कर रही है। बाकी दलों ने तो समय-समय पर अपने लाभ के लिए उनके नाम पर सिर्फ राजनीति की। योगी ने कहा कि सामाजिक समरसता डॉ.आंबेडकर का सपना था। भाजपा की हर बड़ी योजना के केंद्र में समाज का सबसे वंचित वर्ग ही है। इसी माह 3.5 करोड़ लोगों को मिलेंगे राशनकार्ड : योगी ने कहा कि दिसंबर में ही 3.5 करोड़ परिवारों को उनकी पात्रता के अनुसार राशनकार्ड मिल जाएंगे। कोटे की किसी भी दुकान से राशन खरीदने की छूट के कारण कोटेदारों की मनमानी रुकेगी। छात्रवृत्ति की दूसरी किस्त बच्चों के खाते में 26 जनवरी तक पहुंच जाएगी। विधवा, दिव्यांग और वृद्धा पेंशन की भी स्वीकृतियां दी जा चुकी हैं। एंटी भूमाफिया अभियान के तहत खाली होने वाली जमीन अगर आरक्षित श्रेणी की नहीं है तो उसका पट्टा वनटांगियां, कोल, मुसहर आदि जातियों को दिया जा रहा है। योगी ने कहा कि मैं चाहता हूं कि अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम दलित युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए हर जिले में कुछ ठोस काम करें।
    Close
    औरों ने आंबेडकर के नाम से सिर्फ राजनीति की : योगी
    दैनिक जागरण 07/12/2018
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ : राज्यपाल राम नाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डॉ. भीमराव आंबेडकर के परिनिर्वाण दिवस पर गुरुवार को डॉ.आंबेडकर महासभा के कार्यालय पर उनको श्रद्धांजलि दी। अपने संबोधन में मुख्यमंत्री ने कहा कि सही अर्थो में भाजपा ही डॉ. आंबेडकर के सपनों को साकार कर रही है। बाकी दलों ने तो समय-समय पर अपने लाभ के लिए उनके नाम पर सिर्फ राजनीति की। योगी ने कहा कि सामाजिक समरसता डॉ.आंबेडकर का सपना था। भाजपा की हर बड़ी योजना के केंद्र में समाज का सबसे वंचित वर्ग ही है। इसी माह 3.5 करोड़ लोगों को मिलेंगे राशनकार्ड : योगी ने कहा कि दिसंबर में ही 3.5 करोड़ परिवारों को उनकी पात्रता के अनुसार राशनकार्ड मिल जाएंगे। कोटे की किसी भी दुकान से राशन खरीदने की छूट के कारण कोटेदारों की मनमानी रुकेगी। छात्रवृत्ति की दूसरी किस्त बच्चों के खाते में 26 जनवरी तक पहुंच जाएगी। विधवा, दिव्यांग और वृद्धा पेंशन की भी स्वीकृतियां दी जा चुकी हैं। एंटी भूमाफिया अभियान के तहत खाली होने वाली जमीन अगर आरक्षित श्रेणी की नहीं है तो उसका पट्टा वनटांगियां, कोल, मुसहर आदि जातियों को दिया जा रहा है। योगी ने कहा कि मैं चाहता हूं कि अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम दलित युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए हर जिले में कुछ ठोस काम करें।


  • राष्ट्रीय सहारा : 06/12/2018 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कहा कि देश में नक्सलवाद की समस्या एवं आईएसआई की गतिविधियों से केवल भाजपा मजबूती से निपट सकती है और प्रत्येक नागरिक की सुरक्षा सुनिश्चित कर सकती है। चुनाव वाले राज्य तेलंगाना में एक रैली में उन्होंने कहा, प्रत्येक नागरिक की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए भाजपा नक्सलवाद की समस्या को सुलझा सकती है और आईएसआई की भारत विरोधी गतिविधियों के खिलाफ सख्ती से पेश आ सकती है। आदित्यनाथ ने कहा कि हजारों साल पहले भगवान राम ने यही काम किया था और एक सुरक्षित समाज सुनिश्चित किया था जो ‘‘राक्षसी आतंक’ के खतरे से मुक्त था और एक ऐसा समाज था जो किसी के साथ भेदभाव नहीं करता था, जहां हर कोई सुरक्षित महसूस करता था । उन्होंने कहा कि ‘‘आज की तारीख में केवल भाजपा ही ऐसा कर सकती है।’ उन्होंने के चंद्रशेखर राव नीत सरकार पर तेलंगाना के लोगों के साथ पिछले चाढ़े चार सालों से धोखा करने का आरोप लगाया। साथ ही उन्होंने कहा कि उनका (अविभाजित आंध्र प्रदेश) पहले कांग्रेस और फिर तेलुगू देश पार्टी (तेदेपा) ने ‘‘शोषण’ किया। आदित्यनाथ ने लोगों से कहा, केसीआर और टीआरएस ने तेलंगाना के लिए कुछ नहीं किया और इसी तरह कांग्रेस-तेदेपा का गठबंधन भी आपके शोषण के लिए ही बना है, आपके पास एकमात्र विकल्प के रूप में भाजपा बची है। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस, तेदेपा और टीआरएस अभी भी ‘‘निजामशाही की गुलामी’ के तहत पड़ी हुई है और परिवारवाद पर अमल कर रही है। उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस, तेदेपा और टीआरएस के चुनावी घोषणापत्र में सत्ता में आने पर मुस्लिम इलाकों में विकास कार्य करने की बात कही गई है। आदित्यनाथ ने कहा, भारतीय संविधान धर्म के नाम पर समाज को बांटने की इजाजत नहीं देता। समाज के हर वर्ग का संसाधनों पर अधिकार होना चाहिए न कि सिर्फ मुसलमानों का.भाजपा विकास के साथ-साथ लोगों को एकजुट करने का काम करती है।’ उन्होंने तेदेपा, टीआरएस और कांग्रेस को वंशवादी पार्टियां बताया और दावा किया कि भाजपा इस तरह से काम नहीं करती।
    Close
    नक्सलियों व आईएसआई से केवल भाजपा निपट सकती है
    राष्ट्रीय सहारा 06/12/2018
    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कहा कि देश में नक्सलवाद की समस्या एवं आईएसआई की गतिविधियों से केवल भाजपा मजबूती से निपट सकती है और प्रत्येक नागरिक की सुरक्षा सुनिश्चित कर सकती है। चुनाव वाले राज्य तेलंगाना में एक रैली में उन्होंने कहा, प्रत्येक नागरिक की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए भाजपा नक्सलवाद की समस्या को सुलझा सकती है और आईएसआई की भारत विरोधी गतिविधियों के खिलाफ सख्ती से पेश आ सकती है। आदित्यनाथ ने कहा कि हजारों साल पहले भगवान राम ने यही काम किया था और एक सुरक्षित समाज सुनिश्चित किया था जो ‘‘राक्षसी आतंक’ के खतरे से मुक्त था और एक ऐसा समाज था जो किसी के साथ भेदभाव नहीं करता था, जहां हर कोई सुरक्षित महसूस करता था । उन्होंने कहा कि ‘‘आज की तारीख में केवल भाजपा ही ऐसा कर सकती है।’ उन्होंने के चंद्रशेखर राव नीत सरकार पर तेलंगाना के लोगों के साथ पिछले चाढ़े चार सालों से धोखा करने का आरोप लगाया। साथ ही उन्होंने कहा कि उनका (अविभाजित आंध्र प्रदेश) पहले कांग्रेस और फिर तेलुगू देश पार्टी (तेदेपा) ने ‘‘शोषण’ किया। आदित्यनाथ ने लोगों से कहा, केसीआर और टीआरएस ने तेलंगाना के लिए कुछ नहीं किया और इसी तरह कांग्रेस-तेदेपा का गठबंधन भी आपके शोषण के लिए ही बना है, आपके पास एकमात्र विकल्प के रूप में भाजपा बची है। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस, तेदेपा और टीआरएस अभी भी ‘‘निजामशाही की गुलामी’ के तहत पड़ी हुई है और परिवारवाद पर अमल कर रही है। उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस, तेदेपा और टीआरएस के चुनावी घोषणापत्र में सत्ता में आने पर मुस्लिम इलाकों में विकास कार्य करने की बात कही गई है। आदित्यनाथ ने कहा, भारतीय संविधान धर्म के नाम पर समाज को बांटने की इजाजत नहीं देता। समाज के हर वर्ग का संसाधनों पर अधिकार होना चाहिए न कि सिर्फ मुसलमानों का.भाजपा विकास के साथ-साथ लोगों को एकजुट करने का काम करती है।’ उन्होंने तेदेपा, टीआरएस और कांग्रेस को वंशवादी पार्टियां बताया और दावा किया कि भाजपा इस तरह से काम नहीं करती।


  • दैनिक जागरण : 05/12/2018 राज्य ब्यूरो, लखनऊ : बुलंदशहर कांड व लखनऊ में भाजपा नेता प्रत्यूष मणि त्रिपाठी की हत्या को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार रात कड़ी नाराजगी जताई। योगी ने कहा कि बुलंदशहर की घटना की पूरी गंभीरता से जांच कर गोकशी में संलिप्त सभी आरोपितों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए। यह घटना एक बड़े षड्यंत्र का हिस्सा है। लिहाजा गोकशी से प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े सभी आरोपितों को जल्द गिरफ्तार किया जाये। योगी ने कहा कि अवैध स्लॉटर हाउस संचालित होने पर डीएम-एसपी की सामूहिक जिम्मेदारी होगी और उनके खिलाफ कठोर कार्यवाही होगी। माना जा रहा है कि बुलंदशहर कांड में एसआइटी की जांच रिपोर्ट आने पर मुख्यमंत्री कड़ी कार्रवाई कर सकते हैं। मुख्यमंत्री ने इसके अलावा लखनऊ में भाजपा नेता प्रत्यूष मणि त्रिपाठी हत्याकांड में अब तक की गई कार्रवाई का भी ब्योरा पूछा। उन्होंने प्रत्यूष मणि के परिवारीजन को दस लाख रुपये आर्थिक सहायता दिये जाने के साथ ही आरोपितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का अल्टीमेटम दिया है। इसके अलावा बुलंदशहर में हुए बलवे के दौरान मारे गये सुमित के परिवारीजन को भी दस लाख रुपये आर्थिक सहायता प्रदान किये जाने की घोषणा की। गोरखपुर से वापस आने के बाद मुख्यमंत्री ने सोमवार रात करीब 10 बजे मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय, प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार, डीजीपी ओपी सिंह, एडीजी इंटेलीजेंस समेत अन्य अधिकारियों को तलब कर करीब दो घंटे तक कानून-व्यवस्था को लेकर समीक्षा बैठक की। मुख्यमंत्री ने संगीन घटनाओं को लेकर कड़ी नाराजगी जताते हुए उनमें की गई कार्रवाई के बारे में सिलसिलेवार जानकारी ली। गाजियाबाद व बरेली में हुई हत्या की घटनाओं के बारे में भी जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने कहा कि 19 मार्च 2017 से प्रदेश में अवैध स्लॉटर हाउस का संचालन बंद कर दिया गया है। बुलंदशहर की घटना के परिपेक्ष्य में योगी ने कहा कि सभी डीएम-एसपी देखें कि ऐसे अवैध कार्य न हों।
    Close
    बुलंदशहर कांड षड्यंत्र का हिस्सा : योगी
    दैनिक जागरण 05/12/2018
    राज्य ब्यूरो, लखनऊ : बुलंदशहर कांड व लखनऊ में भाजपा नेता प्रत्यूष मणि त्रिपाठी की हत्या को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार रात कड़ी नाराजगी जताई। योगी ने कहा कि बुलंदशहर की घटना की पूरी गंभीरता से जांच कर गोकशी में संलिप्त सभी आरोपितों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए। यह घटना एक बड़े षड्यंत्र का हिस्सा है। लिहाजा गोकशी से प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े सभी आरोपितों को जल्द गिरफ्तार किया जाये। योगी ने कहा कि अवैध स्लॉटर हाउस संचालित होने पर डीएम-एसपी की सामूहिक जिम्मेदारी होगी और उनके खिलाफ कठोर कार्यवाही होगी। माना जा रहा है कि बुलंदशहर कांड में एसआइटी की जांच रिपोर्ट आने पर मुख्यमंत्री कड़ी कार्रवाई कर सकते हैं। मुख्यमंत्री ने इसके अलावा लखनऊ में भाजपा नेता प्रत्यूष मणि त्रिपाठी हत्याकांड में अब तक की गई कार्रवाई का भी ब्योरा पूछा। उन्होंने प्रत्यूष मणि के परिवारीजन को दस लाख रुपये आर्थिक सहायता दिये जाने के साथ ही आरोपितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का अल्टीमेटम दिया है। इसके अलावा बुलंदशहर में हुए बलवे के दौरान मारे गये सुमित के परिवारीजन को भी दस लाख रुपये आर्थिक सहायता प्रदान किये जाने की घोषणा की। गोरखपुर से वापस आने के बाद मुख्यमंत्री ने सोमवार रात करीब 10 बजे मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय, प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार, डीजीपी ओपी सिंह, एडीजी इंटेलीजेंस समेत अन्य अधिकारियों को तलब कर करीब दो घंटे तक कानून-व्यवस्था को लेकर समीक्षा बैठक की। मुख्यमंत्री ने संगीन घटनाओं को लेकर कड़ी नाराजगी जताते हुए उनमें की गई कार्रवाई के बारे में सिलसिलेवार जानकारी ली। गाजियाबाद व बरेली में हुई हत्या की घटनाओं के बारे में भी जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने कहा कि 19 मार्च 2017 से प्रदेश में अवैध स्लॉटर हाउस का संचालन बंद कर दिया गया है। बुलंदशहर की घटना के परिपेक्ष्य में योगी ने कहा कि सभी डीएम-एसपी देखें कि ऐसे अवैध कार्य न हों।


  • हिन्दुस्तान : 04/12/2018 लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह और चिंगरावठी गांव निवासी सुमित की मौत पर गहरा दु:ख व्यक्त किया है। उन्होंने हिंसा की जांच रिपोर्ट में घटना के कारणों तथा दोषी व्यक्तियों का विवरण भी शामिल करने का निर्देश दिया है। सीएम ने कहा कि जांच रिपोर्ट मिलते होते ही राज्य सरकार दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई तथा प्रभावितों को आर्थिक मदद देने के संबंध में निर्णय लेगी। उधर, पूरी घटना की जांच के लिए एडीजी इंटेलीजेंस एसबी शिरडकर को भेजा गया है। उनसे 48 घंटे में गोपनीय जांच रिपोर्ट देने को कहा गया है।
    Close
    रिपोर्ट आते ही दोषियों पर कड़ी कार्रवाई होगी : योगी
    हिन्दुस्तान 04/12/2018
    लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह और चिंगरावठी गांव निवासी सुमित की मौत पर गहरा दु:ख व्यक्त किया है। उन्होंने हिंसा की जांच रिपोर्ट में घटना के कारणों तथा दोषी व्यक्तियों का विवरण भी शामिल करने का निर्देश दिया है। सीएम ने कहा कि जांच रिपोर्ट मिलते होते ही राज्य सरकार दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई तथा प्रभावितों को आर्थिक मदद देने के संबंध में निर्णय लेगी। उधर, पूरी घटना की जांच के लिए एडीजी इंटेलीजेंस एसबी शिरडकर को भेजा गया है। उनसे 48 घंटे में गोपनीय जांच रिपोर्ट देने को कहा गया है।


  • राष्ट्रीय सहारा : 03/12/2018 प्रयागराज (एसएनबी)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सनातन धर्म की संस्कृति चराचर जगत के कल्याण का मार्ग प्रशस्त करने की प्रेरणा प्रदान करती है। परन्तु जिसे धर्म के मर्म की जानकारी नहीं है, वे सिर्फ बाल की खाल निकालने का ही काम करते हैं। प्रयाग का कुंभ सभी के लिए प्रेरणादायी हो, यह संदेश देश और दुनिया को दिया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने त्रिवेणी बांध स्थित श्री आदि शंकर विमान मण्डपम् के कुम्भाभिषेक के समापन समारोह में अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रयागराज में कुम्भ से पहले इस तरह का आयोजन होना बहुत ही शुभ लक्षण है। कुंभ भारत की सनातन परम्परा तथा मानव कल्याण का एक सबसे बड़ा आध्यात्मिक एवं सांस्कृतिक परम्परा का आयोजन है। उन्होंने कांची कोटि पीठ की सराहना करते कहा कि इस पीठ ने सांस्कृतिक परम्परा को एक ऊंचाई दी। समारोह में संयोजक राकेशशुक्ला ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए उन्हें अंगवस्त्रम तथा प्रयागराज में पवित्र नदियों के संगम को दर्शाने वाला चित्र भी भेंट किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता काशी हिन्दू विविद्यालय के कुलाधिपति व अवकाश प्राप्त न्यायमूर्ति गिरधर मालवीय ने की। समारोह में जगद्गुरु स्वामी हंसदेवाचार्य ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी सांस्कृतिक विरासत को पुनर्जीवित करने का काम कर रहे हैं। इस अवसर पर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता ‘‘नंदी’, स्वामी रामानंदाचार्य, निर्मल पंचायती अखाड़े के सचिव देवेंद्र सिंह शास्त्री, महानिर्वाणी के महंत रवींद्र पुरी, महामण्डलेश्वर स्वामी संतोषदास, प्रंबध समिति के सदस्य सीआर राजेंद्रन समेत जिले के जनप्रतिनिधि, वरिष्ठ अधिकारी व गणमान्य लोग उपस्थित रहे।
    Close
    जो धर्म का मर्म नहीं समझते वो सिर्फ बाल की खाल निकालते
    राष्ट्रीय सहारा 03/12/2018
    प्रयागराज (एसएनबी)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सनातन धर्म की संस्कृति चराचर जगत के कल्याण का मार्ग प्रशस्त करने की प्रेरणा प्रदान करती है। परन्तु जिसे धर्म के मर्म की जानकारी नहीं है, वे सिर्फ बाल की खाल निकालने का ही काम करते हैं। प्रयाग का कुंभ सभी के लिए प्रेरणादायी हो, यह संदेश देश और दुनिया को दिया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने त्रिवेणी बांध स्थित श्री आदि शंकर विमान मण्डपम् के कुम्भाभिषेक के समापन समारोह में अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रयागराज में कुम्भ से पहले इस तरह का आयोजन होना बहुत ही शुभ लक्षण है। कुंभ भारत की सनातन परम्परा तथा मानव कल्याण का एक सबसे बड़ा आध्यात्मिक एवं सांस्कृतिक परम्परा का आयोजन है। उन्होंने कांची कोटि पीठ की सराहना करते कहा कि इस पीठ ने सांस्कृतिक परम्परा को एक ऊंचाई दी। समारोह में संयोजक राकेशशुक्ला ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए उन्हें अंगवस्त्रम तथा प्रयागराज में पवित्र नदियों के संगम को दर्शाने वाला चित्र भी भेंट किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता काशी हिन्दू विविद्यालय के कुलाधिपति व अवकाश प्राप्त न्यायमूर्ति गिरधर मालवीय ने की। समारोह में जगद्गुरु स्वामी हंसदेवाचार्य ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी सांस्कृतिक विरासत को पुनर्जीवित करने का काम कर रहे हैं। इस अवसर पर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता ‘‘नंदी’, स्वामी रामानंदाचार्य, निर्मल पंचायती अखाड़े के सचिव देवेंद्र सिंह शास्त्री, महानिर्वाणी के महंत रवींद्र पुरी, महामण्डलेश्वर स्वामी संतोषदास, प्रंबध समिति के सदस्य सीआर राजेंद्रन समेत जिले के जनप्रतिनिधि, वरिष्ठ अधिकारी व गणमान्य लोग उपस्थित रहे।


  • हिन्दुस्तान : 02/12/2018 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा कि सफाई के प्रति लोगों में जागरूकता आई है मगर उतनी नहीं जितनी उम्मीद की जा रही थी। जरा सी झिझक है, जिसे उतार फेंकने की जरूरत है। झिझक ही हमें पहल नहीं करने देती। लोगों की यह छोटी सी झिझक ही स्वच्छता अभियान में बड़ी बाधा है। पीएम मोदी की तारीफ : सीएम ने ये बातें गोरखपुर विश्वविद्यालय में स्वच्छता रैली को हरी झंडी दिखाकर रवाना करने के दौरान कहीं। उन्होंने कहा कि जो शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी वह अब आंदोलन बन चुका है। स्वच्छता को अपनाकर हम सभी पूरे समाज को स्वच्छ कर सकते हैं। स्वच्छ सर्वेक्षण 2019 में जनजागरूकता व जनसहभागिता बढ़ाने के उद्देश्य से आयोजित विशेष स्वच्छता रैली में उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि वे मिशन का हिस्सा बनें तथा लोगों को भी जागरूक करें। उन्होंने कहा कि स्वच्छता के महत्व को पूर्वांचल, खास कर गोरखपुर के लोगों से बेहतर कौन समझ सकता है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के कारण तस्वीर बदली है। लोगों में जागरूकता आई है और सफाई में बढ़ोतरी हुई है। जो गदंगी बची है वह केवल झिझक के कारण है।
    Close
    उतार फेंकिए सफाई को लेकर झिझक,बदल जाएगी तस्वीर : योगी
    हिन्दुस्तान 02/12/2018
    मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा कि सफाई के प्रति लोगों में जागरूकता आई है मगर उतनी नहीं जितनी उम्मीद की जा रही थी। जरा सी झिझक है, जिसे उतार फेंकने की जरूरत है। झिझक ही हमें पहल नहीं करने देती। लोगों की यह छोटी सी झिझक ही स्वच्छता अभियान में बड़ी बाधा है। पीएम मोदी की तारीफ : सीएम ने ये बातें गोरखपुर विश्वविद्यालय में स्वच्छता रैली को हरी झंडी दिखाकर रवाना करने के दौरान कहीं। उन्होंने कहा कि जो शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी वह अब आंदोलन बन चुका है। स्वच्छता को अपनाकर हम सभी पूरे समाज को स्वच्छ कर सकते हैं। स्वच्छ सर्वेक्षण 2019 में जनजागरूकता व जनसहभागिता बढ़ाने के उद्देश्य से आयोजित विशेष स्वच्छता रैली में उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि वे मिशन का हिस्सा बनें तथा लोगों को भी जागरूक करें। उन्होंने कहा कि स्वच्छता के महत्व को पूर्वांचल, खास कर गोरखपुर के लोगों से बेहतर कौन समझ सकता है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के कारण तस्वीर बदली है। लोगों में जागरूकता आई है और सफाई में बढ़ोतरी हुई है। जो गदंगी बची है वह केवल झिझक के कारण है।


  • दैनिक जागरण : 01/12/2018 जागरण संवाददाता, गोरखपुर : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने व्यक्तित्व के समग्र विकास के लिए युवाओं को अपनी आध्यात्मिक चेतना के विकास का मार्ग सुझाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत की मूल परंपरा आध्यात्मिक रही है। इसी के बल पर भारत ने विश्व का नेतृत्व किया है। यह भारत के संतों और योगियों का प्रसाद है। आज के समय में एक बार फिर आवश्यकता है कि युवा अपने शारीरिक, बौद्धिक और सांस्कृतिक अभ्युदय के लिए प्रयास करें और यह कार्य आध्यात्मिक चेतना के विकास से हो सकता है।मुख्यमंत्री शुक्रवार को दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में प्रदेश के संस्कृति विभाग के सहयोग से स्थापित हो रहे महायोगी गुरु श्री गोरक्षनाथ शोध पीठ की आधारशिला रखते हुए छात्र-छात्रओं से मुखातिब थे। उन्होंने कहा कि गुरु गोरक्षनाथ ने भारत की आध्यात्मिक व सांस्कृतिक चेतना को जागृत किया है। उनका प्रभाव गिरि-कंदराओं से लेकर झोपड़ी और राजमहलों में रहने वालों तक में रहा है। यह प्रभाव इसलिए इतना व्यापक है क्योंकि इसका दर्शन मानव कल्याण का मार्ग प्रशस्त करता है। आज के समय में नाथ पंथ के दर्शन-सिद्धांत पर अध्ययन, शोध के साथ-साथ पंथ की व्याप्ति को जन-जन तक पहुंचाया जाना आवश्यक है, जिसके लिए यह शोध पीठ उपयोगी साबित होगा। महायोगी ने कहा था कि पिंड में ही ब्रह्मांड होता है। ऐसे में हमें अपनी महत्ता और क्षमता को पहचानना चाहिए। एकाग्रता और धैर्य के साथ छात्र-छात्रओं को अपना लक्ष्य पाने के लिए प्रयास करना चाहिए। विभिन्न राज्यों के अपने हालिया दौरों की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि असोम, गुजरात, त्रिपुरा, मणिपुर, पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में भी गुरु गोरक्षनाथ के अनुयायी हैं। ऐसे में इस शोध पीठ की व्याप्ति भी व्यापक होगी। पीठ के लिए तैयार प्रारंभिक कार्ययोजना पर संतोष जताते हुए कहा शोधपीठ गुरु गोरक्षनाथ के दर्शन और आध्यात्मिक रहस्यों को भी दुनिया के सामने रखने में सफल होगी।
    Close
    आध्यात्मिक चेतना के विकास से होगा मानव का अभ्युदय
    दैनिक जागरण 01/12/2018
    जागरण संवाददाता, गोरखपुर : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने व्यक्तित्व के समग्र विकास के लिए युवाओं को अपनी आध्यात्मिक चेतना के विकास का मार्ग सुझाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत की मूल परंपरा आध्यात्मिक रही है। इसी के बल पर भारत ने विश्व का नेतृत्व किया है। यह भारत के संतों और योगियों का प्रसाद है। आज के समय में एक बार फिर आवश्यकता है कि युवा अपने शारीरिक, बौद्धिक और सांस्कृतिक अभ्युदय के लिए प्रयास करें और यह कार्य आध्यात्मिक चेतना के विकास से हो सकता है।मुख्यमंत्री शुक्रवार को दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में प्रदेश के संस्कृति विभाग के सहयोग से स्थापित हो रहे महायोगी गुरु श्री गोरक्षनाथ शोध पीठ की आधारशिला रखते हुए छात्र-छात्रओं से मुखातिब थे। उन्होंने कहा कि गुरु गोरक्षनाथ ने भारत की आध्यात्मिक व सांस्कृतिक चेतना को जागृत किया है। उनका प्रभाव गिरि-कंदराओं से लेकर झोपड़ी और राजमहलों में रहने वालों तक में रहा है। यह प्रभाव इसलिए इतना व्यापक है क्योंकि इसका दर्शन मानव कल्याण का मार्ग प्रशस्त करता है। आज के समय में नाथ पंथ के दर्शन-सिद्धांत पर अध्ययन, शोध के साथ-साथ पंथ की व्याप्ति को जन-जन तक पहुंचाया जाना आवश्यक है, जिसके लिए यह शोध पीठ उपयोगी साबित होगा। महायोगी ने कहा था कि पिंड में ही ब्रह्मांड होता है। ऐसे में हमें अपनी महत्ता और क्षमता को पहचानना चाहिए। एकाग्रता और धैर्य के साथ छात्र-छात्रओं को अपना लक्ष्य पाने के लिए प्रयास करना चाहिए। विभिन्न राज्यों के अपने हालिया दौरों की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि असोम, गुजरात, त्रिपुरा, मणिपुर, पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में भी गुरु गोरक्षनाथ के अनुयायी हैं। ऐसे में इस शोध पीठ की व्याप्ति भी व्यापक होगी। पीठ के लिए तैयार प्रारंभिक कार्ययोजना पर संतोष जताते हुए कहा शोधपीठ गुरु गोरक्षनाथ के दर्शन और आध्यात्मिक रहस्यों को भी दुनिया के सामने रखने में सफल होगी।

सर्वश्रेष्ठ समीक्षा

आपका मत

आप के विचार

  • बूचड़ खाना बंद करने पर धन्यावाद

    राजेश patodi हम यह चाहते हे की यह नियम पुरे भारत देश शक्ति से लागु किया जाये हम आशा करते हे की आप की यह मेहनत जरूर रंग लाएगी जय हिन्द जय भारत ,राजेश पटौदी म.प. इंदौर
  • शिक्षा

    अभिशेष एक अपील मोदी जी और योगी जी से की प्राइवेट स्कूल की फीस पर कोई लगाम नहीं है और उनके स्कूल मे पढ़ाया जाने वाला कोर्स बाजार भाव से पांच गुना दामों मे बेचा जा रहा है । आपसे निवेदन है कि इन दोनों बातो पर अपना ध्यान दे ।
  • संपूर्ण देखें